राफेल डील में कोई भ्रष्टाचार नहीं तो JPC से क्यों डर रही BJP:राहुल
राफेल पर मोदी सरकार को लगातार घेरने में लगे राहुल
राफेल पर मोदी सरकार को लगातार घेरने में लगे राहुल(फोटो: INC)
Live

राफेल डील में कोई भ्रष्टाचार नहीं तो JPC से क्यों डर रही BJP:राहुल

विवादों में घिरी राफेल डील पर संसद में सीएजी रिपोर्ट पेश हुई. रिपोर्ट में बताया गया है कि केंद्र की मोदी सरकार ने यूपीए सरकार से काफी कम कीमत में राफेल का सौदा किया है. रिपोर्ट के मुताबिक यूपीए सरकार के डील के मुकाबले मोदी सरकार की डील 2.86% सस्ती है. लेकिन राफेल की कीमत का खुलासा नहीं किया गया है.

इससे पहले सोमवार को रिपोर्ट पेश होनी थी, लेकिन आखिरकार ये बुधवार को पेश हुई. राफेल को लेकर विपक्ष लगातार मोदी सरकार को घेर रहा है. इसके खिलाफ कांग्रेस ने संसद परिसर में प्रदर्शन भी किया.

NEWEST FIRSTOLDEST FIRST
(3) NEW UPDATES

राफेल मामले पर बुधवार को ये बोले राहुल गांधी

  • नरेंद्र मोदी अंदर से घबराए हुए हैं और जानते हैं अब कहीं ना कहीं राफेल का मामला अपने अंजाम तक पहुंचेगा
  • नए सौदे में प्रति विमान 25 मिलियन यूरो ज्यादा भुगतान किया गया है और इसी जगह पर भ्रष्टाचार हुआ है
  • अफसरशाही, वायुसेना और रक्षा मंत्रालय में ये फीलिंग है कि राफेल मामले में शत प्रतिशत चोरी हुई है
  • आप कहीं भी जाकर बोलिए- चौकीदार, लोग कहेंगे- चोर है
  • आप बीजेपी के सांसदों से भ्रष्टाचार और राफेल पर बात करोगे तो वो कहेंगे कि भैया कुछ ना कुछ तो हुआ है
  • 2007 के सौदे में संप्रभु गारंटी, बैंक गारंटी और प्रदर्शन गारंटी शामिल थी. जबकि नए सौदे में ये शामिल नहीं है
  • अगर राफेल डील में कोई भ्रष्टाचार नहीं है तो बीजेपी JPC से क्यों डर रही है

राफेल सौदे को लेकर CAG की रिपोर्ट पर राहुल गांधी की प्रेस कॉन्फ्रेंस

राफेल पर CAG रिपोर्ट

  • मोदी सरकार ने यूपीए सरकार से राफेल सौदा 2.86 फीसदी  सस्ते में किया
  • सीएजी ने डिफेंस मिनिस्ट्री के इस तर्क को खारिज कर दिया है कि 2016 में फ्लाईवे कंडीशन में 36 विमानों का सौदा 2007 में किए गए सौदे से नौ फीसदी सस्ता था
  • राफेल कांट्रेक्ट में छह अलग-अलग पैकेज 14 टोटल आइटम थे. सात आइटमों की कीमतें अलाइन कीमतों से ज्यादा थीं. अलाइन कीमतें वे होती हैं जिस पर कॉन्ट्रेक्ट साइन होना चाहिए
  • राफेल सौदे के आइटमों बेसिक विमान समेत तीन आइटम समान कीमत पर खरीदे गए. चार आइटम अलाइन प्राइस से नीचे की कीमत पर खरीदे गए थे
  • कानून मंत्रालय की सलाह पर डिफेंस मिनिस्ट्री ने फ्रांस सरकार से सोवरेन गारंटी मांगी थी लेकिन उससे सिर्फ लेटर ऑफ कम्फर्ट मिला
  • कैग ने कहा कि राफेल पर 2007 के ऑफर में दसॉ एविएशन ने फरफॉरमेंस और फाइनेंशियल गारंटी दी थी जो कांट्रेक्ट की कुल कीमत की 25 फीसदी थी.
  • भारत के लिए राफेल में जो चार बदलाव मांगे गए थे उनकी जरूरत नहीं थी. आईएएफ ने 2010 के तकनीकी मूल्यांकन में कहा था कि इसकी जरूरत नहीं है.
  • भारतीय वायुसेना के बार बार मना करने के बाद इन्हें जोड़ दिया गया. जबकि वायुसेना इन्हें घटाना चाहती थी. इससे कीमतें सस्ती हो सकती थीं.

कैग रिपोर्ट पर क्विंट की चर्चा

कीमत आकलन के दौरान हुई दिक्कत

  • भारतीय वायु सेना ने एयर स्टाफ क्ववांटिटीव रिक्वायरमेंट यानी ASQRs को सही तरीके से नहीं बताया जिसके कारण कोई भी वेंडर ASQR पर खरा नहीं उतर सका था.
  • खरीद प्रक्रिया के दौरान ASQRs को जल्दी-जल्दी बदला गया, जिसके कारण तकनीक और  कीमत आकलन के दौरान दिक्कत हुई. इससे कंपीटीटिव टेंडरिंग प्रभावित हुआ.
  • कैग रिपोर्ट के मुताबिक, प्राइस आकलन के दौरान दिक्कतों का सामना करना पड़ा एवं टेंडरिंग पर असर पड़ा. राफेल खरीद में देरी के पीछे एक अहम कारण यह भी रहा

गडकरी बोले, पीएम पर हमला न करे कांग्रेस

राफेल मामले पर सीएजी की रिपोर्ट सामने आने पर बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा है कि साबित हो गया हमारी डील यूपीए से बेहतर थी. उन्होंने कहा कि कांग्रेस को पीएम पर हमला करने से बचना चाहिए.

इसलिए तोड़ी गई 126 विमानों की डील

सीएजी रिपोर्ट में बताया गया है कि 2015 में डिफेंस मिनिस्ट्री की एक टीम ने 126 राफेल विमानों की डील को तोड़ने के लिए सुझाव दिया था. टीम ने ये भी बताया कि इस डील में दसॉ ऐविएशन सबसे कम बोली लगाने वाला नहीं था और यूरोपियन ऐरोनॉटिक डिफेंस एंड स्पेस कंपनी (EADS) टेंडर की सभी शर्तों को पूरा नहीं कर रहा था.

ममता बनर्जी भी पहुंचीं संसद

राज्यसभा में राफेल पर सीएजी रिपोर्ट पेश होने के बाद अब ममता बनर्जी भी ससंद पहुंच चुकी हैं. उन्होंने संसद परिसर में चल रहे प्रदर्शन में हिस्सा लिया. यहां पहुंचते ही ममता ने केंद्र सरकार पर जमकर हमला बोला और राफेल डील में घोटाले का भी जिक्र किया.

डिलीवरी में भी बेहतर है डील

जेटली ने कहा, सत्य की जीत हुई

राज्यसभा में सीएजी रिपोर्ट पेश होने के तुरंत बाद केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने एक के बाद एक कई ट्वीट किए हैं. उन्होंने अपने पहले ट्वीट में लिखा कि, सत्यमेव जयते- आखिरकार सच सामने आया. उन्होंने कहा है कि महाझूठबंधन सीएजी रिपोर्ट आने के बाद एक्सपोज हो चुका है.

सीएजी रिपोर्ट में ये हुआ खुलासा

सीएजी रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि केंद्र की मोदी सरकार ने राफेल यूपीए सरकार से भी कम दाम पर खरीदे हैं. रिपोर्ट के मुताबिक 126 विमानों की डील के मुकाबले भारत को इस डील में 17.08% रुपये की बचत हुई है. यह डील यूपीए सरकार से 2.86% कम दामों में हुई है. हालांकि सीएजी रिपोर्ट में भी राफेल विमानों की कीमत का जिक्र नहीं किया गया है.

पेश हुई सीएजी रिपोर्ट, विपक्ष का हंगामा

राफेल पर राज्यसभा में सीएजी रिपोर्ट पेश हो चुकी है. लेकिन विपक्षी पार्टियों के हंगामे के चलते कार्यवाही 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई है. कांग्रेस राहुल गांधी की अगुवाई में प्रोटेस्ट कर रही है.

राफेल पर कांग्रेस का प्रदर्शन

राफेल मुद्दे पर आज संसद में सीएजी रिपोर्ट पेश होनी है, इससे पहले कांग्रेस नेताओं ने संसद परिसर में राफेल के मुद्दे पर प्रदर्शन किया और नारे लगाए. अभी भी कांग्रेस के कई नेता संसद परिसर में बैनर और पोस्टर लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं. इस प्रदर्शन में राहुल गांधी, सोनिया गांधी, मनमोहन सिंह, मल्लिकार्जुन खड़गे सहित कांग्रेस के कई बड़े नेता मौजूद हैं.

कीमत का नहीं होगा खुलासा

राफेल की कीमत कई गुना बढ़ाए जाने पर पिछले कई दिनों से हंगामा जारी है. लेकिन अब बताया जा रहा है कि सीएजी की रिपोर्ट में भी कीमत का खुलासा होने की उम्मीद नहीं है. विपक्षी पार्टियां इस रिपोर्ट के पेश होने का इंतजार कर रही हैं, जिसके बाद एक बार फिर जमकर हंगामा हो सकता है.

आज राफेल पर फिर घमासान

संसद में राफेल पर आज सीएजी रिपोर्ट पेश होनी है. इससे पहले कयास लगाए जा रहे थे कि सोमवार या मंगलवार को यह रिपोर्ट पेश हो सकती है. लेकिन अब आज संसद सत्र के अंतिम दिन केंद्र सरकार रक्षा सौदौं पर सीएजी रिपोर्ट पेश करेगी.

राफेल पर राहुल गांधी का छात्रों को मैसेज

राहुल गांधी ने संसद में राफेल पर सीएजी रिपोर्ट पेश होने से ठीक पहले एक ट्वीट किया है. जिसमें उन्होंने भारत के स्टूडेंट्स को एक मैसेज दिया है. उन्होंने लिखा, ‘प्रिय भारतत के छात्रों और युवाओं, हर दिन राफेल पर नए खुलासे हो रहे हैं, जिससे ये साबित होता है कि पीएम ने अपने दोस्त अनिल अंबानी को आपके 30 हजार करोड़ रुपये दिए. आज 11 बजे मेरी प्रेस कॉन्फ्रेंस देखिए’

खड़गे बोले, देखते हैं रिपोर्ट में क्या लिखा है

कांग्रेस नेता मल्लिकार्जन खड़गे ने संसद में सीएजी रिपोर्ट पेश होने से ठीक पहले कहा कि देखते हैं रिपोर्ट में उन्होंने क्या लिखा है. मुझे लगता है कि वो वही सुझाव यहां भी देंगे जो सुप्रीम कोर्ट में बंद लिफाफे में दिए गए थे.

कपिल सिब्बल के आरोप

कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (CAG) राजीव महर्षि से राफेल सौदे के ऑडिट से खुद को अलग करने के लिए कहा है. इसे हितों का टकराव बताते हुए सिब्बल ने महर्षि पर सरकार की मदद करने का आरोप लगाया. सिब्बल ने कहा कि महर्षि सरकार को क्लीन चिट सर्टिफिकेट दे उसकी मदद कर रहे हैं. सिब्बल ने कहा कि राजीव महर्षि संवैधानिक, कानूनी और नैतिक रूप से इसे ऑडिट करने या पीएसी और संसद के सामने ये रिपोर्ट पेश करने के योग्य नहीं हैं.

सोमवार को गर्म रही राफेल की चर्चा

सोमवार को सबसे ज्यादा चर्चा प्रियंका गांधी और राहुल गांधी के रोड शो की हुई. लेकिन रोड शो के दौरान कुछ ऐसा हुआ, जिसने राफेल पर भी चर्चा शुरू करवा दी. राहुल गांधी ने अचानक राफेल का कटआउट हाथों में लेकर लहरा दिया. रोड शो में राफेल को लेकर नारे लगे. इसके अलावा बीएसपी प्रमुख मायावती ने भी राफेल के मुद्दे पर एक के बाद एक कई ट्वीट किए. उन्होंने चौकीदार नाम का इस्तेमाल कर पीएम मोदी पर कई हमले बोले.

राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के रोड शो में दिखा था राफेल
राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के रोड शो में दिखा था राफेल
(फोटो:PTI)

क्या खत्म होगा राफेल का बवाल?

सीएजी ने काफी पहले ही राफेल मुद्दे पर अपनी रिपोर्ट बना दी थी. जिसके बाद इसके सार्वजनिक होने का इंतजार किया जा रहा था. अब आखिरकार सरकार खुद संसद में रिपोर्ट पेश करने जा रही है. अगर इस रिपोर्ट में कांग्रेस के आरोप सिद्ध नहीं होते हैं तो बीजेपी इसे भुनाने की कोशिश करेगी. वहीं विपक्षी पार्टियां भी रिपोर्ट को लेकर हंगामा कर सकती हैं.

ये भी पढ़ें : राफेल डील:‘द हिंदू’ का एक और खुलासा, हटा दिया था एंटी करप्शन क्लॉज

(My रिपोर्ट डिबेट में हिस्सा लिजिए और जीतिए 10,000 रुपये. इस बार का हमारा सवाल है -भारत और पाकिस्तान के रिश्ते कैसे सुधरेंगे: जादू की झप्पी या सर्जिकल स्ट्राइक? अपना लेख सबमिट करने के लिए यहां क्लिक करें)


Follow our भारत section for more stories.

    वीडियो