ADVERTISEMENTREMOVE AD

Delhi में 13 'प्रदूषण हॉटस्पॉट', मंगलवार को AQI 'बहुत खराब' श्रेणी में रहेगा

Delhi Air Pollution: दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने हवा की बिगड़ती हालत से निपटने के लिए सोमवार को एक महत्वपूर्ण बैठक बुलाई

Published
भारत
2 min read
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

Delhi Pollution: सिस्टम ऑफ एयर क्वालिटी और मौसम पूर्वानुमान एवं अनुसंधान (एसएएफएआर) के आंकड़ों के अनुसार, राष्ट्रीय राजधानी की वायु गुणवत्ता लगातार दूसरे दिन "बहुत खराब" में रही. सोमवार शाम को समग्र वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 303 तक पहुंच गया.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

धीरपुर में एक्यूआई 327 पर यानी "गंभीर" श्रेणी में पहुंच गया.

शून्य और 50 के बीच एक्यूआई को "अच्छा", 51 और 100 के बीच "संतोषजनक", 101 और 200 के बीच "मध्यम", 201 और 300 के बीच "खराब", 301 और 400 के बीच "बहुत खराब" और 401 और 500 के बीच "गंभीर" माना जाता है.

पूसा में, यह 242 था, जो "खराब" श्रेणी में आता है.

लोधी रोड पर पीएम 2.5 सांद्रता के साथ एक्यूआई 273 था, जो "खराब" श्रेणी में आता था और पीएम 10 "मध्यम" श्रेणी के तहत 163 पर था.

इसके अलावा, आईआईटी-दिल्ली स्टेशन पर पीएम 2.5 306 या "बहुत खराब" श्रेणी में था, जबकि पीएम 10 "मध्यम" श्रेणी में 172 तक पहुंच गया.

मथुरा रोड पीएम 2.5 173 और पीएम 10 सघनता 167 के साथ "मध्यम" श्रेणी में था.

एसएएफएआर के अनुसार, मंगलवार की सुबह शहर की वायु गुणवत्ता और खराब होकर "बहुत खराब" श्रेणी में आने की संभावना है, जिसमें पीएम 2.5 313 तक पहुंच जाएगा और पीएम 10 की सांद्रता 191 "मध्यम" श्रेणी में पहुंच जाएगी.

इस बीच, दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने राष्ट्रीय राजधानी में हवा की बिगड़ती हालत से निपटने के लिए सोमवार को एक महत्वपूर्ण बैठक बुलाई, जिसमें मुख्य सचिव, डीपीसीसी अध्यक्ष और परिवहन आयुक्त के नहीं पहुंचने पर उन्‍होंने नाराजगी जताई. उन्‍होंने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को पत्र लिखकर इन अधिकारियों की शिकायत की.

0

'दिल्ली में 13 प्रदूषण हॉटस्पॉट'

गोपाल राय ने केजरीवाल से राष्ट्रीय राजधानी सिविल सेवा (एनसीसीएस) की बैठक बुलाने और ऐसे अधिकारियों को नियुक्त करने का भी अनुरोध किया जो दिल्ली में प्रदूषण की समस्या से निपटने के लिए गंभीर हों.

मंत्री ने शहर में वायु गुणवत्ता प्रबंधन आयोग (सीएक्यूएम) द्वारा अनिवार्य ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान (जीआरएपी) 2 नियमों को लागू करने के लिए बैठक बुलाई थी, लेकिन तीन शीर्ष अधिकारी अनुपस्थित थे. राय ने यह भी कहा कि दिल्ली में 13 प्रदूषण हॉटस्पॉट हैं.

“आज शादीपुर, मंदिर मार्ग, पटपड़गंज, सोनिया विहार और मोतीबाग सहित आठ अन्य बिंदुओं पर स्थानीय कारणों से एक्यूआई स्तर 300 से ऊपर देखा गया. प्रदूषण के स्थानीय स्रोतों की पहचान और निरीक्षण के लिए यहां विशेष टीमें तैनात की जाएंगी''
गोपाल राय

गोपाल राय ने यह भी कहा कि सरकार ने शहर के भीतर धूल प्रदूषण का मुकाबला करने के साधन के रूप में धूल दमनकारी पाउडर को नियोजित करने का विकल्प भी चुना है. उन्होंने कहा, "दिल्ली में ठंड बढ़ने लगी है और हवा की गति कम हो गई है, इससे प्रदूषण बढ़ सकता है... कण जमीन के पास रह रहे हैं. दिल्ली में जीआरएपी यानी ग्रैप का दूसरा चरण लागू हो गया है."

मंत्री ने कहा, "मौसम हमारे हाथ में नहीं है, लेकिन स्रोतों को नियंत्रित करने की जरूरत है...जीआरएपी मुख्य रूप से सफाई और पानी छिड़काव आदि के बारे में है. लोगों से निजी वाहनों का उपयोग कम करने के लिए कहा जाएगा ...बसों और ट्रेनों की आवृत्ति बढ़ाई जाएगी."

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
×
×