ADVERTISEMENTREMOVE AD

सेक्सॉल्व: 'इन दिनों मेरा अकेलापन मुझे कचोट रहा है'

Updated
let-us-talk-sex
6 min read
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

(चेतावनी: कुछ सवाल आपको विचलित कर सकते हैं. पाठक को पढ़ने से पहले विवेक का इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती है.)

सेक्सॉल्व समता के अधिकार के पैरोकार हरीश अय्यर का फिट पर सवाल-जवाब पर आधारित कॉलम है.

अगर आपके मन में सेक्स, सेक्स के तौर-तरीकों या रिलेशनशिप से जुड़े कोई सवाल हैं, और आपको किसी तरह की सलाह की जरूरत है, किसी सवाल का जवाब चाहते हैं या फिर यूं ही चाहते हैं कि कोई आपकी बात सुन ले- तो हरीश अय्यर को लिखें, और वह आपके लिए ‘सेक्सॉल्व’ करने की कोशिश करेंगे. आप sexolve@thequint.com पर मेल करें.

पेश हैं इस हफ्ते के सवाल-जवाबः

ADVERTISEMENTREMOVE AD

“मेरा बॉयफ्रेंड मेरे पेशे को नीची नजर से देखता है”

"मुझे पसंद नहीं कि वह मेरी या मेरे पेशे की बेइज्जती करे."

(फोटो: iStock)

डियर रेनबोमैन,

मैं 29 साल की महिला हूं. मैं इस समय भारत में नहीं हूं, लेकिन अपने उस काम से खुश हूं, जो मैं करती हूं.

मैं कई सालों से कोई काम करना चाहती थी. मुझे कहीं नौकरी नहीं मिली. इसके बाद मैं अपने परिवार के साथ रहने के लिए एम्स्टर्डम चली गई.

मेरे मां-बाप 5 साल बाद भारत लौट गए, मैं यहीं रुक गई. अपना घर चलाने के लिए मैं एक हाई प्रोफाइल एस्कॉर्ट बन गई. मैंने अपने क्लाइंट्स के साथ सेक्स किया और मुझे इसमें कुछ भी गलत नहीं लगता. यह यहां गैरकानूनी नहीं है.

हालांकि कुछ ऐसा है जो मेरी जिंदगी में मुश्किल पैदा कर रहा है.

मेरे मां-बाप जानते हैं कि मैं एस्कॉर्ट हूं, लेकिन वे यह नहीं जानते कि मैं सेक्स वर्क भी करती हूं.

0

अब, मेरी जिंदगी की मुश्किल यह है कि मैं हाल ही में छुट्टियों में भारत में रहने के दौरान एक भारतीय शख्स से मिली. उसे मुझसे प्यार हो गया और मुझे भी. हमने पूरा सेक्स नहीं किया, लेकिन हल्का-फुल्का सेक्स हुआ.

मैंने हाल ही में उसे अपने काम के बारे में बताया और बताया कि मैं क्या करती हूं. उसने नाराजगी से कहा कि उसे नहीं पता था कि वह एक कॉमर्शियल सेक्स वर्कर से प्यार करता है.

वह मुझसे ठीक से बात नहीं कर रहा है और जब बात करता भी है तो बहुत अपमानजनक लहजे में बात करता है. मुझे पसंद नहीं है कि वह हर समय मेरी बेइज्जती करे.

मुझे पसंद नहीं कि वह मेरी या मेरे पेशे की बेइज्जती करे. मैं गहरी तकलीफ में हूं. मैं उसे प्यार करना छोड़ नहीं पा रही हूं. मुझे क्या करना चाहिए?

होठों पर झूठी मुस्कान वाली लड़की

ADVERTISEMENT

डियर लड़की,

मुझे लिखने के लिए आपका बहुत-बहुत शुक्रिया और अपनी जिंदगी अपनी शर्तों पर जीते हुए मिसाल कायम करने के लिए और ज्यादा शुक्रिया.

उदास होना सहज है. उस पर गुस्सा होना लाजिमी है. लाचार महसूस करना आम बात है. आप इससे उबर जाएंगी. बस खुद पर यकीन रखिए कि आप यह कर लेंगी.

मुझे पूरा यकीन है कि आपके पेशे के चुनाव के बारे में बहुत से भारतीय पुरुष ज्यादा अच्छी राय नहीं रखते होंगे. उनकी अपनी असुरक्षाएं और आशंकाएं हो सकती हैं, चाहे वो कितनी भी गलत क्यों न हों, उसे ऐसा सोचने का हक है. लेकिन उसे आपके साथ अपमानजनक बर्ताव करने का कोई हक नहीं है. असम्मान बेवफाई जितना ही बुरा है.

अगर आपका प्यार सच्चा है, तो बेवफाई से चोट लगेगी ही.

मुझे पता है कि सेक्स वर्क को लेकर लोग अलग-अलग तरह की राय रखते हैं. मेरी भी अपनी राय है और अगर आप सेक्स वर्क करना चाहती हैं तो आपको बिना किसी का फैसला थोपे ऐसा करने की इजाजत दी जानी चाहिए.

ADVERTISEMENTREMOVE AD
मेरी राय में- 'सेक्स वर्क' काम है. आप अपने शरीर के साथ जो करते हैं, वह आपकी चिंता है. आपको ऐसी हालत में नहीं रखा जाना चाहिए, जहां आपको अपने पेशे और प्यार के बीच चुनाव करना पड़े.

इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप अपने लिए कौन सा पेशा चुनती हैं.

आप एक आजाद ख्याल महिला हैं और मैं दुआ करता हूं कि आप ऐसी ही बने रहें. आप अपनी मर्जी की मालिक हैं और आपकी अपनी सोच है. किसी और के लिए इसे न छोड़ें.

अगर कोई आपसे प्यार करता है, तो वो आपकी समूची पर्सनैलिटी को प्यार करेगा. अगर आप ऐसा कोई चाहती हैं तो आपको कोई ऐसा मिल जाएगा.

अगर आपका दिल प्यार की चाहत रखता है, तो उसे प्यार मिल जाएगा. आपका दिल फिर किसी के लिए धड़केगा और अगर आपके बॉयफ्रेंड को आना है, तो वह वापस लौट कर आएगा, लेकिन फिर उसे आपके लिए इस तरह के जहर भरे लफ्जों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए.

आपके बॉयफ्रेंड को काउंसलिंग और थेरेपी की जरूरत है. वैसे, उसके लिए काउंसलर ढूंढना आपकी जिम्मेदारी नहीं है. काश वह बेहतर हो सकता. मैं उसके ठीक होने की दुआ करता हूं.

कोई भी किसी को यह कहने वाला कौन होता है कि उसे अपने शरीर के साथ क्या करना है.

बस यह पक्का करने की जरूरत है कि वह यह जबरदस्ती नहीं कर रहा है और सभी जेंडर के सेक्स वर्कर को अपनी बात कहने और अपनी पसंद का चुनाव करने का हक है.

मुस्कान के साथ

रेनबो मैन

अंतिम बातः आपको यह कहने से रोकने का किसी को कोई हक नहीं है कि आपको अपने पेशे पर गर्व है.

ADVERTISEMENT

"इन दिनों मेरा अकेलापन मुझे कचोट रहा है"

"काश कोई ऐसी जगह होती जहां हम सबको प्यार मिलता." 

(फोटो: iStock)

प्रिय रेनबोमैन,

मैं 48 साल का गे पुरुष हूं. मुझे लगता है कि मैं अकेला मर जाऊंगा. मैं इन दिनों अकेला महसूस कर रहा हूं क्योंकि मेरे पास कोई नहीं है. मैं कैसे प्यार हासिल करूं?


लव

ADVERTISEMENTREMOVE AD

डियर लव,

मुझे लिखने के लिए शुक्रिया.

मैं जानता हूं कि कभी-कभी अकेलेपन का डर हमें घेर लेता है. मैं यह नहीं कह सकता कि मुझे पता है कि आप कैसा महसूस कर रहे हैं, मगर मुझे इसका अंदाजा है. यह डर मुझे भी था. लेकिन फिर मुझे एक बार नहीं, बल्कि 3 बार प्यार हुआ और हर बार जब मेरा रिश्ता टूटा तो मेरे मन का एक कोना भी टूट गया. मुझे अपने दिल के टूटे हिस्से को ठीक करने में कई साल लग गए. जिन लोगों से मुझे प्यार हुआ, वे शानदार थे, खासकर आखिरी 2. लेकिन गंभीरता से कहूं तो मैं तब भी अकेला था जब मैं रिलेशनशिप में था.

काश कोई ऐसा जगह होती जहां हम सभी को प्यार मिल जाता. मैं चाहता हूं कि हर जगह ऐसा ठिकाना हो जहां हमें प्यार मिले. प्यार भी अजीब है, यह हमसे दूर भागता है और जब मिल जाता है तो हमारा दम घोंट देता है.
ADVERTISEMENT

तब मैंने तय किया कि पहला लव अफेयर खुद के साथ ही हो. मैं अपने पार्टनर से जितना प्यार करता हूं, उससे कहीं ज्यादा मैं खुद से प्यार करता हूं. और अगर कोई पार्टनर नहीं है, तब भी मैं खुद से प्यार करूंगा और इससे संतुष्ट रहूंगा.

मैं आपके दर्द को कमतर आंकने की कोशिश नहीं कर रहा हूं और मैं आपको मेरे रास्ते पर चलने के लिए भी नहीं कह रहा हूं. मैं सिर्फ एक वैकल्पिक नजरिया आपसे साझा कर रहा हूं.

अपने अकेलेपन को भरने के लिए प्यार ना तलाशें. इसलिए प्यार करें क्योंकि आप प्यार करते हैं.

प्लीज अपना ख्याल रखें. अगर आप बहुत ज्यादा सदमा महसूस कर रहे हैं तो काउंसलर से मिलने में हिचकिचाएं नहीं.

सप्रेम

रेनबोमैन

अंतिम बात: जिंदगी में अच्छे दिन भी आते हैं.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

"मेरे टेस्टिकल्स में अक्सर दर्द रहता है"

टेस्टिकल्स में दर्द, क्या कोई गंभीर समस्या है?

(फोटो: iStock)

डियर रेनबोमैन,

मेरे टेस्टिकल्स में अक्सर दर्द रहता है... क्या कोई गंभीर समस्या है?

फिक्रमंद जो

डियर जो,

प्लीज शारीरिक जांच के लिए डॉक्टर से मिलें. प्लीज देरी न करें. मैं आपको यह बताने की हालत में नहीं हूं कि यह गंभीर बात है या नहीं.

आप के लिए शुभकामनाएं.

रेनबो मैन

अंतिम बात: प्लीज डॉक्टर से फौरन मिलें!

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
×
×