ADVERTISEMENT

कोरोना का कहर: सामान्य दवाइयों की भी किल्लत

जिंक और विटामिन सी जैसे मल्टीविटामिन की मांग तेजी से बढ़ी है

Published

पूर्वी दिल्ली के दिलशाद गार्डन में, जहां जीटीबी अस्पताल है, फार्मेसियों में दवा की कमी की शिकायतें हैं, न केवल रेमडेसिविर या टोसीलिज़ुमैब, बल्कि सामान्य मल्टीविटामिन जैसे जिंक और विटामिन सी की भी कमी देखने को मिल रही है. न तो हॉस्पिटल में कोई बेड है, न ही ऑक्सीजन. ऐसी स्थिति में, क्या राज्यों को दवाओं को सभी के लिए सुलभ नहीं बनाना चाहिए? क्या इस कमी का कारण घबराहट है? जीटीबी एंक्लेव में बाजार के कुछ केमिस्ट्स से जानिए हकीकत.

ADVERTISEMENT

अधिकांश ने कैमरे के सामने बात करने से इनकार कर दिया, लेकिन आम सहमति ये थी कि मल्टीविटामिन की ज्यादा मांग और एंटीबायोटिक दवाओं की कमी है.

“मल्टीविटामिन की सामान्य दवाएं, जो ज्यादातर लोग लेते हैं, बाजार में उपलब्ध नहीं हैं. वैसी ही स्थिति विटामिन सी की है. अगर सभी स्थानीय कंपनियों द्वारा निर्मित हैं, तो पेटेंट उपलब्ध नहीं हैं. नेबुलाइजर में इस्तेमाल की जाने वाली दवा भी उपलब्ध नहीं है. ”
बंटी, स्थानीय केमिस्ट

अधिकांश स्थानीय फार्मेसियों में, स्थिति एक जैसी ही है. रेमेडेसिविर, फैबिफ्लू की मांग तेजी से बढ़ी है.

कालाबाजारी या घबराहट में खरीद के कारण आम दवाएं मुश्किल से उपलब्ध होती हैं. इसके लिए सरकार से सवाल किए जाने की जरूरत है.

(सभी 'माई रिपोर्ट' ब्रांडेड स्टोरिज सिटिजन रिपोर्टर द्वारा की जाती है जिसे क्विंट प्रस्तुत करता है. हालांकि, क्विंट प्रकाशन से पहले सभी पक्षों के दावों / आरोपों की जांच करता है. रिपोर्ट और ऊपर व्यक्त विचार सिटिजन रिपोर्टर के निजी विचार हैं. इसमें क्‍व‍िंट की सहमति होना जरूरी नहीं है.)

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT