(सांकेतिक फोटो: iStock)
| 1 मिनट में पढ़िए

नोटबंदी के बाद 3-4 लाख करोड़ रु. बिना हिसाब वाली रकम बैंक में जमा!

केंद्र की नोटबंदी योजना अपने मकसद में कहां तक कामयाबी होगी, इसका मुकम्‍मल जवाब सामने आने में वक्‍त लगेगा. लेकिन एक सीनियर अधिकारी ने इस बारे में कुछ आंकड़े पेश किए हैं. इस जानकारी के आधार पर आयकर विभाग और प्रवर्तन निदेशालय बैंक खातों की जांच में जुट गया है.

अधिकारी ने बताया कि नोटबंदी के बाद 3 से 4 लाख करोड़ रुपये की अब तक अलग रखी गई आय को बैंकों में जमा कराया गया है. विभाग इनके ब्‍योरे की जांच कर रहा है.

  • नोटबंदी के बाद 60 लाख से अधिक बैंक खातों में दो लाख करोड़ रुपये से अधिक राशि जमा की गई.
  • 9 नवंबर के बाद पूर्वोत्तर राज्यों में विभिन्न बैंक खातों में 10,700 करोड़ रुपये से अधिक नकद राशि जमा कराई गई.
  • आयकर विभाग, प्रवर्तन निदेशालय सहकारी बैंकों के विभिन्न खातों में जमा कराई गई 16,000 करोड़ रुपये से अधिक राशि की जांच पड़ताल कर रहा है.
  • नोटबंदी के बाद निष्क्रिय बैंक खातों में 25,000 करोड़ रुपये नकद जमा कराए गए.
  • नोटबंदी के बाद करीब 80,000 करोड़ रुपये के कर्ज का भुगतान नकद राशि में किया गया.

-इनपुट :भाषा