दिल्ली: RBIPMT हॉस्पिटल में डॉक्टरों को नहीं मिली 4 महीने से सैलरी

RBIPMT के रेजिडेंट डॉक्टर 14 अक्टूबर से हड़ताल पर हैं.

Published
My रिपोर्ट
1 min read

वीडियो एडिटर: संदीप सुमन

दिल्ली के राजन बाबू इंस्टीट्यूट ऑफ पलमोनरी मेडिसिन एंड ट्यूबरक्लोसिस के रेजिडेंट डॉक्टर 14 अक्टूबर से हड़ताल पर हैं. पिछले चार महीने से उन्हें सैलरी नहीं मिली है.

सैलरी नहीं देने के बावजूद MCD के हॉस्पिटल ने दो महीने पहले डॉक्टरों की नियुक्ति की. दूसरों की जान बचाने वाले डॉक्टर खुद के लिए ही संघर्ष कर रहे हैं.

मैं केरल से हूं और यहां मेरा कोई रिश्तेदार या परिवार नहीं है. मैं एक किराए के अपार्टमेंट में रह रही हूं. मेरे पास एजुकेशन लोन और पर्सनल लोन है. इन सभी का पेमेंट मेरी सैलरी से किया जाना है लेकिन मुझे यहां से कोई पेमेंट नहीं मिल रहा है.
डॉ. अस्वथी, जूनियर रेजिडेंट, RBIPMT

अस्पताल प्रशासन, एमसीडी दिल्ली सरकार से लेकर उपराज्यपाल तक डॉक्टरों ने सभी के पास अपनी परेशानी बताई लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ. हड़ताल के बावजूद अस्पताल में डॉक्टर इमरजेंसी सेवाएं दे रहे हैं.

दिल्ली नगर निगम (उत्तर) के मेयर जय प्रकाश ने क्विंट को बताया कि हम गंभीर आर्थिक संकट में हैं. दिल्ली सरकार को हमें 1,600 करोड़ रुपये का भुगतान करना है. उन्होंने फंड जारी नहीं किया है. हमारा खुद का राजस्व लॉकडाउन के कारण लगभग 25% तक हो गया है, जो हम पहले टैक्स, विज्ञापन आदि से कमाते थे. हमने डॉक्टरों से 15-20 दिनों तक इंतजार करने के लिए कहा है. हम इसका एक समाधान निकालेंगे.

(सभी 'माई रिपोर्ट' ब्रांडेड स्टोरिज सिटिजन रिपोर्टर द्वारा की जाती है जिसे क्विंट प्रस्तुत करता है. हालांकि, क्विंट प्रकाशन से पहले सभी पक्षों के दावों / आरोपों की जांच करता है. रिपोर्ट और ऊपर व्यक्त विचार सिटिजन रिपोर्टर के निजी विचार हैं. इसमें क्‍व‍िंट की सहमति होना जरूरी नहीं है.)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!