ADVERTISEMENTREMOVE AD

WHO ने भारत निर्मित कफ सिरप पर जारी किया मेडिकल अलर्ट, इसका क्या मतलब है?

WHO ने चेतावनी दी है कि यह प्रोडक्ट असुरक्षित है.

Published
फिट
2 min read
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

एक और भारत निर्मित खांसी की दवा WHO द्वारा 'कॉन्टैमिनेटेड' होने के कारण आलोचना के घेरे में आ गई है. मार्शल आइलैंड्स और माइक्रोनेशिया (ऑस्ट्रेलिया) में मिली गुइफेनेसिन सिरप की एक 'सब-स्टैंडर्ड' बैच पर WHO ने एक मेडिकल प्रोडक्ट अलर्ट जारी किया गया.

मेडिकल प्रोडक्ट अलर्ट का क्या मतलब है? इसका इस खांसी की दवा पर क्या प्रभाव पड़ेगा? पता लगाने के लिए आगे पढ़ें.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

क्या हुआ: 25 अप्रैल को जारी एक बयान में, WHO ने कहा कि मार्शल आइलैंड्स से गुइफेनेसिन सिरप के नमूनों का परीक्षण ऑस्ट्रेलिया के थेराप्यूटिक गुड्स एडमिनिस्ट्रेशन (TGA) द्वारा किया गया था. विश्लेषण में पाया गया कि उत्पाद में डायथिलीन ग्लाइकॉल (DEG) और एथिलीन ग्लाइकोल की अनऐक्सेप्टेबल (unacceptable) मात्रा थी.

WHO ने पता लगाया कि प्रोडक्ट के निर्माता पंजाब स्थित QP फार्माकेम लिमिटेड है.

प्रोडक्ट को मार्केट, हरियाणा स्थित ट्रिलियम फार्मा करता है.

WHO ने अपने बयान में यह भी कहा, "अभी तक कथित निर्माता और मार्केटर ने इन प्रॉडक्ट्स की सुरक्षा और गुणवत्ता पर गारंटी प्रदान नहीं की है."

यह क्यों मायने रखती है: WHO ने चेतावनी दी है कि यह प्रोडक्ट असुरक्षित है और विशेष रूप से बच्चों में इसके उपयोग से गंभीर बीमारी या मृत्यु हो सकती है.

डायथिलीन ग्लाइकॉल और एथिलीन ग्लाइकॉल, विशेष रूप से, सेवन किए जाने पर मनुष्यों के लिए बहुत जहरीला हो सकते हैं और इससे पेट में दर्द, उल्टी, दस्त, सिरदर्द, किडनी की बीमारी और मृत्यु भी हो सकती है.

मुख्य बात: यह पहली बार नहीं है जब भारत में निर्मित कफ सिरप पर DEG पॉइजनिंग का आरोप लगाया गया है. अभी कुछ ही महीने पहले, भारत के DEG कॉन्टैमिनेटेड कफ सिरप गाम्बिया और आसपास के इलाकों में 60 से अधिक बच्चों और उज्बेकिस्तान में 18 बच्चों की मौत से जुड़े थे.

0

एक 'मेडिकल प्रोडक्ट अलर्ट' सब्सटेंडर्ड मेडिकल उन प्रोडक्टों के प्रति WHO की प्रतिक्रिया है, जो इंटरनेशनल पब्लिक हेल्थ के लिए खतरनाक हो सकते हैं.

WHO के अनुसार, एक मेडिकल प्रोडक्ट अलर्ट तब जारी किया जाता है, जब किसी दवा या मेडिकल प्रोडक्ट का परीक्षण किया जाता है और यहां नीचे बताए गए पॉइंट्स उसमें मौजूद होते हैं:

  • रिपोर्ट को वैलिडेट (validated) किया गया है (उदाहरण के लिए लैब्रटॉरी अनैलिसिस के माध्यम से).

  • यह सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए एक वास्तविक और बड़ा खतरा है.

  • जोखिम उस देश से बाहर तक फैला हुआ है, जहां उत्पाद की खोज की गई थी.

  • उस मेडिकल प्रोडक्ट के संबंध में चेतावनी या अलर्ट पहले ही जारी किए जा चुके हैं.

  • सप्लाई चेन से उत्पाद को हटाने के लिए पर्याप्त कदम नहीं उठाए गए हैं.

  • यह एक हालिया रिपोर्ट है और SF उत्पाद के अभी भी सर्कुलेशन में होने की आशंका है.

जरूरी कदम: अलर्ट घटना के स्टेकहोल्डरों को चेतावनी देने के लिए जारी की जाती है ताकि इन उत्पादों से प्रभावित होने वाले देशों और क्षेत्रों की सप्लाई चेन में निगरानी और ध्यान को बढ़ाया जा सके.

दूसरे देशों के स्वास्थ्य अधिकारियों को भी WHO को सूचित करने की सलाह दी गई है अगर यह उत्पाद उनके देश में पाए जाते हैं.

हालांकि, इसका मतलब यह नहीं है कि WHO या कोई हेल्थ अथॉरिटी दवा निर्माण करने वाली कंपनी के खिलाफ सीधी कार्रवाई कर रहा है. यह भारत के स्वास्थ्य अधिकारी कर सकते हैं.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
×
×