ADVERTISEMENTREMOVE AD

Heart Health: युवाओं में क्यों बढ़ रहे हैं हार्ट अटैक के मामले?

Published
heart
3 min read
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

एक्टर सिद्धार्थ शुक्ला का निधन हो गया है. ऐसा बताया जा रहा है कि सिद्धार्थ शुक्ला की मौत हार्ट अटैक यानी दिल का दौरा पड़ने से हुई, हालांकि मुंबई के कूपर अस्पताल की ओर से कहा गया है कि अभिनेता सिद्धार्थ शुक्ला को 2 सितंबर की सुबह 10.30 बजे मृत अवस्था में अस्पताल लाया गया और मौत की वजह का अभी पता नहीं चल पाया है. उनकी मौत की वजह पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद साफ होगी.

बिग बॉस 13 के विजेता और टीवी शो बालिक वधु में अपने किरदार से काफी मशहूर होने वाले सिद्धार्थ शुक्ला 40 साल के थे.

इसी साल जून में फिल्म निर्माता और एक्ट्रेस मंदिरा बेदी के पति राज कौशल की भी कार्डियक अरेस्ट से मौत हुई, उससे पहले उन्हें दिल का दौरा पड़ा था.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

हार्ट अटैक के बढ़ते मामलों की वजह क्या है? क्यों शारीरिक रूप से फिट दिखने वाले लोगों को भी दिल का दौरा पड़ जाता है? युवाओं में हार्ट अटैक के क्या रिस्क फैक्टर हैं और हार्ट अटैक से बचने के लिए क्या किया जा सकता है?

युवाओं में बढ़ रहे हार्ट अटैक के मामले, वजह क्या है?

फोर्टिस एस्कॉर्ट्स हार्ट इंस्टीट्यूट में कार्डियक साइंसेज के एडिशनल डायरेक्टर डॉ. विशाल रस्तोगी कहते हैं, "बढ़ती उम्र दिल से जुड़ी बीमारियों और समस्याओं के उन जोखिम कारकों में से एक है, जो हमारे हाथ में नहीं है."

लेकिन 20 से 40 साल की उम्र वाले लोगों में भी हार्ट अटैक का खतरा भी समस्या बन चुकी है.

मुंबई के एशियन हार्ट इंस्टीट्यूट के सीनियर इंटरवेंशनल कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. तिलक सुवर्णा कहते हैं कि युवा लोगों में भी ज्यादातर हार्ट अटैक के लिए वही रिस्क फैक्टर जिम्मेदार होते हैं, जो दिल की दूसरी बीमारियों का भी जोखिम बढ़ाते हैं.

हार्ट अटैक का रिस्क बढ़ाने वाले कारक:

  • डायबिटीज

  • हाई ब्लड प्रेशर

  • परिवार में दिल की बीमारी या हार्ट अटैक का इतिहास

  • हाई कोलेस्ट्रॉल

  • स्मोकिंग यानी धूम्रपान

डॉ. सुवर्णा कहते हैं, "हार्ट अटैक के मामले में बढ़ता स्ट्रेस यानी तनाव एक और महत्वपूर्ण जोखिम कारक है, जो विशेष रूप से इस कोरोना महामारी के दौरान देखा गया है."

0

हार्ट अटैक के लक्षण और कार्डियक इमरजेंसी

  • सीने में तकलीफ- हार्ट अटैक के ज्यादातर मामलों में सीने के बीच तकलीफ होती है, जो कुछ मिनट से ज्यादा तक हो सकती है या ऐसा भी हो सकता है कि कुछ मिनट तकलीफ हो, फिर ठीक हो जाए और फिर तकलीफ होने लगे. सीने पर दबाव, भारीपन या दर्द महसूस हो सकता है.

  • शरीर के ऊपरी हिस्से में परेशानी- एक या दोनों बांह, बैक, गर्दन, जबड़े या पेट में दर्द जैसे लक्षण हो सकते हैं.

  • सांस में तकलीफ- ऐसा सीने में परेशानी के साथ या उसके बगैर हो सकता है.

  • दूसरे लक्षण- अन्य संभावित संकेतों में ठंडा पसीना, मिचली या चक्कर आना शामिल है.

डॉ तिलक सुवर्णा के मुताबिक गंभीर रूप से लगातार सीने में दर्द होना, सांस फूलना या हांफना, चेतना की कमी या बेहोशी महसूस करना, पसीना आना कार्डियक इमरजेंसी के संकेत हैं.

ADVERTISEMENT

हार्ट अटैक का रिस्क घटाने के लिए हम क्या कर सकते हैं?

डॉ. सुवर्णा कहते हैं कि हार्ट अटैक और दिल की बीमारियों के जोखिम कारकों को जल्दी पहचानना और इनके उपाय करना दिल के दौरे को रोकने में बड़ी भूमिका निभाता है.

"इसलिए ऐसे जोखिम कारकों का पता लगाने और फिर जोखिम को नियंत्रित और कम करने के लिए 30 की उम्र से पूरा हेल्थ चेकअप कराना महत्वपूर्ण है."
डॉ. तिलक सुवर्णा, सीनियर इंटरवेंशनल कार्डियोलॉजिस्ट, एशियन हार्ट इंस्टिट्यूट, मुंबई

वहीं तनाव को मापना मुश्किल है और इसलिए इसे जीवनशैली में बदलाव जैसे योग, ध्यान और शारीरिक व्यायाम से मैनेज करना अहम है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENTREMOVE AD
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
×
×