ADVERTISEMENT

वर्ल्ड कप मैच के दौरान खालिस्तान मूवमेंट के समर्थन में लगे नारे

90 के दशक में सुरक्षा बलों ने पंजाब से मिलिटेंसी को खत्म कर दिया, इसके बाद से पाक खालिस्तानियों के संपर्क में रहा है

Published
भारत
2 min read
वर्ल्ड कप मैच के दौरान खालिस्तान मूवमेंट के समर्थन में लगे नारे
i

रोज का डोज

निडर, सच्ची, और असरदार खबरों के लिए

By subscribing you agree to our Privacy Policy

भारतीय सेना के पूर्व अफसर ने कहा है कि ब्रिटेन और कनाडा में रह रहे खालिस्तान समर्थक सिखों को पाकिस्तानी मुसलमान और ISI का समर्थन मिलता है. साथ ही इन देशों में बने गुरुद्वारों से चरमपंथियों को खालिस्तान मूवमेंट को जिंदा रखने के लिए भारी मात्रा में फंड और संरक्षण मिलता है. वहीं वर्ल्ड कप के मैचों के दौरान भी कई बार खालिस्तानियों को मैच देखते हुए पाया गया है.

ADVERTISEMENT
‘‘खालिस्तान मूवमेंट के लिए सबसे ज्यादा पैसा कनाडा और यूनाइटेड किंगडम से आता है. हालांकि, इन देशों की सरकारें इन्हें सपोर्ट नहीं करतीं. यूनाइटेड किंगडम में पाकिस्तान का एक बहुत बड़ा मुस्लिम समुदाय रहता है जो कि काफी खुलकर काम करता है और इनका समर्थन करते हैं. साथ ही ये सब पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI के संपर्क में भी हैं. ये सब मिलकर युनाइटेड किंगडम में एक आंदोलन खड़ा करना चाहते हैं और दो देशों से इन्हें फंड मिलता है.’’
मेजर जनरल(रिटायर्ड) ध्रुव सी. कटोच

पाकिस्तान हमेशा से ही भारत की शांति को भंग करने के एजेंडे पर काम कर रहा है. सोशल मीडिया पर भी ऐसे कई वीडियो वायरल हुए थे जिनमें वर्ल्ड कप मैच के दौरान पाकिस्तानियों के साथ मिलकर खालिस्तान समर्थक सिख नारे लगा रहे हैं.

मेजर जनरल ध्रुव कटोच का मानना है कि पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी खालिस्तान समर्थकों के साथ मिलकर भारत के संप्रभुता को खंडित करना चाहती है और वो आग से खेल रही है.

‘‘पाकिस्तान एक गंदा खेल खेल रहा है. पाकिस्तान को ये याद रखना चाहिए कि महाराजा रणजीत सिंह की एक सिख रियासत थी और उसकी राजधानी लाहौर थी. अगर वो खालिस्तान मूवमेंट की आग को हवा देते हैं तो पाकिस्तान के टुकड़े होना भी तय है.’’
मेजर जनरल(रिटायर्ड) ध्रुव सी. कटोच
ADVERTISEMENT

मैच के दौरान पाकिस्तानियों के साथ नारे लगाते खालिस्तान समर्थक

पाकिस्तान और अफगानिस्तान के बीच खेले गए वर्ल्ड कप मुकाबले में स्टैंड्स में कुछ लोग खालिस्तान और पाकिस्तान का झंडा लेकर नारेबाजी कर रहे थे. एक वीडियो जो सबसे ज्यादा वायरल हुई उसमें एक महिला ने दावा किया कि वो अहमदाबाद के जुहापुरा से है. इस वीडियो में सिख समुदाय के लोग ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ और खालिस्तान जिंदाबाद के नारे लगा रहे हैं. इस वीडियो के वायरल होने के बाद अहमदाबाद पुलिस की क्राइम ब्रांच इस महिला की जानकारी इकट्ठा कर रही है.

बता दें, 90 के दशक में भारतीय सुरक्षा बलों ने पंजाब से मिलिटेंसी को खत्म कर दिया था. इसके बाद से पाकिस्तान लगातार खालिस्तान समर्थकों के संपर्क में रहा है.

(इनपुट ANI से)

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
450

500 10% off

1620

1800 10% off

4500

5000 10% off

or more

प्रीमियम

3 माह
12 माह
12 माह

गणतंत्र दिवस स्पेशल डिस्काउंट. सभी मेंबरशिप प्लान पर 10% की छूट

मेंबर बनने के फायदे
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×