ADVERTISEMENTREMOVE AD

स्ट्रेस को घटाएं इन 10 पोषक तत्वों से

Published
Health News
4 min read
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा

क्या स्ट्रेस आपको भी परेशान कर रहा है? हर किसी का इन दिनों यही हाल है.

पिछले दो सालों में परिस्थितियाँ ही ऐसी रही हैं कि हर किसी के जीवन मे स्ट्रेस बढ़ गया है और यह नए तनाव उन तनावों के अतिरिक्त हैं, जिनको हम पहले से ही अपने दैनिक जीवन मे झेल रहे थे.

तभी यह स्ट्रेस, चिंता और अन्य परेशानियां जीवन का स्थायी हिस्सा लगने लगे हैं, जिसे हम हटा नहीं सकते, और जो हर दिन हमें अंदर से कमजोर कर रहे हैं.

हम हमेशा अपने जीवन से स्ट्रेस हटा तो नहीं सकते, खास कर जब स्ट्रेस ऐसी चीज़ों से होता है, जिस पर हमारा नियंत्रण न हो, पर ये आवश्यक है कि हम स्ट्रेस को बेहतर मैनेज करना सीखें.

यह तो हम जानते ही हैं कि परिस्थितियों के लिए तैयार न होने और उनके बारे में नाखुश होने से चिंता और शरीर को उस चिंता से होने वाला नुकसान, दोनों बढ़ जाते हैं.

ध्यान करना, स्ट्रेस के प्रति अपनी प्रतिक्रिया को बदलना, और सकारात्मक दृष्टिकोण रखने से मदद तो मिलती है, लेकिन निरंतर तनाव से होने वाले नुकसान को कम करने का एक और तरीका है, जो कम चर्चित है - सुनिश्चित करना है कि हर रोज पर्याप्त मात्रा में तनाव और चिंता कम करने वाले पोषक तत्वों का सेवन.

10 ऐसे पोषक तत्व जो स्ट्रेस कम करने में मदद करते हैं:

विटामिन सी

नींबू विटामिन-सी और मिनरल का अच्छा सोर्स माना जाता है
फोटो:Twitter

विटामिन सी मस्तिष्क की ब्लड-वेसेल्स, नर्व सेल्स और न्यूरोट्रांसमीटर के लिए एक अत्यंत महत्वपूर्ण पोषक तत्व है.

साथ ही यह हमारे अड्रीनल ग्लैंड में तनाव हार्मोन के उत्पादन से जुड़ा हुआ है. तभी जिन लोगों में विटामिन सी की कमी होती है वे अक्सर थकान या उदासी महसूस करते हैं.

इसके स्रोत: अमरूद, आंवला, स्ट्रॉबेरी, कीवी और खट्टे फल जैसे संतरे और नींबू.

विटामिन बी ग्रुप

विटामिन बी समूह हमारे मन और शरीर को सही रखने के लिए आवश्यक हैं.

ये सारे विटामिन - थायमिन (बी 1), नियासिन (बी 3), कोलीन (बी 4), पाइरिडोक्सिन (बी 6), फोलिक एसिड (बी 9) और कोबालामिन (बी 12) एक साथ काम करते हैं और हमारी खुशी और मानसिक स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण हैं.

सभी बी विटामिन अलग तरह से काम करते हैं, लेकिन सामूहिक रूप से वे शरीर में स्वस्थ मटैबलिज़म और ऊर्जा उत्पादन के लिए महत्वपूर्ण हैं. इससे कम थकान और अधिक उत्साहित महसूस करते हैं.

उदाहरण के लिए विटामिन बी 1, या थायमिन मस्तिष्क और नर्वस सिस्टम के स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है, और फोलेट (बी 9) और बी 6, पाइरिडोक्सिन शरीर को खुशी के हार्मोन सेरोटोनिन और नॉरपेनेफ्रिन बनाने में मदद करके मूड को नियंत्रित रखते हैं.

इसके स्रोत: इन सभी को प्राप्त करने के लिए पर्याप्त दाल, मटर, हरी सब्जियां, खट्टे फल, अंडे, सूरजमुखी के बीज, पिस्ता, आलूबुखारा, केला और कम फैट वाला दुग्ध पदार्थ खाएं.

मैग्नीशियम

मैग्नीशियम एक ट्रेस खनिज है, जिसकी आहार में कम मात्रा में आवश्यकता होती है, लेकिन क्योंकि यह शरीर में दूसरा सबसे प्रचुर मात्रा में इंट्रासेल्युलर इलेक्ट्रोलाइट है, यह अच्छे स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है.

साथ ही यह शरीर में 300 से अधिक एंजाइमी प्रतिक्रियाओं के लिए भी आवश्यक है, जो इस खनिज की कमी होने पर बंद हो जाते हैं. वास्तव में, यह अड्रीनल फटीग को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण खनिजों में से एक है.

इसके स्रोत: पत्तेदार साग, मेवा (काजू और बादाम), बीज (कद्दू, तिल), बीन्स, दाल, मछली (मैकेरल), साबुत अनाज (ब्राउन राइस), केले, सूखे अंजीर और डार्क चॉकलेट

ओमेगा-3

मछली के तेल में पाया जाने वाला ओमेगा-3एस स्ट्रेस कम करता है 

(फोटो: iStockphoto)

ओमेगा-3 एक अद्भुत पोषक तत्व है, यह मस्तिष्क में सूजन से लड़ने की क्षमता रखता है और डिप्रेशन से लड़ने में मदद करता है.

इसके स्रोत: अलसी, अखरोट और फैट-युक्त मछली.

ग्लूटामाइन (एमिनो एसिड)

ग्लूटामाइन (एमिनो एसिड) को अपने आहार में शामिल करें क्योंकि यह आपकी सॉफ्ट-टिशू को ठीक रखने की क्षमता रखता है.

इसके स्रोत: स्पिरुलिना, टोफू, पालक, चिकन, गोभी और बींस.

विटामिन डी

धूप वाले देश में रहने के बावजूद, हममें से ज्यादातर लोगों में विटामिन डी की कमी है.
(फोटो: iStockphoto)

विटामिन डी हमें सूर्य के प्रकाश से मिलता है और यह हमारे स्वास्थ्य के लिए उतना ही आवश्यक है जितना कि उचित पोषण और व्यायाम.

जब हमारी त्वचा सूर्य के प्रकाश के संपर्क में आती है, तो हमारा शरीर विटामिन डी बनाता है, जो न्यूरोनल विकास के लिए जिम्मेदार है और हमारे मूड पर सकारात्मक प्रभाव डालता है.

इसके स्रोत: हर दिन 30 मिनट धूप में रहना.

ट्रिप्टोफैन

ट्रीप्टोफन हमें खुश रहने में मदद करता है. यह अमीनो एसिड रासायनिक संदेशवाहक सेरोटोनिन को संश्लेषित करने में मदद करता है, जो मूड स्टेबलाइजर है और हमें अच्छे मूड में रखता है.

इसके स्रोत: अंडे,पनीर, अनानास, सैमन, टोफू, नट और बीज.

करक्यूमिन

करक्यूमिन की पर्याप्त मात्रा अपने आहार में शामिल करें. यह शरीर में नोरेप्रीनफरीन, डोपामाइन और सेरोटोनिन जैसे न्यूरोकेमिकलों के स्तर को बढ़ाने में मदद करता है - और हमें खुश रखता है.

इसके स्रोत: हल्दी.

सेलेनियम

सेलेनियम की कमी खराब मूड से जोड़ा गया है, इसलिए इसे अपने आहार में शामिल करें.

इसके स्रोत: ब्राजील नट्स, टूना, सूरजमुखी के बीज, और साबुत अनाज.

ज़िंक

ज़िंक मूड को प्रभावित करने के लिए प्रसिद्ध है.

जिंक भूख, नींद, कॉग्निटिव फंक्शन और मूड जैसे मस्तिष्क के कार्यों को व्यवस्थित करने में मदद करता है. इसकी कमी बहुत आम है, इसलिए सुनिश्चित करें कि आप इसे पर्याप्त मात्रा में प्राप्त करें.

इसके स्रोत: कद्दू के बीज, तिल के बीज, मूंगफली, सी-फूड, मुर्गा, अंडे, नट, साबुत अनाज, टोफू और लेग्यूम.

(कविता देवगन दिल्ली में स्थित एक पोषण विशेषज्ञ, वजन प्रबंधन सलाहकार और स्वास्थ्य लेखिका हैं. वह द डोन्ट डाइट प्लान: ए नो-नॉनसेंस गाइड टू वेट लॉस, फिक्स इट विथ फूड, अल्टीमेट ग्रांडमदर हैक्स और डोन्ट डाइट! 50 हैबिट्स ऑफ थिन पीपल, की लेखिका हैं.)

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×