ADVERTISEMENT

फाइजर वैक्सीन को भारत में मंजूरी फाइनल स्टेज में: कंपनी के CEO

फाइजर को उम्मीद है कि वो जल्द ही भारत सरकार से करार को अंतिम रूप दे देगी

Published
फिट
2 min read
फाइजर वैक्सीन को भारत में मंजूरी फाइनल स्टेज में: कंपनी के CEO
i

कोरोना वैक्सीन मेकर फाइजर के सीईओ अलबर्ट बूर्ला ने कहा है कि फाइजर वैक्सीन को भारत में मंजूरी आखिरी चरण में है. कंपनी को उम्मीद है कि वो जल्द ही भारत सरकार से करार को अंतिम रूप दे देंगे. पिछले कई दिनों से फार्मास्युटिकल कंपनी फाइजर भारत में अपनी COVID-19 वैक्सीन के लिए 'जल्द मंजूरी' की मांग के साथ सरकार से बात कर रही है.

ADVERTISEMENT
सीईओ बूर्ला ने बताया था कि कंपनी अपने अमेरिका, यूरोप और एशिया स्थित वितरण केंद्रों से सात करोड़ डॉलर (करीब 510 करोड़ रुपये) की दवाएं भारत के लिए भेज रही है.

उन्होंने फाइजर इंडिया के कर्मचारियों को भेजे मेल में कहा था ‘‘हम भारत में COVID-19 के हालात से अत्यधिक चिंतित हैं, और दिल से आपके, आपके प्रियजनों और भारत के सभी लोगों के साथ हैं.’’ उन्होंने यह मेल लिंक्डइन पर पोस्ट किया है. फाइजर के CEO ने कहा, ‘‘हम इस बीमारी के खिलाफ भारत की लड़ाई में भागीदार बनने के लिए प्रतिबद्ध हैं और अपनी कंपनी के इतिहास में सबसे बड़ी मानवीय राहत के लिए तेजी से काम कर रहे हैं.’’

फाइजर ने वापस लिया था अपना आवेदन, ये थी वजह

फाइजर ने अपनी वैक्सीन के लिए दिसंबर में भारत के ड्रग रेग्युलेटर (DCGI) से अनुमति मांगी थी. इसके बाद केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन की विषय विशेषज्ञ समिति (SEC) ने फाइजर के आवेदन पर विचार किया था और उसकी वैक्सीन को मंजूरी देने के खिलाफ सिफारिश की थी.

भारत में फिलहाल सिर्फ तीन कोरोना वायरस वैक्सीन को ही इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी मिली है. सबसे पहले भारत ने एस्ट्राजेनेका की कोविशील्ड और भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को मंजूरी दी थी. इसके बाद भारत ने रूसी कोरोना वैक्सीन स्पूतनिक को भी इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी दी थी.
ADVERTISEMENT

अब सरकार ने विदेशी वैक्सीनों के लिए तेज की मंजूरी की प्रक्रिया

भारत सरकार ने देश में कोरोना वायरस वैक्सीन की उपलब्धता बढ़ाने के लिए विदेश में बनी वैक्सीनों को मंजूरी देने की प्रक्रिया तेज कर दी है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, प्रमुख विदेशी वैक्सीन के एलिजिबल मैन्युफैक्चरर्स को अब भारत में (मंजूरी से पहले) अलग से लोकल क्लीनिकल ट्रायल करने की जरूरत नहीं होगी.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
×
×