ADVERTISEMENTREMOVE AD

सलमान खान पर हमले की दूसरी कोशिश नाकाम, बिश्नोई गैंग के 4 लोग गिरफ्तार- पुलिस

पुलिस का मानना ​​है कि यह बिश्नोई गैंग द्वारा मुंबई में पैर जमाने और शहर में जबरन वसूली शुरू करने की कोशिश है.

Published
भारत
2 min read
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा

बॉलीवुड एक्टर सलमान खान (Salman Khan) की मुश्किलें कम होने का नाम लेती नहीं दिख रहीं हैं. सलमान खान के बांद्रा स्थित आवास के बाहर दो आरोपियों द्वारा गोलीबारी करने के एक महीने से ज्यादा समय बाद, नवी मुंबई पुलिस ने शनिवार, 01 जून को बताया कि एक्टर पर एक और हमले की योजना बनाई गई थी. जब वह अपने पनवेल फार्महाउस के रास्ते में थे और इस मामले में पिछले हफ्ते चार लोगों को गिरफ्तार किया गया था.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

'पाकिस्तान से हथियार मंगवाने की थी योजना' - पुलिस  

माना जाता है कि गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई मुंबई और नवी मुंबई दोनों मामलों में शामिल है. सलमान खान 1998 में राजस्थान में एक फिल्म की शूटिंग के दौरान एक काले हिरण को गोली मारने के बाद से इस गिरोह के रडार पर हैं और कथित तौर पर उन्हें धमकियां मिल रही हैं. इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार, पुलिस का मानना ​​है कि यह बिश्नोई द्वारा मुंबई में पैर जमाने और शहर में जबरन वसूली शुरू करने की कोशिश है.

पुलिस के मुताबिक नवी मुंबई ऑपरेशन में लगभग 16-17 लोग शामिल थे और उन्होंने इस साल फरवरी में पनवेल में रेकी की थी.

नवी मुंबई पुलिस के मुताबिक गिरफ्तार आरोपियों की पहचान धनंजय उर्फ ​​अजय कश्यप, गौरव भाटिया उर्फ ​​नाहवी, वासपी खान उर्फ ​​वसीम चिकना और रिजवान खान उर्फ ​​जावेद खान के रूप में हुई है.

इस हमले के बारे में जानकारी देते हुए नवी मुंबई पुलिस ने बताया कि, "लॉरेंस बिश्नोई के गिरोह के चार लोगों को गिरफ्तार किया है, क्योंकि वे पनवेल में एक्टर सलमान खान की कार पर हमला करने की योजना बना रहे थे. इसके लिए पाकिस्तानी हथियार सप्लायर से हथियार मंगवाने की योजना थी. लॉरेंस बिश्नोई, अनमोल बिश्नोई, संपत नेहरा, गोल्डी बरार समेत 17 से ज्यादा लोगों के खिलाफ FIR दर्ज की गई है. आगे की जांच जारी है."

श्रीलंका जाने की फिराक में थे आरोपी

FIR के अनुसार, पनवेल के वरिष्ठ निरीक्षक नितिन ठाकरे को सूचना मिली थी कि बिश्नोई गिरोह के सदस्य पनवेल में रेकी करने के लिए डेरा डाले हुए हैं. पुलिस ने बताया कि हमले के बाद आरोपी अंडरग्राउंड हो जाने वाले थे और कन्याकुमारी में वापिस इकठ्ठा होने वाले थे, जहां से उन्हें श्रीलंका जाना था.

(इनपुट्स - इंडियन एक्सप्रेस)

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×