ADVERTISEMENTREMOVE AD

अंतर्राष्ट्रीय शिक्षा दिवस पर चुभने वाला सच- गरीब बच्चे कोरोना में और पीछे हो गए

डिजिटल जमाने में खराब कनेक्टिविटी ने भी कइयों की पढ़ाई पर असर डाला.

Published
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

पूरी दुनिया कोरोना वायरस महामारी (COVID-19 Pandemic) के तीसरे साल में प्रवेश कर चुकी है. पिछले दो सालों में सभी के लिए कई चीजें बदल गईं, और इसके साथ ही हमेशा के लिए बदल गए स्कूल और शिक्षा. भारत की बात करें तो, मार्च 2020 में पहले लॉकडाउन के बाद से ही सभी स्कूलों को बंद कर दिया गया. इसके बाद कोविड संक्रमण कमी आने पर स्कूल कई बार खोले गए, लेकिन बढ़ते संक्रमण ने वापस से स्कूलों पर ताला लगा दिया. अंतर्राष्ट्रीय शिक्षा दिवस पर, एक नजर डालते हैं कि कैसे कोविड महामारी ने भारत में शिक्षा को प्रभावित किया.

ADVERTISEMENTREMOVE AD
कोरोना वायर महामारी का छात्रों और शिक्षा पर काफी प्रभाव पड़ा है. कोविड के कारण हजारों छात्रों को अपनी पढ़ाई छोड़नी पड़ी, वहीं डिजिटल जमाने में खराब कनेक्टिविटी ने भी कइयों की पढ़ाई पर असर डाला.
0
डिजिटल जमाने में खराब कनेक्टिविटी ने भी कइयों की पढ़ाई पर असर डाला.
ADVERTISEMENT
डिजिटल जमाने में खराब कनेक्टिविटी ने भी कइयों की पढ़ाई पर असर डाला.
ADVERTISEMENTREMOVE AD
डिजिटल जमाने में खराब कनेक्टिविटी ने भी कइयों की पढ़ाई पर असर डाला.
ADVERTISEMENT
डिजिटल जमाने में खराब कनेक्टिविटी ने भी कइयों की पढ़ाई पर असर डाला.
ADVERTISEMENTREMOVE AD
डिजिटल जमाने में खराब कनेक्टिविटी ने भी कइयों की पढ़ाई पर असर डाला.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
×
×