फेसबुक ने हेट स्पीच पॉलिसी के तहत BJP नेता राजा सिंह को बैन किया

कुछ हफ्तों पहले ही अमेरिकी अखबार वॉल स्ट्रीट जर्नल ने इस पर खोजी रिपोर्ट की थी.

Published
भारत
3 min read
फेसबुक ने हेट स्पीच पॉलिसी के तहत BJP नेता राजा सिंह को बैन किया

फेसबुक को लेकर राजनीतिक रस्साकशी चल रही है. एक तरफ खुद फेसबुक पर देश की सत्ताधारी पार्टी बीजेपी के साथ मिलीभगत कर हेट स्पीच पॉलिसी पर समझौता करने के आरोप लगे तो वहीं बीजेपी के नेताओं ने भी आरोप लगाए कि फेसबुक का राइट विंग को लेकर पक्षपाती रवैया रहता है.

लेकिन अब खबर आई है कि फेसबुक ने बीजेपी नेता टी राजा सिंह पर फेसबुक से बैन लगा दिया है.

कुछ हफ्तों पहले ही आई थी रिपोर्ट

कुछ हफ्तों पहले ही अमेरिकी अखबार वॉल स्ट्रीट जर्नल की खोजी रिपोर्ट में बताया गया कि कैसे फेसबुक इंडिया की पॉलिसी एग्जीक्यूटिव अंखी दास ने कैसे कुछ बीजेपी से जुड़े नेताओं जैसे अनंत हेगड़े, टी राजा सिंह के मामले में हेट स्पीच नियमों का उल्लंघन किया.

फेसबुक के प्रवक्ता ने वॉल स्ट्रीट जर्नल से कहा है कि- हमने टी राजा सिंह को फेसबुक से बैन किया है क्यों कि उसने नफरत और हिंसा को लेकर जो बातें कही हैं वो हमारी पॉलिसी का उल्लंघन है.

WSJ की जांच

वॉल स्ट्रीट जर्नल (WSJ) ने 15 अगस्त को अपनी एक रिपोर्ट में खुलासा किया कि अंखी दास ने कम से कम तीन हिंदू राष्ट्रवादी संगठनों और लोगों के खिलाफ कभी 'हेट स्पीच' के नियम के तहत कार्रवाई नहीं की. जबकि कंपनी के कर्मचारियों ने इन लोगों और संगठनों के हिंसा को बढ़ावा देने या उसमें शामिल होने की बात सामने रखी थी.

इस रिपोर्ट में बीजेपी नेता टी राजा सिंह का नाम आया था.

टी राजा सिंह कौन हैं?

41 साल के टी राजा सिंह तेलंगाना के गोशामहल से भारतीय जनता पार्टी के विधायक है. बताया जा रहा है कि अमेरिकी अखबार की खबर के बाद टी राजा से जुड़े कुछ पोस्ट फेसबुक ने हटाए हैं. लेकिन टी राजा का कहना है कि उनका कोई भी वेरीफाइड फेसबुक पेज नहीं है. उनके फैन पेज पर क्या चलता है इसके लिए वो जिम्मेदार नहीं हैं.

राजा सिंह खुद को कट्टर हिंदूवादी नेता बताते हैं और उनके उत्सवों के दौरान भाषणों, चुनावी रैलियों में वो बार-बार वो अखंड हिंदू राष्ट्र की बातें करते हैं. उनके भाषणों में कई बार हिंसक और भड़काऊ बातें आती हैं, वो अपने समर्थकों से तलवार, त्रिशूल रखने का आग्रह करते हैं. खासतौर पर धार्मिक आधार पर वो धर्म विशेष को टारगेट करते हैं और इसी पर आधारित राजनीति करते हैं.

पिछले सालों में उनके कुछ बयान -

  • हमें राम राज्य की स्थापना करना है. लेकिन राम राज्य की स्थापना बातों से नहीं होगी, जो राम राज्य के खिलाफ रहेगा उसको लातों से मारकर हमें रामराज्य की स्थापना करनी होगी.

  • अखंड हिंदू राष्ट्र बातों से नहीं बनता. हमें हिंदू राष्ट्र हर तरीके से बनाना है चाहे इसके लिए प्राण लेने पड़ें या प्राण देने पड़ें.

  • जो भी व्यक्ति अखंड हिंदू राष्ट्र के बीच में आएगा उसका नामो निशान- जनता बोलती है "मिट जाएगा" अखंड हिंदू राष्ट्र की स्थापना के लिए हर हिंदू अपने घर में हथियार रखना सीखे.

  • भरी रैली में लोगों को संबोधित करते हुए कहते हैं कि- जिन लोगों के हाथ में त्रिशूल नहीं है, आप सभी लोग तलवार खरीदने का काम करो. हर हिंदू के हाथ में तलवार होने की आवश्यक्ता है.

  • आज का हिंदू सुनने वाला हिंदू नहीं है, फोड़ने वाला हिंदू है.

  • हर नौजवान को एके-47 की शिक्षा देनी चाहिए. क्यों कि आने वाला जो युद्ध होगा वो पत्थर और तलवार से नहीं होगा वो बम और गोली से होगा.

  • मोदी जी हाथ जोड़ के निवेदन है कि जो आजादी आपने हमारी आर्मी को दी है, हमें भी 10 मिनट के लिए फ्रीडम दे दो. कोई गिरफ्तारी नहीं, कोई एफआईआर नहीं.

  • हम तो मरने वालों में से हैं, लेकिन जो मरता है वो सौ को लेकर मरता है. इन हरामियों का इतिहास क्या है, कहां से आए हो क्या तुमको याद है. अरे हम हिंदुओं की तो तुम सा* औलाद हो. बेटा बाप हैं हम तुम्हारे. और बाप बाप होता है और बेटा सिर्फ बेटा.

  • अपने मन में एक बात बिठा लो कि मैं एक रुपये की चीज भी खरीदूंगा तो हिंदू के पास से खरीदूंगा. इन देशद्रोहियों से नहीं खरीदूंगा. 100 करोड़ हिंदू अगर मेरी बात को लागू कर दें तो बाकी के 25 करोड़ अगर हिंदू धर्म कन्वर्ट न कर लें तो मेरा नाम बदल देना.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!