ADVERTISEMENT

लॉकडाउन के साइड इफेक्ट्स: "काश मैं पढ़ पाता तो कितना अच्छा होता"

एडमिशन फीस नहीं जुटा पाया जिसके कारण मेरे सपने अधूरे रह गए, शिबोजीत चाहते थे कि वो काम के साथ पढ़ाई जारी रख पाते.

Published

कोलकाता के रहने वाले 22 साल के शिबोजीत डे उन लाखों लोगों में से एक हैं, जिनकी जिंदगी कोरोना ने प्रभावित की. कोरोना के बाद देशव्यापी लॉकडाउन ने शिबोजीत को पढ़ाई छोड़कर काम करने पर मजबूर कर दिया. शिबोजीत की आर्थिक स्थिति ज्यादा बेहतर न होने के कारण वो पढ़ाई के साथ अपना खर्च निकालने के लिए पहले भी काम करते थे मगर अब पढ़ाई छोड़ उन्हें काम करना पड़ रहा है.

ADVERTISEMENT

आर्थिक तंगी के कारण छोड़ी पढ़ाई

कोरोना के समय देश ने बेरोजगारी की मार झेली. जो लोग नौकरी कर रहे थे उन्हें भी नौकरी से निकाला जा रहा था. शिबोजीत के पिता भी उन लाखों लोगों में से एक थे जिन्हें नौकरी से हाथ धोना पड़ा. इस घटना के बाद शिबोजीत को मजबूरन पढ़ाई छोड़नी पड़ी.

पत्थर तोड़ने से लेकर, पानी बांटने का काम किया

शिबोजीत को ऐसे माहौल में रोजगार भी नहीं मिल रहा था, मगर पारिवारिक हालात देखते हुए शिबोजीत ने मजबूरन पत्थर तोड़ने का काम करना शुरू किया. मगर इस काम में कमाई न के बराबर थी. फिर शिबोजीत ने मिनरल पानी घर-घर पहुंचाने का काम शुरू किया मगर आर्थिक हालात में इस काम से भी कुछ खास सुधार नहीं हुआ.

शिबोजीत बताते हैं कि एडमिशन फीस नहीं जुटा पाया जिसके कारण मेरे सपने अधूरे रह गए, शिबोजीत चाहते थे कि वो काम के साथ पढ़ाई जारी रख पाते, मगर ऐसा हो न सका.

कर्ज तले दबा युवा शिबोजीत

इस महामारी के दौरान ही शिबोजीत कि बहन की शादी तय हो गई और शिबोजीत को शादी के सिलसिले में अपने दोस्त से उधार लेना पड़ा. अब शिबोजीत के ऊपर आर्थिक तंगी के साथ-साथ उधार का बोझ भी आ गया और इसने शिबोजीत की हालत और बदतर कर दी.

पढ़ाई करना चाहते हैं शिबोजीत

शिबोजीत अब समय के साथ अपने काम को पटरी पर ले आए हैं और अपनी मेहनत के दम से कर्ज को भी धीरे-धीरे चुका रहे हैं मगर अभी भी उनका मन पढ़ाई में लगा हुआ है. वो अपनी पढ़ाई को छोड़ना नहीं चाहते हैं.

शिबोजीत बताते हैं कि

"अगर मैं पढ़ पाता, तो कितना अच्छा होता"
शिबोजीत डे

शिबोजीत के ये शब्द सिर्फ शिबोजीत के नहीं हैं बल्कि शिबोजीत जैसे हजारों लाखों युवाओं के हैं जिनके सपने समय की राख के साथ जमीन में कहीं नीचे दब गए. जो अभी भी अपनी जमीन तलाश रहे हैं.

(सभी 'माई रिपोर्ट' ब्रांडेड स्टोरिज सिटिजन रिपोर्टर द्वारा की जाती है जिसे क्विंट प्रस्तुत करता है. हालांकि, क्विंट प्रकाशन से पहले सभी पक्षों के दावों / आरोपों की जांच करता है. रिपोर्ट और ऊपर व्यक्त विचार सिटिजन रिपोर्टर के निजी विचार हैं. इसमें क्‍व‍िंट की सहमति होना जरूरी नहीं है.)

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
×
×