ADVERTISEMENT

घट रही है श्रमिक स्पेशल ट्रेन की मांग,भेजे गए 52 लाख यात्रीःरेलवे 

रेलवे ने कहा, 90 प्रतिशत ट्रेन केवल यूपी बिहार के लिए चलाई गई इससे नेटवर्क कंजेस्टेड हो गया.

Published
भारत
2 min read
घट रही है श्रमिक स्पेशल ट्रेन की मांग,भेजे गए 52 लाख यात्रीःरेलवे 
i

रोज का डोज

निडर, सच्ची, और असरदार खबरों के लिए

By subscribing you agree to our Privacy Policy

रेलवे बोर्ड ने श्रमिक स्पेशल ट्रेनों को लेकर बताया है कि, रेलवे ओरिजनेटिंग राज्य की मांग के हिसाब से ट्रेन चलाया जा रहा है और धीरे-धीरे ऐसा लग रहा है कि, जिस राज्य से ट्रेनों को चलाया जा रहा है वहां की मांग कम होने लगी है. रेलवे बोर्ड के चेयरमैन विनोद कुमार यादव ने कहा, 28मई तक 3,840 श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चली हैं, करीब 52लाख यात्री जा चुके हैं. वहीं, उन्होंने ट्रेनों के भटकने की खबरों को गलत बताया है.

ADVERTISEMENT

चेयरमैन विनोद कुमार यादव ने कहा, पिछले एक हफ्ते में हमने प्रतिदिन करीब 3 लाख प्रवासी श्रमिकों को उनके गंतव्य तक पहुंचाया. उन्होंने कहा,

24 मई को हमने सब राज्य सरकारों से उनकी ट्रेनों की जरूरत ली थी, ये करीब 923 ट्रेनों की थी. गुरुवार को हमने फिर राज्य सरकारों से बात करके उनकी ट्रेनों की जरूरत ली, आज केवल 449 ट्रेनों की जरूरत है.

ट्रेन भटकी नहीं थी डायवर्ट की गईं

रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष ने कहा कि, पिछले दिनों ट्रेन भटकने की खबर आई. लेकिन ये भटकी नहीं थी बल्कि डायवर्ट की गई थी. उन्होंने बताया, 1 से 19 मई और 25 से 28 मई के बीच किसी भी ट्रेन को डायवर्ट नहीं किया गया. लेकिन 20 से 24 मई के बीच राज्यों की मांग अधिक होने के कारण कुछ ट्रेनों को डायवर्ट किया गया. 90 प्रतिशत ट्रेन केवल यूपी बिहार के लिए चलाई गई इससे नेटवर्क कंजेस्टेड हो गया.

‘अब तक कुल 3,840 ट्रेन चली, जिसमें से 71 ट्रेनों को डायवर्ट किया गया. ये 20 से 24 मई के बीच हुई, जिससे सभी राज्यों की जरूरते पूरी हो सकें.’
विनोद कुमार यादव, रेलवे बोर्ड अध्यक्ष

'रेलवे ने कराई 30 से अधिक डिलीवरी'

मेडिकल सुविधाओं को लेकर रेलवे की ओर से कहा गया कि, कुछ गर्भवती महिलाओं ने ट्रेन की यात्रा के दौरान मांगा था. भारतीय रेलवे ने अपने डॉक्टर भेजकर ट्रेन में 30 से अधिक डिलीवरी कराई हैं. भारतीय रेलवे के डॉक्टर और नर्स 24 घंटे काम कर रहे हैं, जहां जरूरत हैं वहां पहुंच रहे हैं. जरूरत के हिसाब से लोगों को अस्पताल और घर में शिफ्ट किया गया.

वहीं, मौत के आंकड़ों को लेकर रेलवे ने कहा कि, ऐसी खबरें आई थी कि कुछ लोगों की भूख से मौत हुई है, लेकिन ये सही नहीं है. इस मामले में जांच की जा रही है कि मौत किस वजह से हुई. पूरी जांच के बाद मौत का आंकड़ा दिया जा सकता है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
500
1800
5000

or more

प्रीमियम

3 माह
12 माह
12 माह
मेंबर बनने के फायदे
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×