ADVERTISEMENTREMOVE AD

RAW के नए प्रमुख IPS रवि सिन्हा कौन हैं, जो सामंत गोयल की जगह लेंगे?

Ravi Sinha मौजूदा RAW प्रमुख सामंत गोलय की जगह लेंगे.

Published
भारत
2 min read
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

केंद्र सरकार ने छत्तीसगढ़ कैडर के IPS अधिकारी रवि सिन्हा को देश की रिसर्च एंड एनालिसिस विंग (RAW) का नया प्रमुख नियुक्त किया है. सिन्हा साल 1988 बैच के छत्तीसगढ़ कैडर के अधिकारी हैं. वह मौजूदा RAW चीफ सामंत गोयल का स्थान लेंगे.

ADVERTISEMENTREMOVE AD
RAW के मौजूदा प्रमुख सामंत गोयल साल 1984 के पंजाब कैडर के IPS अधिकारी हैं, जो 30 जून को सेवानिवृत्त हो रहे हैं. सामंत गोयल के रॉ चीफ रहते ही पाकिस्तान में बालाकोट एयरस्ट्राइक को अंजाम दिया गया था. साथ ही जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाया गया था.

रवि सिन्हा, दो साल तक इस पद पर रहेंगे. अभी तक वह केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर कैबिनेट सचिवालय में स्‍पेशल सेक्रेटरी के रैंक पर तैनात हैं. कैबिनेट की अपॉइंटमेंट कमेटी ने सिन्हा के नाम को मंजूरी दी है.

केद्र सरकार की विज्ञप्ति में कहा गया है कि "कैबिनेट की नियुक्ति समिति ने रवि सिन्हा, IPS (CG: 88), PSO, विशेष सचिव, कैबिनेट सचिवालय (SR) की दो साल के कार्यकाल के लिए सचिव, अनुसंधान और विश्लेषण विंग के रूप में नियुक्ति को मंजूरी दे दी है."

सरकार ने सोमवार को एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा कि रवि सिन्हा पिछले सात सालों से रॉ में ऑपरेशन विभाग के प्रमुख के रूप में कार्यरत हैं.

रवि सिन्हा दिल्ली के सेंट स्टीफंस कॉलेज के पूर्व छात्र हैं.

 Ravi Sinha मौजूदा RAW प्रमुख सामंत गोलय की जगह लेंगे.
स्नैपशॉट
  • रवि सिन्हा छत्तीसगढ़ कैडर के IPS अधिकारी हैं.

  • वह 88 बैच के अधिकारी हैं.

  • साल 2002 में भारत सरकार में डेपुटेशन पर गए थे.

  • साल 2021 में उन्हें केंद्र सरकार में DG इम्पेल पद पर पदोन्नति दी गई थी.

  • अब 2023 में उन्हें RAW के प्रमुख पद पर नियुक्ति की गई है.

रिसर्च एंड एनालिसिस विंग (RAW) की स्थापना 21 सितंबर 1968 में की गई थी. इसका मुख्य काम विदेशी खुफिया जानकारी, आतंकवाद का मुकाबला, प्रसार-विरोधी, भारतीय नीति निर्माताओं को सलाह देना और भारत के विदेशी सामरिक हितों को आगे बढ़ाना है. रिसर्च एंड एनालिसिस विंग की स्थापना से पहले, विदेशी खुफिया संग्रह मुख्य रूप से इंटेलिजेंस ब्यूरो (IB) की जिम्मेदारी थी, जिसे ब्रिटिश राज के दौरान भारत सरकार द्वारा बनाया गया था.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

0
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
×
×