ADVERTISEMENT

अक्षय संग इंटरव्यू में पीएम मोदी ने दिए फिट रहने के देसी नुस्खे

Published
Health News
4 min read
अक्षय  संग इंटरव्यू में पीएम मोदी ने दिए फिट रहने के देसी नुस्खे

रोज का डोज

निडर, सच्ची, और असरदार खबरों के लिए

By subscribing you agree to our Privacy Policy

बॉलीवुड एक्टर अक्षय कुमार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का एक 'नॉन-पॉलिटिकल' इंटरव्यू लिया. इससे पहले कई इंटरव्यू में पत्रकार पीएम मोदी से हमेशा ऊर्जावान रहने का राज और कम सोने पर सवाल कर चुके हैं.

इस इंटरव्यू में इन्हीं सवालों के साथ कुछ और सवाल किए गए, जिसमें पीएम ने जुकाम, गुस्से को कंट्रोल करना, योग, खेल पर कई टिप्स दिए.

जानिए कुछ देसी नुस्खे, जिन्हें पीएम मोदी खुद आजमा चुके हैं.

ADVERTISEMENT

1. जुकाम में गर्म पानी, व्रत और सरसों का तेल

अक्षय कुमार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का एक ‘नॉन-पॉलिटिकल’ इंटरव्यू लिया.
(फोटो: @BJP4India)

पीएम मोदी ने जुकाम से निपटने के लिए खुद के अजमाए तीन टिप्स दिए.

जुकाम में मैं पूरा समय गर्म पानी पीता हूं. दूसरा हो सके तो फास्टिंग करता हूं, इसमें पानी के अलावा और कुछ नहीं लेता. ये 24 - 48 घंटे करने की जरूरत होती है. तीसरा सरसों का तेल थोड़ा गर्म करके रात को दो-तीन बूंद नाक में डाल लेता हूं, जलन बहुत होती है, लेकिन दो दिन में ठीक हो जाता है.
पीएम नरेंद्र मोदी

फिट टिप: जुकाम होने पर गर्म पानी पीने से राहत मिल सकती है. कोई भी उपाय अपनाने से पहले डॉक्टर को जरूर दिखाएं. जुकाम का इलाज का गंभीरता पर निर्भर करती है.

ADVERTISEMENT

2. नींद पर ओबामा की मोदी को सलाह

अक्षय कुमार ने पीएम मोदी से पूछा, "आप सिर्फ तीन से चार घंटे की नींद लेते हैं, शरीर के लिए 7 घंटे सोना चाहिए, है ना?"

पीएम मोदी ने कहा, "जितने मेरे साथी हैं, डॉक्टर भी मुझसे कहते हैं कि ज्यादा नींद लीजिए. ओबामा भी इसी बात पर उलझ गए. बोले मोदी जी क्यों आप ऐसा करते हैं. जब भी मिलते हैं तो इसके बारे में पूछते हैं."

मेरी नींद कम समय में ही पूरी हो जाती है. मैं आंख खुलते ही बिस्तर छोड़ देता हूं. मेरी 18-22 साल की जिंदगी ने मुझे ये दिया है. रिटायर होने के बाद नींद बढ़ाने के बारे में सोचूंगा.
पीएम नरेंद्र मोदी

फिट टिप: कई स्टडीज और एक्सपर्ट सलाह देते हैं कि इंसान को अच्छी सेहत के लिए 7-8 घंटे की नींद लेनी चाहिए. नींद की कमी से कई दिक्कतें हो सकती हैं.

ADVERTISEMENT

3. गुस्से पर काबू करने के उपाय

पीएम मोदी ने कहा कि उन्हें गुस्सा नहीं आता.
(फोटो: @BJP4India)

गुस्सा आने के सवाल पर पीएम मोदी ने कहा, ‘अगर मैं कहूं कि मुझे गुस्सा नहीं आता है, तो बहुत लोग चौंक जाते हैं. मैंने चपरासी से लेकर प्रिंसिपल सेक्रेट्री तक किसी पर कभी गुस्सा नहीं निकाला है.’ उन्होंने कहा कि नाराजगी, गुस्सा इंसान के स्वभाव के हिस्से हैं. लेकिन मैं गुस्सा व्यक्त करने से खुद को रोक लेता हूं.

पीएम मोदी ने कहा, ‘गुस्से को कंट्रोल करने के लिए मैंने एक चीज अपनाई. कभी लगता था मेरे साथ ऐसा क्यों हुआ? ऐसे में मैं अकेला कागज लेकर बैठता था और सारी घटना को लिख देता था. फिर उसको फाड़कर फेंक देता था. मन शांत न होने पर फिर दोबारा लिखता था. इससे वो चीजें कागज से साथ ही फट जाती थीं. लिखने के बाद पता चलता था कि मैं ही गलत था.’
ADVERTISEMENT

4. खेल, योग और स्विमिंग

पीएम मोदी के मुताबिक खेलते-खेलते ही विकास होता है. जिम्मेदारी क्या होती है, टीम स्पिरिट क्या होती है, ये उन्होंने खेलों के जरिए सीखा.

बचपन में कौन सा खेल खेलते थे, इस सवाल पर मोदी ने बताया कि वो बचपन में संघ की शाखाओं में जाते थे. वहां बड़े अच्छे वैज्ञानिक खेल होते हैं, जिससे टीम स्पिरिट बढ़ती है.

मैं ग्रुप वाले खेल को हमेशा से पसंद करता था. जिंदगी जीने के लिए ग्रुप वाले खेल जरूर खेलने चाहिए. ग्रुप वाले खेल आपको टीम वर्क, लीडरशिप सिखाते हैं. 
पीएम मोदी

पीएम मोदी ने बताया कि वे योग से ज्यादा जुड़े रहे. इसके अलावा वो ज्यादातर तालाब में तैरने के लिए चले जाते थे.

मैं तालाब में कई घंटों तक स्विमिंग करता था, जिससे मेरे शरीर का विकास हुआ है.
पीएम मोदी
ADVERTISEMENT

5. आम खाने पर कंट्रोल

आम खाने के सवाल पर पीएम मोदी ने अक्षय कुमार को बताया कि उन्हें आम खाना खूब पसंद है. गुजरात में आम रस की परंपरा भी है.

जब छोटा था, तो खेतों में चला जाता और पेड़ से पके हुए आम खाता. खूब आम खाता था, लेकिन फिलहाल कंट्रोल करना पड़ता है.
पीएम मोदी

इसके अलावा पीएम मोदी ने बताया कि जब वो पहाड़ों पर चढ़ाई के लिए अकेले जाया करते थे, तो पैरों में दर्द होने पर गमछा बांध लिया करते. कैलाश यात्रा के दौरान मुंह को ठंड से बचाने के लिए कैस्टर ऑयल का इस्तेमाल करते.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×