ADVERTISEMENTREMOVE AD

G20 Summit का समापन, नवंबर में वर्चुअल मीटिंग, मोदी बोले- वक्त के साथ बदलाव जरूरी

G20 Summit 2023: प्रधानमंत्री मोदी ने ब्राजील के राष्ट्रपति लूला डा सिल्वा को G20 की अध्यक्षता सौंप दी है.

Updated
भारत
3 min read
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

दिल्ली में आयोजित दो दिवसीय G20 शिखर सम्मेलन (G20 Summit) का समापन हो गया है. प्रधानमंत्री मोदी (PM Modi) ने ब्राजील के राष्ट्रपति लूला डा सिल्वा को G20 की अध्यक्षता सौंप दी है. इसके साथ ही प्रधानमंत्री मोदी ने ऐलान किया कि नवंबर के अंत में G20 की वर्चुअल बैठक आयोजित होगी. इससे पहले बैठक में 'वन फ्यूचर' विषय पर चर्चा हुई.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

समापन सत्र में पीएम मोदी की बड़ी बातें

पीएम मोदी ने दिल्ली स्थित भारत मंडपम में G-20 प्रेसीडेंसी का बैटन ब्राजील के राष्ट्रपति को सौंपा. इसके साथ ही पीएम ने अगले साल के आयोजन के शुभकमानाएं भी दी हैं. उन्होंने कहा कि, "ब्राजील के राष्ट्रपति लुइज इनासियो लूला डा सिल्वा को मैं हार्दिक शुभकामान देता हूं और उन्हें G 20 की अध्यक्षता सौंपता हूं."

G20 Summit 2023: प्रधानमंत्री मोदी ने ब्राजील के राष्ट्रपति लूला डा सिल्वा को G20 की अध्यक्षता सौंप दी है.

पीएम मोदी ने ब्राजील के राष्ट्रपति को सौंपा G20 का बैटन

(फोटो: PTI)

इसके साथ ही प्रधानमंत्री मोदी ने G20 के समापन भाषण में कहा कि "जैसा कि आप सभी जानते हैं कि भारत के पास नवंबर 2023 तक G20 की अध्यक्षता की जिम्मेदारी है. इन दो दिनों में आप सभी ने बहुत सारे सुझाव दिए और प्रस्ताव रखे. हमारा कर्तव्य है कि जो सुझाव हमें मिले हैं उनकी एक बार फिर समीक्षा की जाए ताकि उनकी प्रगति को गति दी जा सके."

"मेरा प्रस्ताव है कि नवंबर के अंत में हम जी 20 का एक वर्चुअल सत्र आयोजित करें. हम उस वर्चुअल सत्र में इस शिखर सम्मेलन में तय किए गए विषयों की समीक्षा कर सकते हैं. मुझे आशा है कि आप सभी वर्चुअल सत्र में जुड़ेंगे. इसी के साथ मैं जी20 सत्र के समापन की घोषणा करता हूं."

पीएम मोदी ने आगे कहा कि "संपूर्ण विश्व में आशा और शांति का संचार हो. 140 करोड़ भारतीयों की इसी मंगलकामना के साथ आप सबका धन्यवाद." इस दौरान पीएम मोदी ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में स्थायी सदस्यों की संख्या बढ़ाने की भी बात कही. उन्होंने कहा कि वक्त के साथ बदलाव जरूरी है.

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में फिलहाल पांच सदस्य हैं. इनमें अमेरिका, रूस, चीन, ब्रिटेन और फ्रांस शामिल है. भारत इसके स्थायी सदस्यों की संख्या बढ़ाने की मांग लंबे समय से करता आ रहा है.
0

जी20 के पहले दिन हुई बैठक में क्या बातचीत हुई?

इससे पहले 9 सितंबर को सभी देशों के बीच ‘वन अर्थ, वन फैमिली’ विषय पर चर्चा हुई. पीएम मोदी ने अपने भाषण की शुरूआत मोरक्को में आए भूकंप के पीड़ितों से संवेदनाएं जताते हुए किया था.

प्रधानमंत्री मोदी ने अपने स्वागत भाषण में कहा कि...

"यह हम सबका साथ चलने का समय है, इसलिए सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास और सबका प्रयास का मंत्र हम सबके लिए पथ प्रदर्शक बन सकता है."
नरेंद्र मोदी (प्रधानमंत्री, भारत)

इसके साथ पीएम मोदी ने अफ्रीकन यूनियन को स्थाई सदस्यता देने का ऐलान किया. इसके साथ ही पहले दिन 'नई दिल्ली G20 लीडर्स समिट डिक्लेरेशन' / G20 New Delhi Leaders' Declaration को सर्वसम्मति से पास किया गया.

पीएम मोदी ने नई दिल्ली डिक्लेरेशन को ऐतिहासिक करार देते हुए एक्स (ट्विटर) पर पोस्ट कर कहा कि...

"जी-20 की घोषणा को इतिहास के अनुरूप बनाया गया है. आस्था और भावना से एकजुट होकर, हम बेहतर भविष्य के लिए सहयोगात्मक रूप से काम करने का संकल्प लेते हैं."
नरेंद्र मोदी (प्रधानमंत्री, नरेंद्र मोदी)

इसके बाद 9 सितंबर की रात में राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू की ओर से डिनर का आयोजन हुआ, जिसमें G20 के नेताओं ने शिरकत की.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×