ADVERTISEMENTREMOVE AD

इस्लाम की खातिर: बनारस में गायों के रक्षक बने ये मुसलमान

बनारस में गायों का इलाज करने वाले कुछ मुस्लिम युवाओं की कहानी जो हर रात लगाते हैं आवारा जानवरों के जख्मों पर मरहम.

Published
भारत
3 min read
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

उन्हें मौत का डर नहीं. धार्मिक फतवों का भय नहीं. वे हर रात निकलते हैं बनारस की गलियों में. गाय, सांड, कबूतर, कुत्ते और गधे जैसे बेबस जानवरों को खोजने में. उनके जख्मों पर मरहम लगाने के वास्ते. ये कहानी है बनारस के आधा दर्जन हिंदु-मुस्लिम लड़कों की.

बनारस की गलियों में रात के वक्त हमारी मुलाकात इन मुस्लिम युवाओं से हुई. तब तकरीबन 10.30 का वक्त हुआ था और ये नौजवान एक सांड के इलाज में व्यस्त थे.

बनारस में गायों का इलाज करने वाले कुछ मुस्लिम युवाओं की कहानी जो हर रात लगाते हैं आवारा जानवरों के जख्मों पर मरहम.
मौलाना कलामतपुरी साहब (बाएं), रुस्तम (बीच में) और एसएम खुर्शीद (दाएं) (फोटो: Raushan Jaiswal)
सांड के खुर का इलाज करते इन लड़कों में आते-जाते लोगों की दिलचस्पी तो थी, लेकिन पूरी तरह सड़ चुके सांड के पैर के खुर के इतनी बदबू आ रही थी कि चलता- फिरता कोई भी वहां एक मिनट भी खड़ा होने की हिम्मत तक नहीं जुटा पा रहा था. कुछ ये नजारा देखने के लिए खड़े भी हो रहे थे तो चेहरे पर रुमाल लगाए. 

इन युवाओं को देखकर कुछ हिंदू लड़कों को अपनी जिम्मेदारी का एहसास हुआ तो वो रस्सी के सहारे सांड को मजबूती के साथ पकड़ने की ठानी.

लगभग एक घंटे तक सांड के पिछले दोनों पैरों की ड्रेसिंग चली. मुख्य रूप से रुस्तम पूरी शिद्दत से ड्रेसिंग करते रहे तो खुर्शीद अंधेरे में टार्च दिखाते रहे. एक अन्य मुस्लिम नौजवान कम्पाउंडर की भूमिका में थे तो मौलाना कलामनूरी साहब सांड का सिर सहलाने में लगे थे.

बनारस में गायों का इलाज करने वाले कुछ मुस्लिम युवाओं की कहानी जो हर रात लगाते हैं आवारा जानवरों के जख्मों पर मरहम.
(फोटो: Raushan Jaiswal)

इस्लामिक फाउंडेशन के अध्यक्ष एसएम खुर्शीद ने अपना परिचय दिया. उन्होंने बताया कि पिछले 7 सालों से वो यूं ही गलियों-सड़कों की खाक छानकर रात के वक्त मजलूम बेबस जानवरों को खोजते हैं ताकि दर्द से उनको निजात दिला सकें.

फ्री में करते हैं इलाज

रात को मजमा नहीं लगता और शांति में जानवर भी परेशान नहीं करता. अब कई साल बीत चुके हैं तो लोग थोड़ा जानने लगे हैं और फोन करके ऐसे चोटिल जानवरों के बारे में जानकारी दे दिया करते हैं. फिर, रात में 9 से 12 के बीच हम पहुंचकर निशुल्क इलाज में जुट जाते हैं.

खुर्शीद ने बताया कि ज्यादातर चोटिल जानवरों में उनको गाय-सांड ही मिलते हैं जो राह चलते गाड़ियों का शिकार हो जाते हैं.

स्थानीय लोगों का समर्थन- परिवार का विरोध

डॅाक्टर के नाम से मशहूर हो चुके रुस्तम के पास कोई डिग्री तो नहीं लेकिन उसका दिल काफी बड़ा है. रुस्तम के मुताबिक, उनसे जानवरों का दर्द देखा नहीं जाता. पिछले 7 सालों में उन्होंने गाय-सांड से लेकर कुत्ता, गधा और कबूतर का भी इलाज भी किया है.

इस बार इस सांड की तीसरी बार ड्रेसिंग करने आए हैं. उन्होंने बताया कि कई बार अपनी इस हरकत पर उन्हें परिवार वालों के विरोध का सामना भी करना पड़ा है. लेकिन उनका मन नहीं मानता. एक बार बनारस के ही रेवड़ी तालाब इलाके में कुछ सिरफिरों ने गाय के इलाज के वक्त विरोध किया तो मोहल्ले वालों ने सिरफिरों को चलता किया. रुस्तम का मानना है कि नेता वोट बैंक की राजनीति के लिए हिंदू-मुस्लिम को लड़वाते हैं.

‘इस्लाम कहता है जो दया करेगा उसपर ऊपर वाले की दया होगी’

मौलाना कलामनुरी साहब ने बताया कि वे बीफ खाने के पक्ष में नहीं हैं; पैगंबर और इस्लाम का पैगाम है कि जो जमीन वाले पर दया करेगा ऊपर वाले की दया उसी पर होगी.

उन्होंने बताया कि जिस मुल्क में रहो उसका और मुल्क के कानून का सम्मान करना चाहिए.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

0
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×