ADVERTISEMENT

Chandigarh University: "मैं डरी हुई हूं, कहीं मेरा भी वीडियो तो नहीं बनाया गया"

Chandigarh University: मैं उन छात्राओं में से एक हूं जो उसी गर्ल्स हॉस्टल में रहती है जहां वीडियो लीक हुआ.

Published
Chandigarh University: "मैं डरी हुई हूं, कहीं मेरा भी वीडियो तो नहीं बनाया गया"
i
मैं उन छात्राओं में से एक हूं जो चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी के उसी गर्ल्स हॉस्टल में रहती है, जहां लड़कियों के अश्लील वीडियो लीक होने की चौंकाने वाली घटना हुई है.
ADVERTISEMENT
ऐसी अफवाहें हैं कि लड़कियों के करीब 50-60 अश्लील वीडियो रिकॉर्ड किए गए हैं. मैं और मेरे दोस्त हम सभी काफी डरे हुए हैं क्योंकि ऐसी अफवाहें हैं कि वॉशरूम का इस्तेमाल करते समय कई लड़कियों की रिकॉर्डिंग की गई है. क्या होगा अगर मेरी भी रिकॉर्डिंग हुई होगी तो?

मेरे माता-पिता भी डरे हुए और चिंता में हैं. मैं अपना सामान पैक कर इन सारी नेगेटिविटी से दूर अपने घर जाने की सोच रही थी लेकिन अब, हमें सूचित किया गया है कि यूनिवर्सिटी कुछ दिनों के लिए बंद है.

काश शब्दों से मैं समझा सकती कि आखिरकार मैं और बाकी लड़कियां अभी क्या महसूस कर रही हैं. ये तो और भी अविश्वसनीय लगता है कि यह काम हम में से ही किसी एक ने किया है. यहां अब किसी पर भी भरोसा करना मुश्किल हो गया है.

मैं चार सीटों वाले कमरे में रहती हूं और मेरे लिए कपड़े बदलना या वॉशरूम का इस्तेमाल करना अब बेहद मुश्किल हो गया है. केवल मैं ही ऐसा महसूस नहीं कर रही दूसरे भी इन्हीं सब चिंताओं से गुजर रहे हैं.
ADVERTISEMENT

हमें इस घटना के बारे में शुक्रवार, 17 सितंबर की शाम को पता चला, जब हॉस्टल में अफरा-तफरी मच गई थी और हर कोई दहशत में था. लड़कियां आपस में बातें करने लगीं और खबर फैल गई. जल्द ही, हमें पता चला कि एक छात्रा को अन्य छात्रों ने उनके अश्लील वीडियो रिकॉर्ड करने के लिए पकड़ा है.

बाद में, इन वीडियोज को रिकॉर्ड करने वाली छात्रा का एक वीडियो सामने आया जिसमें उसने ये सब कबूला. हमें यह भी पता चला कि उसने वीडियो इसलिए रिकॉर्ड किया था क्योंकि हिमाचल प्रदेश के एक लड़के ने उसे ऐसा करने के लिए कहा था.

मेरे पूरे जीवन में यह सबसे भयानक चीजों में से एक है जिसे मैंने सुना है. सबसे पहला सवाल जो मेरे दिमाग में आया और अभी भी यही सब चल रहा है कि क्या उसने मुझे भी रिकॉर्ड किया था, जब मैं नहा रही थी? पिछले 48 घंटों में जो कुछ भी हुआ है वह मानसिक और शारीरिक रूप से हमारे लिए बहुत भारी है.

हम समझ नहीं पा रहे थे कि क्या करें. घटना के पीछे लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग को लेकर हमने छात्रावास में विरोध प्रदर्शन करना शुरू कर दिया. पुलिस ने इस मामले में शामिल तीन लोगों को गिरफ्तार भी किया है- जिसमें एक महिला और हिमाचल प्रदेश के दो पुरुष शामिल हैं.

ADVERTISEMENT

रविवार को यूनिवर्सिटी ने एक गलत बयान जारी कर कहा, ''दूसरी लड़कियों के आपत्तिजनक वीडियो शूट करने की अफवाह पूरी तरह से झूठी और निराधार है.'' लेकिन जैसे ही हमारे साथ उस लड़की का कबूलनामा वीडियो द्वारा साझा किया गया तो यह साफ हो गया था कि यूनिवर्सिटी का दावा निराधार है.

चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी

फोटो- एक्सेस्ड बाय क्विंट

यूनिवर्सिटी का नाम न खराब हो इसके लिए चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी का कहना है कि "लड़की के फोन में उसे छात्राओं का कोई आपत्तिजनक वीडियो नहीं मिला है, सिवाय इसके कि लड़की ने खुद ही अपना वीडियो शूट किया और उसके प्रेमी के साथ साझा किया जो कि एक निजी वीडियो है."

लेकिन यह भी झूठा दावा है क्योंकि एक तो इस मामले में लड़की ने खुद ही कबूल किया है और दूसरा कि उसके प्रेमी के अलावा, एक अन्य व्यक्ति को शिमला से गिरफ्तार किया गया है.

हॉस्टल में इस रैकेट को लेकर बवाल हो रहा है जहां लड़कियों के अश्लील वीडियो बेचे और खरीदे जा रहे हैं. हम इस सब से डरे हुए हैं.

हमने रविवार की रात लगभग 1:30 बजे (18 सितंबर) को अपना विरोध प्रदर्शन खत्म किया जब यूनिवर्सिटी ने इस मामले में निष्पक्ष जांच करने और न्याय करने का आश्वासन दिया. लेकिन यह तथ्य कि यूनिवर्सिटी ने इस मुद्दे को दबाने की कोशिश की है, यह हमारे लिए चिंताजनक है.

ADVERTISEMENT

पंजाब पुलिस ने क्या कहा?

पुलिस ने रविवार को पुष्टि की थी कि उन्होंने मामले में तीन संदिग्धों को गिरफ्तार किया है. पंजाब के डीजीपी गौरव यादव ने कहा कि, पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान के आदेश पर तीन सदस्यीय महिला विशेष जांच दल (एसआईटी) का गठन भी किया गया है, जो इस मामले की जांच करेगी जिसका नेतृत्व वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी गुरप्रीत कौर देव करेगी.

देव ने कहा कि ऐसा प्रतीत होता है कि आरोपी महिला छात्र ने युवक के साथ अपना एक वीडियो साझा किया इसके अलावा किसी अन्य छात्र का कोई आपत्तिजनक वीडियो नहीं मिला है.

एक फोटो क्लिक करें, एक वीडियो शूट करें. इसे हमें 9999008335 पर व्हाट्सएप करें या myreport@thequint.com पर ईमेल करें. आप thequint.com पर भी लॉग ऑन कर सकते हैं या bit.ly/MyReportTeam पर माई रिपोर्ट टीम में शामिल हो सकते हैं. अनुभवी पत्रकारों की हमारी टीम आने वाली कंटेंट को स्कैन करती है और सबमिशन में उद्धृत जानकारी को सत्यापित करती है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Speaking truth to power requires allies like you.
Q-इनसाइडर बनें
450

500 10% off

1500

1800 16% off

4000

5000 20% off

प्रीमियम

3 माह
12 माह
12 माह
Check Insider Benefits
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×