सिंघु बॉर्डर पर किसानों ने लोहड़ी में जलाई किसान कानूनों की कॉपी

13 जनवरी को किसानों ने इन कानूनों की प्रतियां जलाई और इन्हें वापस लेना की मांग की.

Updated
भारत
2 min read

सिंघु बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे किसानों ने कृषि कानूनों के खिलाफ एक नए तरह का प्रदर्शन कर लोहड़ी मनाई. 13 जनवरी को किसानों ने इन कानूनों की प्रतियां जलाई और इन्हें वापस लेना की मांग की.

सिंघु बॉर्डर पर मौजूद कई किसानों ने क्विंट हिंदी से बातचीत में कहा कि उन्होंने ऐसी लोहड़ी पहले कभी नहीं जलाई. उनका कहना है कि इस बार की लोहड़ी अलग है कि इस बार सवाल हमारी जमीनों का है, खेती-किसानी का है. किसान कानूनों की प्रतियां जलाते किसान काफी उत्साह में थे और इसे अपने विरोध के तौर पर दिखा रहे थे.

ये किसान पिछले करीब दो महीने से सिंघु बॉर्डर समेत दिल्ली की अलग-अलग सीमाओं पर किसान कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं. कई राउंड की सरकार से बातचीत के बाद भी इन कानूनों को अबतक वापस नहीं लिया गया है. ऐसे में किसान संगठनों ने ऐलान किया था कि वो अपने प्रदर्शन की धार तेज करेंगे और अलग-अलग अवसरों पर किसान कानूनों का विरोध करेंगे. इसी क्रम में किसानों ने लोहड़ी के त्योहार पर अपना विरोध जाहिर किया है.

सुप्रीम कोर्ट ने लगाई है कानूनों पर रोक लेकिन किसान चाहते हैं वापसी

12 जनवरी को सुप्रीम कोर्ट ने तीनों किसान कानूनों पर रोक लगा देने का फैसला सुनाया और एक आपत्तियों को जानने के लिए एक कमेटी भी बनाई. किसानों ने फैसला का तो स्वागत किया है लेकिन उनका कहना है कि प्रदर्शन जारी रहेगा जबतक किसान कानूनों को पूरी तरह से वापस नहीं ले लिया जाता. सुप्रीम कोर्ट के द्वारा बनाई गई कमेटी पर भी किसान संगठनों ने सवाल उठाए हैं. कमेटी के चारों सदस्यों को किसान कानून के समर्थन वाला बताया है.

किसानों का कहना है कि वो 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्टर परेड की तैयारी में भी जुटे हैं और वो किसान कानूनों की वापसी तक नहीं रुकने वाले हैं.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!