टिकरी और सिंघु बॉर्डर पर, किसानों की मदद को आगे आए डॉक्टर्स 

बॉर्डर पर खड़े डॉक्टर्स ने कहा, अन्नदाता का इलाज कर आशीर्वाद मिलता है.

वीडियो एडिटर: आशुतोष भारद्वाज

केंद्र के कृषि कानून के विरोध में चल रहे किसान आंदोलन को कई दिन हो गए. देश भर से आए किसानों ने दिल्ली से लगे, टिकरी और सिंघु बॉर्डर पर अपना धरना प्रदर्शन जारी रखा हुआ है. किसानों का ये धरना प्रदर्शन देश में किए गए बाकी प्रदर्शनों से काफी अलग दिख रहा है.

डॉक्टर्स कर रहें किसानों की मदद

देश के अलग- अलग राज्यों से आए डॉक्टर्स ,किसानों की दिल्ली बॉर्डर पर मुफ्त में दवा पानी कर रहें हैं. डॉक्टरों ने प्रदर्शनकारियों के लिए थोड़ी थोड़ी दूर पर मेडिकल शिविर लगाएं हैं.

किसानों द्वारा विरोध प्रदर्शन स्थल पर पहुंचने के अगले दिन, हमने किसानों के लिए दवाईयों का शिविर लगाया. लोगों को आंसू गैस और पानी की बौछार की गई थी, हमने उनका इलाज किया. हमें बताया गया कि यहां बहुत सारे मच्छर थे, इसलिए हमने उसके लिए भी तैयारी की है.
डॉ. बलबीर सिंह, आई सर्जन

मरीजों के लिए मोबाइल एम्बुलेंस और चिकित्सा शिविर पूरी तरह से दवाओं और चिकित्सा उपकरणों से लैस हैं, यहाँ तक कि इमरजेंसी के लिए कुछ दवाइयां स्टॉक भी की गईं है. डॉक्टर्स प्रदर्शनकारियों के लिए अपने सहकर्मियों के साथ शिफ्ट में भी काम कर रहे हैं.

ज्यादातर लोगों को हाई ब्लड प्रेशर और शुगर संबंधी दवाइयां देनी पड़ती हैं. बुजुर्गों के लिए हार्ट और दांत संबंधी बीमारियों का निवारण भी किया जा रहा है. हमनें यहां ECG मशीन भी लगाई है ताकि किसी भी इमरजेंसी के लिए हम तैयार रहें. डॉक्टरों ने बताया कि

हम उन लोगों को सलाम करते हैं जो 16-17 दिनों से यहां हैं, वो इसलिए विरोध कर रहे हैं ताकि उनकी मांगों को सरकार सुने. हमें उम्मीद है कि सरकार किसानों के लिए न्याय सुनिश्चित करेगी.
डॉ गुरसेवक गिल, एमडी मेडिसिन, चंडीगढ़ 

टिकरी और सिंघु बॉर्डर पर डॉक्टरों की टीम मेडिकल शिविर लगाकर , लोगों की सेवा करने को तैयार हैं. डॉक्टरों ने कहा कि जब कोई किसान हमारे पास इलाज के लिए आता है, तो हमें ऐसा लगता है, जैसे कि उनका आशीर्वाद मिल रहा है.

(सभी 'माई रिपोर्ट' ब्रांडेड स्टोरिज सिटिजन रिपोर्टर द्वारा की जाती है जिसे क्विंट प्रस्तुत करता है. हालांकि, क्विंट प्रकाशन से पहले सभी पक्षों के दावों / आरोपों की जांच करता है. रिपोर्ट और ऊपर व्यक्त विचार सिटिजन रिपोर्टर के निजी विचार हैं. इसमें क्‍व‍िंट की सहमति होना जरूरी नहीं है.)

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!