ADVERTISEMENTREMOVE AD

हाथरस गैंगरेप पर देशभर में गुस्सा, दोषियों को सख्त सजा की मांग

निर्भया की मां ने यूपी सरकार से फास्ट ट्रैक कोर्ट में केस चलाने और आरोपियों को सख्त सजा की मांग की

Updated
भारत
4 min read
story-hero-img
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

देश में महिलाओं के खिलाफ होने वाले अपराधों पर लगाम लगने की बजाय ये लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं. अब उत्तर प्रदेश के हाथरस में एक एक युवती के साथ दरिंदगी की घटना सामने आई, गैंगरेप होने के कई दिनों बाद आखिरकार उस युवती ने हॉस्पिटल में दम तोड़ दिया. इसके बाद से ही देशभर में इस घटना को लेकर काफी ज्यादा गुस्सा है. फिर चाहे वो नेता हों या अभिनेता, हर तरफ से एक ही मांग उठ रही है कि दोषियों को सख्त से सख्त सजा मिलनी चाहिए. साथ ही उत्तर प्रदेश की कानून व्यवस्था पर एक बार फिर सवालिया निशान खड़े हो रहे हैं.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

अक्षय बोले- आखिर कब बंद होगा ये सब?

बॉलीवुड एक्टर अक्षय कुमार ने इस घटना को लेकर अपना गुस्सा जताते हुए कहा कि आखिर ये सब कब बंद होगा? उन्होंने ट्विटर पर लिखा,

“हाथरस में हैवानियत भरे गैंगरेप को लेकर गुस्सा और फ्रस्ट्रेट हूं. आखिर ये कब बंद होगा? हमारे कानून और एजेंसियों को इसके लिए काफी सख्त होना चाहिए और ऐसी सख्त सजा होनी चाहिए, जिससे रेपिस्ट के मन में डर पैदा हो. दोषियों को फांसी दी जानी चाहिए. बेटियों और बहनों को बचाने के लिए अपनी आवाज उठाएं, कम से कम हम इतना तो कर ही सकते हैं.”
निर्भया की मां ने यूपी सरकार से फास्ट ट्रैक कोर्ट में केस चलाने और आरोपियों को सख्त सजा की मांग की
0

बॉलीवुड एक्टर कंगना रनौत ने तो ऐसे अपराधियों को लोगों के सामने गोली मारने की बात कह डाली. उन्होंने कहा कि ऐसे हर साल बढ़ते गैंगरेप्स को रोकने के लिए आखिर क्या विकल्प है. इन रेपिस्ट को पब्लिकली गोली मार देनी चाहिए. ये देश के लिए एक दुखद और शर्मनाक दिन है.

एक्टर दिया मिर्जा ने भी इस घटना को लेकर कहा कि हम हाथरस पीड़िता को भूल गए. हम उसके लिए हर स्तर पर हार गए. ये हमारे सामूहिक विवेक पर है. वहीं हुमा कुरैशी, फरहान अख्तर, रिचा चड्ढा, स्वरा भास्कर समेत कई बॉलीवुड सितारों ने इस घटना पर गुस्सा जाहिर किया.

निर्भया की मां बोलीं- फास्ट ट्रैक कोर्ट में हो सुनवाई

इस घटना को लेकर निर्भया की मां ने भी दुख जताया है. जिनकी बेटी के साथ 2012 में कुछ ऐसी ही दरिंदगी हुई थी और कई दिनों बाद उसने दम तोड़ दिया था. निर्भया की मां ने कहा,

“बहुत दुख होता है जब बार बार ऐसी घटनाओं के बारे में सुनते हैं. लेकिन वही सुनने को मिलता है कि अपराधी पकड़े गए हैं जेल चले गए हैं, फिर कुछ दिन बाद ऐसी ही घटना हो जाती है. आज हाथरस की बेटी ने दम तोड़ दिया, मैं उनके परिवार के साथ हूं. यूपी सरकार से अपील है कि इस केस में मुजरिमों को सख्त से सख्त सजा हो और फास्ट ट्रैक में सुनवाई हो.”

राहुल, अखिलेश, मायावती समेत कई नेताओं ने किए ट्वीट

कांग्रेस नेता और सांसद राहुल गांधी ने भी इस घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताया और इसे लेकर सरकार पर जमकर हमला बोला. उन्होंने ट्विटर पर लिखा,

"UP के ‘वर्ग-विशेष’ जंगलराज ने एक और युवती को मार डाला. सरकार ने कहा कि ये फेक न्यूज है और पीड़िता को मरने के लिए छोड़ दिया. ना तो ये दुर्भाग्यपूर्ण घटना फेक थी, ना ही पीड़िता की मौत और ना ही सरकार की बेरहमी."

निर्भया की मां ने यूपी सरकार से फास्ट ट्रैक कोर्ट में केस चलाने और आरोपियों को सख्त सजा की मांग की
ADVERTISEMENT

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि आज की असंवेदनशील सत्ता से अब कोई उम्मीद नहीं बची. उन्होंने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा,

“प्रदेश में कानून-व्यवस्था पर हो रहे व्यंग्य-चित्रण वर्तमान सत्ता के दिखावटी शासन का भंडाफोड़ हैं. ये उप्र के बहन-बेटियों वाले परिवारों के लिए एक दुर्भाग्यपूर्ण शासनकाल है.”
अखिलेश यादव
निर्भया की मां ने यूपी सरकार से फास्ट ट्रैक कोर्ट में केस चलाने और आरोपियों को सख्त सजा की मांग की

वहीं यूपी की ही पूर्व मुख्यमंत्री और बीएसपी प्रमुख मायावती ने घटना पर दुख जताया और अपराधियों को सजा देने की बात कही. मायावती ने कहा,

"यूपी के हाथरस में गैंगरेप के बाद दलित पीड़िता की आज हुई मौत की खबर अति-दुःखद. सरकार पीड़ित परिवार की हर संभव सहायता करे व फास्ट ट्रैक कोर्ट में मुकदमा चलाकर अपराधियों को जल्द सजा सुनिश्चित करे, बीएसपी की यह मांग."

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी इस घटना को शर्म की बात बताया. उन्होंने ट्विटर पर लिखा,

“हाथरस की पीडिता की मौत पूरे समाज, देश और सभी सरकारों के लिए शर्म की बात है. बड़े दुःख की बात है कि इतनी बेटियों के साथ दुष्कर्म हो रहे हैं और हम अपनी बेटियों को सुरक्षा नहीं दे पा रहे, दोषियों को जल्द से जल्द फांसी की सजा मिलनी चाहिए.”
अरविंद केजरीवाल

कांग्रेस प्रवक्ता उदित राज ने भी ट्विटर पर कहा कि, "कौन कहता है कि बलात्कारी की जाति नहीं होती. हाथरस की दलित लड़की नहीं रही. जो लोग कहते हैं कि बलात्कार की जाति नहीं होती वे इस केस को अपनी सोच को दुरुस्त करने के लिए ताजा मामला मान सकते हैं. बलात्कारी चारो सवर्ण थे."

पूर्व जेएनयू छात्र कन्हैया कुमार ने भी ट्विटर पर कहा कि बलात्कारियों को बचाने की कोशिश नहीं होनी चाहिए. उन्होंने लिखा, "UP का BJP MLA कुलदीप सेंगर याद है? सत्ता ने बलात्कार और हत्या के इस आरोपी को बचाने का भरपूर प्रयास किया था. इससे ही बलात्कारियों का मनोबल बढ़ता है. हाथरस की दर्दनाक घटना में भी यही देखने को मिला है. बलात्कारी बेखौफ होकर हमारी निर्भयाओं को बलात्कार के बाद मौत के घाट उतार रहे हैं."

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENTREMOVE AD
Published: 
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
×
×