ADVERTISEMENTREMOVE AD

लंदन में खालिस्तान समर्थकों का आतंक, भारतीयों को बनाया निशाना

लंदन में खालिस्तान समर्थकों ने लगाए नारे, ब्रिटिश भारतीयों पर किया हमला

Updated
भारत
2 min read
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा

पाकिस्तानी आईएसआई समर्थित संगठन खालिस्तान ने एक बार फिर लंदन में भारतीय लोगों पर हमला किया है. बताया जा रहा है कि लंदन में खालिस्तानियों ने ब्रिटिश भारतीयों पर अचानक हमला बोल दिया. जानकारी के मुताबिक कुछ प्रवासी भारतीय लंदन हाई कमीशन के सामने खड़े थे, तभी कुछ लोगों ने आकर उन पर हमला करना शुरू कर दिया. जिन्हें खालिस्तानी समर्थक बताया जा रहा है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

नारे लगाते हुए आए खालिस्तानी

न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक शनिवार को कुछ पगड़ी वाले लोग (खालिस्तानी) लंदन में मौजूद इंडियन हाई कमीशन पहुंचे. यहां पहले से ही कुछ भारतीय लोग मौजूद थे. जिन्हें देखकर पगड़ी पहने इन खालिस्तानियों ने उन पर हमला बोल दिया. बताया जा रहा है कि इस दौरान हमला करने वाले लोगों ने 'नारा-ए-तकबीर' और 'अल्लाह उ अकबर' के नारे भी लगाए.

इससे पहले भी लंदन में खालिस्तान की मौजूदगी कई बार देखी गई है. खालिस्तानी यहां पर कई रैलियां भी कर चुके हैं. भारत सरकार की तरफ से कई बार इस संगठन के खिलाफ कार्रवाई की बात की गई है. लेकिन इसके बावजूद खालिस्तानी समर्थक अपने मंसूबों को अंजाम देते आए हैं

मामले की जांच शुरू

जानकारी के मुताबिक भारतीयों पर हुए इस हमले के बाद लंदन की सुरक्षा एजेंसियों और पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है. इस मामले में आरोपियों की पहचान की जा रही है. इस हमले का एक वीडियो भी जारी हुआ है. जिसमें कुछ खालिस्तान समर्थक लोगों पर हमला करते हुए नजर आ रहे हैं. फिलहाल भारत की तरफ से इसके बारे में कोई भी बयान जारी नहीं हुआ है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

कौन हैं खालिस्तानी समर्थक?

'खालिस्तान' के तौर पर स्वायत्त राज्य की मांग ने 1980 के दशक में जोर पकड़ा. धीरे-धीरे ये मांग बढ़ने लगी और इसे खालिस्तान आंदोलन का नाम दिया गया. अकाली दल के कमजोर पड़ने और 'दमदमी टकसाल' के जरनैल सिंह भिंडरावाला की लोकप्रियता बढ़ने के साथ ही ये आंदोलन हिंसक होता गया. तब से आज तक कई दूसरे देशों में बैठकर भी खालिस्तान समर्थक भारत में कट्टरवादी विचारधारा को हवा देते रहते हैं.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×