ADVERTISEMENTREMOVE AD

Indian Railways: रेलवे माल ढुलाई में देरी पर दे सकता ‘कैशबैक’

Published
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

भारतीय रेलवे माल ढुलाई को आकर्षक बनाने के लिये अलग-अलग उपायों पर गौर कर रहा है. इसके तहत माल भाड़े से कमाई बढ़ाने के लिये लंबी दूरी के वस्तुओं के परिवहन पर कुछ छूट और देरी से डिलिवरी पर ‘कैशबैक’ जैसी योजनाएं पेश करने पर विचार कर रहा है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

दरअसल लॉकडाउन के दौरान माल भाड़ा कमाई में 8,000 करोड़ रुपये से अधिक नुकसान उठाने के बाद रेलवे अब अपनी कमाई पर ध्यान दे रही है. ताजा आंकड़ों के अनुसार रेलवे की माल ढुलाई से कमाई इस साल अप्रैल-मई के दौरान पिछले वर्ष की इसी अवधि के मुकाबले 8,283 रुपये कम हुई है.

0

कम कमाई वाला साल

यह बताता है कि कोरोना वायरस संकट के बीच रेलवे के लिये कमाई के लिहाज से यह नरम वर्ष रह सकता है. रेल मंत्री पीयूष गोयल ने मंगलवार को अधिकारियों के साथ उच्च स्तरीय बैठक की. इसमें रेलवे के माध्यम से वस्तुओं की ढुलाई को और व्यवहारिक तथा आकर्षक बनाने के लिये उपायों पर विचार किया गया.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

उन्होंने रेल मंडलों को रेलवे से सामान की ढुलाई को लेकर स्थानीय कारोबारियों और माल आपूर्तिकर्ताओं तक पहुंचने के लिये प्रोत्साहित किया. साथ ही उन्हें यथासंभव निर्धारित पार्सल ट्रेन चलाने के निर्देश दिया.

एक अधिकारी ने कहा, बैठक में इस बात पर भी चर्चा की गयी कि क्या हम अपने ग्राहकों को देरी से सामान की डिलिवरी पर छूट या ‘कैशबैक’ दे सकते हैं जैसा हम तेजस एक्सप्रेस ट्रेन में कर रहे हैं. साथ ही लंबी दूरी के लिये माल ढुलाई पर रियायती दरों की पेशकश पर भी विचार किया गया.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

तेजस एक्सप्रेस में मिलता है डिस्काउंट

आईआरसीटीसी द्वारा संचालित तेजस एक्सप्रेस ट्रेन के देरी से पहुंचने पर हर्जाना दिया जाता है. अधिकारी के अनुसार इस बात पर भी चर्चा हुई कि मंडल कोयला मंत्रालय और कोल इंडिया से समन्वय कर एक कार्य योजना तैयार करे ताकि ओड़िशा में कोयला खानों से सीधे ईधन देश के दक्षिण भागों में स्थित बिजली संयंत्रों को पहुंचाया जा सके.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×