ADVERTISEMENT
मेंबर्स के लिए

हिमाचल में भी 'जोशीमठ' जैसा खतरा- शिमला, चंबा से लेकर मंडी तक सड़क-घरों में दरार

Joshimath like Crisis in Himachal: CM सुखविंदर सुक्खू ने केंद्रीय मंत्री से हिमाचल आकर दुर्गति देखने गुजारिश की

Updated
भारत
6 min read

हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने केंद्र सरकार को राज्य में संभावित जोशीमठ (Joshimath) जैसी जमीन धंसने की चेतावनी दी है और "व्यापक तबाही" को रोकने के लिए संवेदनशील क्षेत्रों पर ध्यान देने का आग्रह किया है. क्विंट की टीम मंडी के कुछ गांवों में पहुंची, जहां वाकई में सीएम की चेतावनी सच होती दिख रही है.

दिल्ली में आयोजित भारत मौसम विज्ञान विभाग के 148वें स्थापना दिवस समारोह के दौरान वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सुक्खू ने कहा, "जैसा कि जोशीमठ में हुआ है, हिमाचल प्रदेश में भी ऐसे कई क्षेत्र हैं जो धीरे-धीरे भू-धंसाव का अनुभव कर रहे हैं. अगर सही समय पर सही समाधान और उपाय नहीं किए गए, तो व्यापक तबाही हो सकती है."

ADVERTISEMENT

हिमाचल में खतरा

उत्तराखंड के जोशीमठ में जमीन धंसने के हाहाकार की आहट अब हिमाचल में भी सुनाई देने लगी है. यहां मंडी जिले के तीन गांवों पर खतरा मंडरा रहा है. आलम ये है कि लोगों की जमीन पर चौड़ी-चौड़ी दरारें आ गई हैं. वहीं घर भी फटने शुरू हो गए हैं. ये दरारें कब तबाही का रूप ले लें कोई नहीं जानता.

खतरे की जद में तीन गांव, 60 से 80 बीघा जमीन में दरारें

मंडी जिला की सराज घाटी में नागानी, थलौट और फागू गांव में 60 से 80 बीघा जमीन धंस रही है. यहां घरों में दरारें आने से लोग दहशत में हैं. जमीन में कही आधा फीट से तो कहीं इससे भी गहरी दरारें पड़ गई हैं. लोगों का कहना है कि शायद ये खतरा इतना नहीं होता अगर प्रशासन पहले जाग जाता और फोरलेन प्रोजेक्ट कंपनी की मनमानी रुक जाती तो शायद ये दिन नहीं देखना पड़ता.

घर का बुरा हाल हो गया है. एक तो बहुत गरीब हूं और मजदूरी के आलावा ना जाने क्या-क्या कर नय घर बनाया लेकिन अब जीवन की सारी जमापूंजी से तैयार किया ये आशियाना पूरी तरह से फट चुका है. घर–बार तबाह हो गए लेकिन एक भी पैसा मुआवजा नहीं दिया गया है। खतरा तो है लेकिन अब जाएं तो कहां जाएं.
शालानाल गांव के जयदेव

शालानाल गांव के जयदेव के घर में दरार

(फोटो:क्विंट हिंदी)

ADVERTISEMENT

बता दें कि इस खतरे को देखते हुए बैठक के दौरान हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने केंद्रीय विज्ञान मंत्री जितेंद्र सिंह से आपदा प्रबंधन से संबंधित मुद्दों पर चर्चा करने के लिए हिमाचल प्रदेश आने का अनुरोध किया है. मुख्यमंत्री ने कहा,

‘प्लीज आप हिमाचल प्रदेश आइए. हम आपदा से जुड़े मामलों पर आपसे चर्चा करना चाहते हैं. आप पड़ोसी राज्य से हैं और आप हिमाचल प्रदेश की भूगर्भीय स्थितियों को जानते हैं.’

बीते दो दिनों से घरों में आ रही ज्यादा दरारें

लोगों का कहना है फोर लेन निर्माण में जरूरत से ज्यादा कटिंग की गई. पूरी की पूरी पहाड़ी काट दी गई. लोगों का कहना है कि खतरा पहले से था लेकिन अब दो दिन से ये दरारें ज्यादा बढ़ रही हैं.

घर और आस-पास से जमीन पूरी तरह से फट चुकी है. लगातार खतरा महसूस हो रहा है. कई बार इसके बारे में प्रशासन को भी बताया है. कंपनी ने नुकसान का मुआवजा तो दिया लेकिन ये बेहद कम था.
तांवला गांव के बीरू राम

तांवला गांव के बीरू राम का घर

(फोटो:क्विंट हिंदी)

ADVERTISEMENT

कई लोग बेघर, टीमों ने किया दौरा, लेकिन नहीं मिला मुआवजा

लोगों का आरोप है कि फोरलेन कटिंग से कई लोग बेघर हो चुके हैं. दरारें बढ़ने के कारण कुछ घरों को खाली करा दिया गया है. लिहाजा पीड़ितों का कहना है कि वे अपना सबकुछ छोड़कर आखिर कहां जाएं. अपने बच्चों को लेकर कहां जाएं. उनकी सारी कमाई उनके घरों पर लग गई और अब ना घर है, ना पैसा. बहते हुए आंसुओं के साथ ग्रामीण कहते हैं कि तीन टीमें उनके गांवों का दौरा कर चुकी हैं और मुआवजे का आश्वसन भी दिया लेकिन अभी तक उन्हें एक पैसा तक नहीं मिला.

2018-19 में शूरू हुआ था कीरतपुर-मनाली हाइवे का काम

कीरतपुर-मनाली हाइवे का काम 2018-19 में शुरू हुआ था. गांव वालों का कहना है तब गांव के हालात सामान्य थे. लिहाजा जैसे-जैसे फोरलेन का काम बढ़ने लगा तो दरारें आनी शुरू हो गईं. गांव वालों के मुताबिक सबसे पहले दरारें 2020 के बाद आनी शुरू हुई थीं. और अब ये दरारें काफी गहरी होने के साथ साथ और चौड़ी होती जा रही हैं. आपको बता दें कि फोरलेन का काम पूरा होने की अवधी 2024 तक है.

ADVERTISEMENT
घर का बुरा हाल है और दीवारों के साथ-साथ आस-पास की जमीन भी फट चुकी है. खतरा लगातार बना हुआ है लिहाजा अगर कोई भी अनहोनी घटना होती है तो उसका जिम्मेदार प्रशासन होगा. हम दोनों भाइयों के मकान का नुकसान हो चुका है लेकिन हमें कोई मुआवजा नहीं मिला.
फागू गांव के पूर्ण चंद

फागू गांव के पूर्ण चंद के घर में दरारें

(फोटो:क्विंट हिंदी)

‘जिंदगी यहां बिताई अब कहां जाऊं’

बहते आंसुओं के साथ फांगू गांव की महिलाओं चमारी और साइना ने बताया कि घर लगभग तबाह हो चुका है और बारिश में भी ये खतरा बना रहता है. ऐसे में पड़ोसी लोग भी यहां से चले जाने को कहते हैं. चमारी देवी कहती हैं -

''मैंने सारी उम्र यहां बिताई है अब बुढ़ापे में आखिर कहां जाऊं. वहीं साइन का कहना है कि घर टूट चुका है और परिवार में पांच बच्चे हैं. ऐसे में बच्चों को लेकर कहां जाएं.''

खतरे पर बोले ADM मंडी

गांव की इस हालत को लेकर जब क्विंट ने ADM मंडी से बात की तो उन्होंने गांवों में खतरे की बात को माना. उन्होंने कहा कि पहाड़ी कटने से घरों में दरारें आई हैं. ADM ने बताया की टीमों ने करीब 10 गांव का दौरा किया है और तीन से चार घरों में ज्यादा दरारें आई हैं. ADM ने बताया कि टीम जांच कर रही है, अभी रिपोर्ट आना बाकी है और उसी के बाद साफ तौर पर कुछ भी कहा जा सकता है.

ADVERTISEMENT

NTPC की नौ सुरंगों के निर्माण से दहला गांव

जानकारी के मुताबिक गांव के आस पास NTPC की नौ सुरंगें बनी हैं और इन सुरगों के निर्माण के लिए विस्फोटकों का इस्तेमाल किया गया है. स्थानीय लोगों का दावा है कि इन धमाकों से सारा इलाका दहल चुका है, जमीन फट चुकी है और घरों की नींव भी कच्ची हुई है.

शिमला में चार महीने पहले धंसी सड़क, जिसे अब भर दिया गया है

(फोटो:क्विंट हिंदी)

राजधानी शिमला का रिज मैदान भी खतरे में

धंस रहे मंडी के तीन गांव तो एक तरफ हैं लेकिन दूसरी तरफ राजधानी शिमला का ऐतिहासिक रिज मैदान भी सुरक्षित नहीं है. शिमला भी जोशीमठ जैसे हालातों के साथ खड़ा है और अपने बोझ तले दब रहा है. यहां रिज मैदान का एक हिस्सा भी धंस चुका है. इसके अलावा लक्कड़ बाजार और लद्दाखी मोहल्ला का कुछ इलाका भी खतरे में हैं. कई भूवैज्ञानिक सर्वे में इन्हें असुरक्षित घोषित कर चुके हैं. वन कटाव और जल निकासी की सही व्यवस्था ना होना इसका मुख्य कारण माना जा रहा है.

चंबा की जमीन में आई दरार

(फोटो:क्विंट हिंदी)

चंबा में फट रही दीवारें

चंबा के झरौता गांव में जोशीमठ की तरह घरों की दीवारें तिरछी हो गई हैं, सीढ़ियां टेढ़ी हो गई हैं और जमीन धंस गई है. झरौता गांव शिमला से करीब 400 किलोमीटर दूर है. झरौता गांव के लोग बेहद परेशान हैं और उजड़ने की आशंका के बीच जीने को विवश हैं. दरअसल यहां पिछले साल बिजली परियोजना की एक सुरंग के कारण झरौता घरों में दरारें आ गई थी. घटना को एक साल बीत जाने के बाद भी कोई ग्रामीणों के जख्मों पर मरहम लगाने को तैयार नहीं है. चंद नेताओं और स्थानीय प्रशासन की टीम के अलावा इस गांव के लोगों पर किसी ने ध्यान नहीं दिया.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Published: 

रोज का डोज

निडर, सच्ची, और असरदार खबरों के लिए

By subscribing you agree to our Privacy Policy

अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×