ADVERTISEMENT

लखीमपुर खीरी हिंसा: 19 साल के लवप्रीत की मौत, परिवार को इंसाफ का इंतजार

लवप्रीत अपने दोस्तों के कहने पर किसान आंदोलन में हिस्सा लेने गया था. लेकिन दर्दनाक घटना का शिकार हो गया.

Updated
भारत
2 min read

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी (Lakhimpur Kheri) में एक दर्दनाक हादसा होता है. एक चार पहिया गाड़ी किसानों को रौंदते हुए निकल जाती है. इस घटना में 8 लोगों की मौत हो जाती है.

इनमें सबसे छोटा 19 साल का लवप्रीत था. जिसकी मौत इस दर्दनाक घटना में हो गई. परिजनों ने बताया कि लवप्रीत अपने दोस्तों के कहने पर किसान आंदोलन में हिस्सा लेने गया था. लवप्रीत ने अपने साथ हुई घटना के बाद अपने पिता को फोन कर बताया था कि वह ठीक है, उसकी चिंता ना करें.

उसे गाड़ी ने रौंद दिया. घटना के बाद उससे मेरी फोन पर बात हुई थी, उसने कहा था कि मैं ठीक हूं, मेरी चिंता ना करें. इतनी ही बात हुई
सतनाम सिंह, मृतक लवप्रीत के पिता

लवप्रीत विदेश जा कर पढ़ना चाहता था, लेकिन इस हादसे ने उसके सपनों को तोड़ दिया. सतनाम सिंह ने बताया कि लवप्रीत विदेश जाने के लिए एग्जाम पास कर के ऑस्ट्रेलिया पढ़ने जाना चाहता था.

ADVERTISEMENT

घटना के बाद सरकार ने मृतक किसानों के परिवार को मुआवजा भी दिया है. डीएम ने मृतक लवप्रीत के घर जा कर परिजनों को मुआवजा दिया. 45 लाख रुपये का चेक मृतक लवप्रीत के घर वालों को तो मिल चुका है लेकिन इंसाफ की दरकार अभी भी है.

सतनाम सिंह ने कहा है कि "प्रशासन ने आश्वासन तो दिया है कि हफ्तेभर के अंदर कार्रवाई की जाएगी. अगर कोई कार्रवाई नहीं हुई तो किसान संगठन इसके लिए प्रदर्शन करेंगे".

सतनाम सिंह और उनके घर वालों को उनका बेटा तो वापस नहीं मिल सका, लेकिन कई राज्यों ने भी उनको मुआवजा देने की घोषणा की है. उनके परिवार को अभी भी इंसाफ का इंतजार है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT