ADVERTISEMENT

कोविड-19 पर रघुराम राजन- वैक्सीन सबसे बड़ा हथियार, लेकिन ग्लोबल लीडरशिप की कमी

रघुराम राजन ने ‘द क्विंट’ के एडिटर-इन-चीफ,राघव बहल के साथ ‘पोस्ट कोविड इकनॉमिक रिवाइवल ऑफ इंडिया’ टॉपिक पर बातचीत की

Updated
भारत
2 min read
कोविड-19 पर रघुराम राजन- वैक्सीन सबसे बड़ा हथियार, लेकिन ग्लोबल लीडरशिप की कमी
i

भारतीय रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन (Raghuram Rajan) ने एशिया सोसाइटी इंडिया सेंटर द्वारा आयोजित "कोविड के बाद भारत की आर्थिक रिकवरी" विषय पर क्विंट के एडिटर इन चीफ राघव बहल (Raghav Bahl) से एक्सक्लूसिव बातचीत में कहा कि, कोविड-19 (COVID-19) महामारी से लड़ने और इकनॉमिक रिवाइवल के लिए सबसे बड़ा हथियार है ज्यादा से ज्यादा वैक्सीन उत्पादन लेकिन इसको ग्लोबल लीडरशिप और ग्लोबल लाइसेंसिंग की गैर-मौजूदगी ने प्रभावित किया है.

ADVERTISEMENT

यूनिवर्सिटी ऑफ शिकागो बूथ स्कूल ऑफ बिजनेस में फाइनेंस के प्रोफेसर और हाल ही में प्रकाशित किताब द थर्ड पिलर: हाउ मार्केट्स एंड द स्टेट लीव द कम्युनिटी बिहाइंड के लेखक, राजन ने वैश्विक स्तर पर वैक्सीनेशन में असमानता और धीमी रफ्तार के सवाल पर कहा कि अब सवाल या चिंता सिर्फ सभी को जल्द-से-जल्द वैक्सीन देने का नहीं है बल्कि बूस्टर डोज देने का भी है.

“मै महामारी विशेषज्ञ नहीं हूं लेकिन वास्तविकता यह है कि वैक्सीनेशन प्रोग्राम काफी असमान है- देशों के बीच भी और देशों के अंदर भी, जहां की सरकार एक्टिव थी उन्होंने पहले ही वैक्सीन प्रोक्योर कर लिया, जैसे इजरायल ने, लेकिन दिक्कत है वायरस के आते नये वेरिएंट. वैक्सीन डोज जो पहले के वेरिएंट के खिलाफ असरदार थे, लेकिन वो आने वाले वेरिएंट के प्रति कम असरदार हैं. चिंता सिर्फ सभी को जल्द-से-जल्द वैक्सीन देने की नहीं है बल्कि बूस्टर डोज देने की भी है.”
रघुराम राजन

कोविड-19 वैक्सीनेशन ड्राइव में मौजूदा 3 बड़ी समस्या

वैक्सीन की कमी- कोविड-19 वैक्सीनेशन ड्राइव में वैक्सीन की कमी को सबसे बड़ी समस्या बताते हुए रघुराम राजन ने कहा कि अफ्रीका के कई देशों के साथ-साथ भारत में भी वैक्सीन की पर्याप्त संख्या न होने के कारण वैक्सीनेशन की रफ्तार धीमी है. राजन के अनुसार भारत सही समय पर पर्याप्त वैक्सीन की व्यवस्था कर सकता था लेकिन यह करने में नाकाम रहा.

वैक्सीन का लोगों तक नहीं पहुंच पाना- रघुराम राजन के अनुसार कई ऐसे देश हैं जहां लॉजिस्टिकल समस्या के कारण वैक्सीन होने पर भी लोगों को इसकी किल्लत का सामना करना पड़ रहा है. उनके अनुसार भारत इस मोर्चे पर सही दिशा में है.

वैक्सीन लगवाने में झिझक- वैक्सीन से जुड़ी झिझक और फेक न्यूज को दूर करने की आवश्यकता पर बल देते हुए उन्होंने कहा कि अमेरिका जैसे देश में भी इसके कारण कोरोना के डेल्टा वेरिएंट का खतरा बना हुआ है.

मसला वैक्सीन की कीमत का नहीं- रघुराम राजन

वैक्सीनेशन की धीमी रफ्तार के लिए वैक्सीन की कीमतों को कारण मानने से इनकार करते हुए राघराम राजन ने कहा कि हर इंसान को वैक्सीन लगाने के लिए जितना प्रॉफिट मार्जिन वैक्सीन उत्पादकों को देना पड़ेगा उससे ज्यादा हमे महामारी के कारण आर्थिक हानि के रूप में चुकाना पड़ा है.

राजन ने आगे कहा कि, वैक्सीन के मोर्चे पर वैश्विक स्तर पर यह सोच ही नहीं है कि “तब तक कोई भी सुरक्षित नहीं हो सकता जब तक कि हर इंसान सुरक्षित न हो जाये”. उनके अनुसार बड़े स्तर पर वैक्सीन के उत्पादन और उसमे तेजी के लिए ग्लोबल लाइसेंसिंग पर ध्यान देना चाहिए.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Published: 
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
×
×