ADVERTISEMENT

राम मंदिर ट्रस्ट ने जमीन घोटाले के आरोप में खुद को क्लीन चिट दी

विवादित डील के दिन ही एक और जमीन खरीदने पर कुछ नहीं बोला Ram Mandir Trust

Published
भारत
2 min read
राम मंदिर ट्रस्ट ने जमीन घोटाले के आरोप में खुद को क्लीन चिट दी
i

रोज का डोज

निडर, सच्ची, और असरदार खबरों के लिए

By subscribing you agree to our Privacy Policy

रामजन्मभूमि तीर्थ ट्रस्ट (Ram Mandir Trust) के सदस्यों ने जमीन खरीद घोटाले के आरोपों (land deal allegations) में खुद को क्लीन चिट दे दी है. ट्रस्ट के सदस्यों ने मीडिया से बातचीत के दौरान दावा किया कि 'एक्सपर्ट्स की एक टीम ने जमीन खरीद से जुड़े सभी दस्तावेज देखें हैं' और किसी तरह की अनियमितताओं का 'सबूत नहीं मिला' है.

ADVERTISEMENT

ट्रस्ट सदस्यों की तीन दिनों की बैठक के बाद ट्रेजरर गोविंद देव गिरी ने कहा कि रामजन्मभूमि तीर्थ ट्रस्ट किसी तरह के 'मीडिया ट्रायल' में शामिल नहीं होगा और सिर्फ अथॉरिटीज को ही जवाब देगा.

गिरी ने कहा कि जमीन खरीद से जुड़े सभी दस्तावेज 'ईमानदारी और पूरी पारदर्शिता' दिखाते हैं.
ADVERTISEMENT

जमीन सौदे में कुछ गैरकानूनी नहीं: ट्रस्ट

गोविंद देव गिरी ने कहा कि पिछले 15-20 दिनों में राम मंदिर निर्माण में बाधा डालने की कुछ घटनाएं हुई हैं. गिरी ने कहा, "कुछ राजनीतिक और तथाकथित धार्मिक लोगों ने कहा कि घोटाला हुआ है. मुझे कई फोन आए जिन्होंने ट्रस्ट में विश्वास जताया और मामले को देखने को कहा."

"पिछले तीन दिनों से हम मामले की जांच कर रहे हैं. मैं वकील, लेखपाल और चार्टर्ड अकाउंटेंट लाया था. हमें ये कहते हुए खुशी हो रही है कि उम्मीद के मुताबिक जमीन खरीद की पूरी प्रक्रिया में अनियमितता नहीं थी."

गिरी ने कहा, "जांच के बाद हम कह सकते हैं कि जमीन सौदे में कुछ गैरकानूनी नहीं हुआ. सभी जमीन बाजार के दाम पर खरीदी गई हैं." गिरी ने आरोप लगाने वालों को चुनौती देते हुए कहा कि 'अगर वो जमीन इससे कम दाम में खरीद सकते हैं तो हम उनसे जमीन खरीदने को तैयार हैं.'

ADVERTISEMENT

'मीडिया ट्रायल पर ध्यान नहीं देंगे'

ट्रस्ट से सबूत मांगने पर गिरी ने कहा कि 'हम मीडिया ट्रायल में नहीं जाएंगे, लेकिन कोई अथॉरिटी पूछेगी तो हम उन्हें सबूत देंगे.'

गिरी ने कहा, "हम लोगों से अपील करेंगे कि राजनीतिक एजेंडा रखने वालों और राष्ट्रवादी विचारों को कुचलने वालों पर विश्वास न करें."

उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री और समाजवादी पार्टी के प्रवक्ता पवन पांडेय ने आरोप लगाया था कि जिस जमीन का बैनामा 2 करोड़ में हुआ था, उसी दिन उस जमीन का एग्रीमेंट ट्रस्ट के साथ साढ़े 18 करोड़ में किया गया. आरोप है कि बैनामे और एग्रीमेंट के बीच का समय महज कुछ मिनटों का ही रहा. ट्रस्ट ने जमीन दो प्रॉपर्टी डीलर से खरीदी थी. इन डीलर ने जमीन हरीश और कुसुम पाठक से 2 करोड़ में खरीदी थी.

हालांकि, इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, इस डील के दिन ही ट्रस्ट ने पाठक दंपति से एक और जमीन का सौदा किया था. ये डील करीब 8 करोड़ में हुई थी. ट्रस्ट ने इस सौदे पर अब तक कुछ नहीं कहा है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
500
1800
5000

or more

प्रीमियम

3 माह
12 माह
12 माह
मेंबर बनने के फायदे
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×