गलवान झड़प से ध्यान भटकाने के लिए भारत ने डिप्लोमेट्स को निकाला:पाक

‘गलवान घाटी झड़प से चिंता में पाकिस्तान’

Published
भारत
2 min read
पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी
i

भारत सरकार ने 23 जून को दिल्ली स्थित पाकिस्तान हाई कमीशन को अपना स्टाफ 50% कम करने का आदेश दिया. भारत ने पाकिस्तान से स्टाफ घटाने की प्रक्रिया सात दिन में खत्म करने को कहा. भारत ने ये कदम हाई कमीशन के दो अधिकारियों के जासूसी करते हुए पकड़े जाने और इस्लामाबाद में भारतीय हाईकमीशन के दो अधिकारियों के अगवा होने के बाद उठाया. अब पाकिस्तान के विदेश मंत्री ने इस पर प्रतिक्रिया देते हुए इसे 'ध्यान भटकाने की कोशिश' बताया है.

रॉयटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा कि LAC पर चीन के हाथों 'चोट' खाने के बाद भारत ने अपने लोगों का ध्यान भटकाने के लिए ये कदम उठाया है.

'पाकिस्तान पर आरोप निराधार'

भारत ने पाकिस्तानी हाई कमीशन के अधिकारियों पर जासूसी के आरोप लगाते हुए स्टाफ कम करने को कहा था. शाह महमूद कुरैशी ने इन आरोपों को 'निराधार' बताया.

कुरैशी ने कहा, "लद्दाख में भारत को मिली चोट का उनके पास कोई जवाब नहीं है और इसलिए वो अपने लोगों का ध्यान भटकाना चाहते थे."

'गलवान घाटी झड़प से चिंता में पाकिस्तान'

विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा कि पाकिस्तान 15 जून को गलवान घाटी में भारत और चीन के बीच हुई झड़प से चिंता में है. कुरैशी का कहना है कि ऐसी आशंका है कि पाकिस्तान इसमें घसीटा जा सकता है.

कुरैशी ने रॉयटर्स से एक इंटरव्यू में कहा, "चीजें बिगड़ गई हैं और काफी नाजुक हैं."

हमें चिंता है कि भारत क्षेत्रीय तनाव में पाकिस्तान को घसीटने की कोशिश कर सकता है. मुझे डर है कि भारत की पाकिस्तानी क्षेत्र में कोई भी हरकत की वजह से पाकिस्तान ताकत का इस्तेमाल करता.  
शाह महमूद कुरैशी, पाकिस्तान के विदेश मंत्री

शाह महमूद कुरैशी ने कहा कि पाकिस्तान लद्दाख में चीन की पोजीशन का समर्थन करता है और उन्होंने हाल ही में चीन के टॉप डिप्लोमेट वांग यी से बात की थी.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!