ADVERTISEMENT

स्टेन स्वामी पर बॉम्बे HC- 'कमाल के इंसान थे, उनके काम का सम्मान करते हैं'

Stan Swamy की मौत को लेकर बेंच ने कहा कि 'सोचा नहीं था ऐसा हो जाएगा'

Updated
भारत
2 min read
<div class="paragraphs"><p>Stan Swamy की मौत को लेकर बेंच ने कहा कि 'सोचा नहीं था ऐसा हो जाएगा'</p></div>

स्टेन स्वामी (Stan Swamy) की मौत के बाद उनकी अपीलों पर सुनवाई करते हुए बॉम्बे हाई कोर्ट (Bombay High Court) ने 19 जुलाई को कहा कि 'स्वामी कमाल के इंसान थे और कोर्ट उनके काम की बहुत इज्जत करता है.' एल्गार परिषद केस में आरोपी बनाए गए स्वामी की जुलाई की शुरुआत में मौत हो गई थी.

ADVERTISEMENT

जस्टिस एसएस शिंदे और जस्टिस एनजे जमादार की बेंच ने ये टिप्पणी की. इसी बेंच ने 5 जुलाई को स्टेन स्वामी की मेडिकल जमानत याचिका पर सुनवाई की थी, जब हाई कोर्ट को उनकी मौत के बारे में जानकारी दी गई थी.

"सामान्य रूप से हमारे पास समय नहीं होता है, लेकिन हमने स्वामी की फ्यूनरल सर्विस देखी थी. वो बहुत विनीत था. कमाल के इंसान थे, उन्होंने जिस तरह की सेवाएं समाज को दी थीं. हम उनके काम को बहुत सम्मान करते हैं. उनके खिलाफ कानूनी रूप से जो भी था, वो अलग मामला है."
जस्टिस एसएस शिंदे

हम आदेश देते हुए निष्पक्ष रहे: हाई कोर्ट

हाई कोर्ट बेंच ने निराशा जताई कि कई मामलों में अंडरट्रायल जेलों में सुनवाई शुरू होने का इंतजार करते रहते हैं. हालांकि, बेंच ने कहा कि वो स्टेन स्वामी की मेडिकल जमानत याचिका और एल्गार परिषद मामले में उनके सह-आरोपियों की याचिकाओं पर आदेश पास करते हुए निष्पक्ष रही थी.

"आप हमारे पास मेडिकल जमानत याचिका लेकर 28 मई को आए थे और हमने हर बार निवेदन स्वीकारा. बाहर हम चुप हैं. ये सिर्फ आप ही साफ कर सकते हैं. आपने कहा है कि मामले में आपको कोर्ट से कोई शिकायत नहीं."
कोर्ट ने स्टेन स्वामी के वकील मिहिर देसाई से कहा
ADVERTISEMENT

हाई कोर्ट ने कहा कि कोई ये नहीं बताता कि इसी कोर्ट ने काफी विरोध के बावजूद सह-आरोपी वरवरा राव को जमानत दी थी. कोर्ट ने कहा, "हमने राव के परिवार को मिलने की इजाजत दी क्योंकि हमने सोचा कि मानव पहलू भी देखना चाहिए. दूसरे हनी बाबू के केस में हमने पसंद के अस्पताल भेजा था."

स्वामी की मौत को लेकर बेंच ने कहा कि 'सोचा नहीं था ऐसा हो जाएगा.'

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT