ADVERTISEMENT

क्या हेल्दी बच्चों को कोविड वैक्सीन की जरूरत है? जानिए डॉ कांग से

Dr Gagandeep Kang से जाने सबसे पहले किन बच्चों को वैक्सीन लेने की जरूरत है

Updated
<div class="paragraphs"><p>बच्चों को कोविड वैक्सीन</p></div>
i

सबजेक्ट कमेटी के अनुसार(SEC) 2-18 साल के बच्चों के लिए कोवाक्सिन के इस्तेमाल के लिए ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DGCI) को सिफारिश की है. और डीसीजीआई द्वारा अंतिम मंजूरी का इंतजार है.

ADVERTISEMENT

अब सवाल उठ रहा है कि क्या बच्चों के लिए टीकों की आवश्यकता है ? इसे सबसे पहले किसे देना चाहिए ? और उन्हें कब रोल आउट किया जाएगा, और आखिरकार डेटा कहां है.

इन सभी सवालों के जवाब जानने के लिए द क्विंट ने डॉ गगनदीप कंग से बातचीत की. डॉ. गगनदीप कांग ने कहा कि 25,000 लोगों और 500 से अधिक बच्चों के वयस्क परीक्षणों के संदर्भ में पर्याप्त डेटा है ताकि एसईसी यह निष्कर्ष निकाल सके कि टीका सुरक्षित है. उन्होंने कहा कि जबकि भारत बायोटेक, कोवैक्सिन के निर्माता, नैदानिक ​​परीक्षणों के विवरण साझा करने के लिए बाध्य नहीं थे, डेटा को व्यापक जांच के लिए उपलब्ध कराया जाना चाहिए.

टीका किसे लगवाना चाहिए?

सरकार ने पहले कहा है कि बच्चों के लिए टीकों का रोलआउट अक्टूबर से शुरू होगा, जिसमें सबसे कमजोर बच्चों को प्राथमिकता दी जाएगी.

क्या टीकाकरण वयस्कों की तरह लागू होगा ?

नहीं, सरकार बच्चों के लिए जरूरी टीकों को उसी तरह लागू नहीं करेगी जैसे वयस्कों के लिए किया था.अभी भी एक महत्वपूर्ण वयस्क आबादी का टीकाकरण किया जाना बाकी है.

क्या कमजोर बच्चों को पहले टीका लगाया जाना चाहिए?

मुझे लगता है कि हमें इस पर विचार करने की आवश्यकता है. एक निष्क्रिय टीके के साथ गंभीर बीमारी वाले बच्चों को टीका लगाना आम तौर पर सुरक्षित होना चाहिए.

क्या वैक्सीन लेने के बाद बच्चों की मॉनिटरिंग करनी होगी ?

उन्होंने जोर देकर कहा कि बच्चों में इम्यून सिस्टम प्रतिक्रिया को मापने के लिए किसी भी रोलआउट के साथ बहुत सख्त निगरानी होनी चाहिए ताकि यह देखा जा सके कि टीका बच्चों के किसी विशेष ग्रुप के लिए काम करता है या नहीं.

ADVERTISEMENT
"हमें उन बच्चों में 60 प्रतिशत कवरेज मिला है, जिन्हें बिल्कुल भी टीका नहीं मिला है. क्या हमें वास्तव में उन बच्चों को टीका लगाने की ज़रूरत है, जिनके पास पहले से ही जोखिम हो सकता है? हमारे पास भारत में पर्याप्त डेटा नहीं है कि स्वस्थ बच्चे COVID पर कैसे प्रतिक्रिया करते हैं- 19. वास्तव में वे वास्तव में अच्छा करते हैं. भले ही हमारे पास पर्याप्त टीके हों, फिर भी मुझे स्वस्थ बच्चों को टीकाकरण के लाभों पर संदेह है.

क्या पहली वैक्सीन बच्चों के लिए सर्वश्रेष्ठ हो सकती है ?

जब तक सभी वयस्कों को टीका लगाया जाता है, तब तक हमारे पास बेहतर डेटा हो सकता है कि इन टीकों ने दूसरे देशों के बच्चों पर कैसे काम किया है. जिन बच्चों के आगे लंबा जीवन है, उनके लिए पहला टीका सबसे अच्छा नहीं हो सकता है. हम पाते हैं कि एमआरएनए वैक्सीन का दूसरा संस्करण हो सकता है जो बेहतर करता है. मुझे लगता है कि अन्य कंपनियों को भी बच्चों की वैक्सीन बनाने पर विचार करना चाहिए.

सार्वजनिक रूप से उपलब्ध डेटा की कमी पर

डॉ. कांग ने कहा कि हालांकि कंपनी जनता के साथ डेटा साझा करने के लिए बाध्य नहीं थी, लेकिन जांच के लिए जितना संभव हो उतना डेटा उपलब्ध कराने के प्रति उनका पर्सनल मामला है. लेकिन उन्होंने अधिक महत्वपूर्ण डेटा की आवश्यकता पर भी जोर दिया, जो कि इन टीकों का वास्तविक विश्व प्रभावशीलता डेटा है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Published: 
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT