ADVERTISEMENT

महाराष्ट्र पुलिस पर आदिवासी महिलाओं के आरोप सुन फिल्म 'जय भीम' की याद आ गई

इस घटना के बाद पीड़ित आदिवासी महिलाएं वापस अपने गांव लौटना चाहती हैं.

Updated
भारत
3 min read
ADVERTISEMENT

''छह महिलाओं को पुलिस अफसर ने बीच बाजार रिक्शे में बिठा लिया. थाने ले जाकर पीटा. ये सब हुआ चोरी के शक में लेकिन कोई FIR भी दर्ज नहीं की गई''

ये आरोप लगा है महाराष्ट्र पुलिस (Maharashtra Police) पर और आरोप लगाया है आदिवासी महिलाओं (Aadivasi) ने. महाराष्ट्र के वसई से सामने आई ये शर्मनाक घटना हाल ही में रिलीज हुई फिल्म 'जय भीम' की याद दिलाती है.

दरअसल, ये सभी महिलाएं मूल रूप से पालघर जिले के कासा आदिवासी इलाके की रहने वाली हैं. पीड़ित महिलाओं के नाम बेबी नारायण वावरे, दीपिका दिनेश वावरे, विमल माणक्या पुंजारा, सोनम साबू भोइर, सीता संतराम भोइर, तरु सुभाष डोकफोडे हैं. काम की तलाश में ये वसई की पापड़ी झील कोलीवाड़ा में झुग्गियों में रहने आई हैं. 19 नवंबर के दिन ये महिलाएं वसई पश्चिम में हर लगने वाले शुक्रवार हाट में कुछ समान खरीदने पहुंचीं.

पीड़ित महिलाओं के मुताबिक-

"कुछ पुलिसकर्मियों ने हमें बाजार में घेर लिया. पहले तो हमें लगा कि मास्क ना पहनने की वजह से उन्हें रोका गया होगा. लेकिन एपीआई विनोद वाघ रिक्शा में बिठाकर पापड़ी पुलीस चौकी ले गए. एपीआई वाघ ने हमपर बाजार में चोरी के आरोप लगाए और डंडे से हाथों पर मारने लगे. हमने उन्हें अपनी पहचान बताई, आधार कार्ड दिखाया लेकिन फिर भी हमें गाली गलौच करते हुए फिर से बाजार में दिखाई ना देने की धमकी दी."

पीड़ित महिला बेबी वावरे ने क्विंट हिंदी को बताया कि इस घटना के बाद वे काफी डर गई थीं.

"हम अपना पेट भरने आदिवासी पाड़े से शहरों में आते हैं. हम दिहाड़ी करके 300 से 400 रुपये कमा लेते हैं. अगर हमें चोरी करनी होती तो काम की तलाश में यहां क्यों आते. सिर्फ हम गरीब और पिछड़े वर्ग से हैं, इसीलिए हम पर चोरी का आरोप लगाया जा रहा है."
ADVERTISEMENT

वसई में पुलिस द्वारा आदिवासी महिलाओं के साथ कथित मारपीट मामले के विरोध में सड़क पर उतरे लाल बावटा संगठन के शेरू वाघ ने सवाल उठाया है. शेरू वाघ ने कहा, "हमारी महिलाओं ने पुलिसवाले को मारा होता तो क्या पुलिस पहले जांच करती या सीधे मामला दर्ज होता? तो फिर बिना किसी सबूत आदिवासी महिलाओं की मारपीट करनेवाले पुलिसवाले पर महिला उत्पीड़न और एट्रोसिटी का मामला दर्ज क्यों नहीं किया जा रहा?"

<div class="paragraphs"><p>आदिवासी महिलाओं के साथ कथित मारपीट मामले में विरोध करते लाल बावटा संगठन</p></div>

आदिवासी महिलाओं के साथ कथित मारपीट मामले में विरोध करते लाल बावटा संगठन

(फोटो- क्विंट हिंदी)

शेरू का कहना है कि जिन पुलिस अधिकारियों ने गुनाह किया है वही मामले की जांच कैसे कर सकते हैं? संगठन की मांग है कि सबसे पहले संबंधित पुलिस अधिकारी को निलंबित कर मामला कोर्ट में चलाना चाहिए, तभी न्याय की अपेक्षा कर सकते हैं.

बीजेपी की महाराष्ट्र उपाध्यक्ष चित्रा वाघ ने भी जोनल डीसीपी संजय पाटिल से मुलाकात कर संबंधित पुलिस अधिकारी पर जल्द से जल्द कड़ी कार्रवाई की मांग की है.

पुलिस की सफाई

मामला तूल पकड़ने के बाद कुछ सब्जी विक्रेताओं के बयान के आधार पर कार्रवाई करने का दावा अब पुलिस कर रही है. पहले एपीआई विनोद वाघ का मीरा भायंदर वसई विरार कंट्रोल रूम में तबादला किया गया, लेकिन श्रमजीवी संगठन और लाल बावटा संगठन के आंदोलन के बाद दबाव बढ़ने से अब एपीआई वाघ को फोर्स्ड लीव पर भेजा गया है. जोनल डीसीपी संजय पाटिल ने आश्वासन दिया है कि अगले 8 दिनों में मामले की जांच कर रिपोर्ट पेश की जाएगी. कोई दोषी पाया गया तो कार्रवाई होगी. इस आश्वासन के बाद अब संगठनों ने आंदोलन को स्थगित कर दिया है.

इस मामले में पीड़ित आदिवासी महिलाएं वापस अपने गांव लौटना चाहती हैं. इस घटना के बाद से पुलिस, मीडिया और कई संगठनों के कार्यकर्ताओं से लगातार हो रही पूछताछ से वो परेशान हो गई हैं. उन्हें काम मिलने में भी मुश्किलें आ रही है. ऐसे में उन्हें न्याय मिले न मिले लेकिन दो वक्त की रोटी जुटाने का संघर्ष अब भी करना पड़ रहा है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT