ADVERTISEMENTREMOVE AD

पीरियड क्रैम्प्स: जानें कारण और मैनेज करने के आसान टिप्स

पीरियड क्रैम्प से छुटकारा पाने के लिए इन घरेलू उपचारों का पालन करें.

Published
फिट
3 min read
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

पीरियड्स दर्दनाक, अनकम्फर्टेबल और परेशान करने वाले होते है और महिलाओं को हर महीने इससे गुजरना पड़ता है. वे चाहे उसे कितना ही सरल दिखाएं - ऐसा होता नहीं है.

पीरियड कई अन्य लक्षणों के साथ आता है, जैसे ऐंठन, दस्त, कब्ज, अपच और मतली. हर महिला का अनुभव अलग हो सकता है लेकिन यह आसान कभी नहीं होता. यूएस नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ के अनुसार, आधी से ज्यादा महिलाओं को पीरियड क्रैम्प होता है.

लेकिन क्या इससे छुटकारा पाया जा सकता है? दवाओं के अलावा, वैज्ञानिक रूप से सिद्ध अन्य स्ट्रेटजी और उपचार हैं, जिनका उपयोग किया जा सकता है - हम यहां उनमें से कुछ के बारे में बात करेंगे, जो उपयोग में आसान हैं और पीरियड्स को कम दर्दनाक बनाने की क्षमता रखते हैं.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

हम पीरियड क्रैम्प्स का अनुभव क्यों करते हैं?

मेयो क्लिनिक के डॉक्टरों के अनुसार, ऐंठन को पेट में थ्रोबिंग पेन के रूप में वर्णित किया जा सकता है, जो हल्के से लेकर गंभीर तक हो सकता है. यह दर्द हर महिला में अलग-अलग ढंग और स्तर का हो सकता है. कुछ के लिए, यह इतना कष्टप्रद हो जाता है कि उन्हें अपने दैनिक कार्य को पूरा करने में कठिनाई होती है.

यह एंडोमेट्रियोसिस या यूट्रस में फाइब्रॉएड के कारण हो सकता है लेकिन सामान्य तौर पर, यह जन्म देने के बाद उम्र के साथ कम हो जाता है. इसके लक्षणों में शामिल हैं:

  • पेट के निचले हिस्से में दर्द

  • पीरियड से 1-2 दिन पहले से दर्द

  • मेंस्ट्रुएशन की शुरुआत के 24 घंटों के बाद से गंभीर दर्द

  • पूरे पीरियड की अवधि में हल्का दर्द

मेंस्ट्रुअल क्रैम्प में योगदान देने वाले जोखिम कारकों में शामिल हैं:

  • धूम्रपान

  • 11 वर्ष या उससे कम उम्र में प्यूबर्टी

  • 30 से कम उम्र का होना

  • पीरियड के दौरान भारी रक्तस्राव

  • मेंस्ट्रुअल क्रैम्प का इतिहास

  • अनियमित पीरियड

क्लीवलैंड क्लिनिक के डॉक्टरों द्वारा बताए गए मेंस्ट्रुअल क्रैम्प के कारण:

  • एंडोमेट्रियोसिस

  • प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम (पीएमएस)

  • यूट्रस में फाइब्रॉएड

  • पेल्विक इंफ्लेमेटरी डिजीज

  • एडेनोमायोसिस

  • सर्वाइकल स्टेनोसिस

गर्मी का लाभ उठाएं

पब मेड सेंट्रल के अनुसार, आप दर्द से राहत के लिए पेट और पीठ की हीट थेरेपी के लिए गर्म पानी की थैली, गर्म पानी की बोतल या गर्म तौलिये का उपयोग कर सकते हैं. हीट थेरेपी बिना किसी साइड इफेक्ट के मसल टेंशन कम करने में, पेट के मसल को आराम देने में, ब्लड फ्लो बढ़ाने में और दर्द को दूर करने में मदद करती है.

एनआईएच के अनुसार, हीट थेरेपी लोकल ब्लड, फ्लूइड रिटेंशन, स्वेलिंग और कंजेशन, जो नर्व कम्प्रेशन के कारण दर्द बढ़ाती हैं, से छुटकारा पाने में भी मदद करती है.

0

एसेंशियल ऑइल्स का उपयोग करें

पबमेड सेंट्रल के अनुसार, एसेंशियल ऑइल्स के साथ पेट की मालिश करने या अरोमाथेरेपी के लिए उनका उपयोग करने से दर्द को कम करने के साथ-साथ पीरियड के अन्य लक्षणों जैसे मतली, चक्कर आना और सिरदर्द को कम करने में भी मदद मिल सकती है. उपयोग किए जाने वाले सामान्य एसेंशियल ऑइल्स लैवेंडर, सौंफ, पुदीना और गुलाब होते हैं.

आप इनमें से किसी भी तेल का उपयोग कैरियर तेल के साथ प्रभावित क्षेत्रों की मालिश करने के लिए कर सकते हैं. कैरियर तेल न्यूट्रल तेल होते हैं और जो एसेंशियल ऑइल्स को आसानी से लगाने में मदद करते हैं. आप नारियल, ऐवकाडो, आमन्ड या ऑलिव ऑयल का प्रयोग कैरियर तेल के रूप में कर सकते हैं. एक चम्मच कैरियर तेल के साथ एसेंशियल तेल की एक बूंद मिलाएं.

एक्यूपंक्चर

जर्नल ऑफ ह्यूमन रिप्रोडक्शन अपडेट के अनुसार, पीरियड का दर्द 95% महिलाओं को प्रभावित करता है और एक्यूपंक्चर इससे राहत दिला सकता है. शोधकर्ताओं ने साबित किया है कि नियमित एक्यूपंक्चर से दर्द की तीव्रता कम होती है, और अन्य लक्षणों में भी सुधार आता है.

यह मांसपेशियों को आराम देने में मदद करता है, सूजन को कम करता है, और एंडोर्फिन के उत्पादन में मदद करता है, जो रिलैक्स करने में मदद करता है.

ADVERTISEMENT

अपने रूटीन में हल्की एक्सरसाइज को शामिल करें

इसमें कोई शक नहीं कि पीरियड्स के दौरान हमारा एक्सरसाइज करने या बिस्तर से उठने का बिल्कुल मन नहीं करता है. यह एंडोर्फिन और प्रोजेस्टेरोन के निम्न स्तर के कारण होता है, जो हमें सुस्त महसूस कराता है.

हालांकि, अध्ययनों ने साबित कर दिया है कि अपने नियमित व्यायाम दिनचर्या को जारी रखने से दर्द और मेंस्ट्रुअल क्रैम्प को कम करने में मदद मिल सकती है. हेल्थलाइन के अनुसार, आप वॉक, हल्का स्ट्रेंथ ट्रेनिंग, योग या पिलेट्स कर सकती हैं. अपने शरीर की सुनें और एक्सर्साइज की तीव्रता कम रखें ताकि शरीर रिकवर कर सके.

कुछ आहार परिवर्तन करें

क्लीवलैंड क्लिनिक के डॉक्टरों के अनुसार, छोटे आहार परिवर्तन भी आपके पीरियड के लक्षणों जैसे सूजन, जलन और मेंस्ट्रुअल क्रैम्प को कम कर सकते हैं.

ऐंठन को कम करने के लिए आप अपने आहार में ताजे फल और सब्जियां, नट्स, डेयरी मुक्त दूध, कम नमक और शुगर युक्त ड्रिंक, और आयरन या ओमेगा -3 युक्त खाद्य पदार्थ जोड़ें. कैमोमाइल और सौंफ जैसी हर्बल चाय भी दर्द को दूर करने में मदद कर सकती है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENTREMOVE AD
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
×
×