इलेक्टोरल बॉन्ड के खिलाफ दायर PIL पर SC सुनवाई को तैयार
SC ने पूछा- इलेक्टोरल बॉन्ड से और नहीं बढ़ेगी कालेधन की समस्या?
SC ने पूछा- इलेक्टोरल बॉन्ड से और नहीं बढ़ेगी कालेधन की समस्या?(फोटो: क्विंट)

इलेक्टोरल बॉन्ड के खिलाफ दायर PIL पर SC सुनवाई को तैयार

इलेक्टोरल बॉन्ड की बिक्री पर रोक लगाने वाली जनहित याचिका (PIL) पर सुप्रीम कोर्ट सुनवाई करने के लिए तैयार हो गया है. सुप्रीम कोर्ट इस मामले में जनवरी में सुनवाई शुरू कर सकता है. एक गैर सरकारी संगठन ने इलेक्टोरल बॉन्ड को लेकर सुप्रीम कोर्ट में जनहित याचिका दायर की थी. इस याचिका में इलेक्टोरल बॉन्ड के जरिए पॉलिटिकल फंडिंग में कथित अपारदर्शिता के चलते बॉन्ड जारी करने पर रोक लगाने की मांग की गई है.

Loading...

इसके पहले ADR ने अप्रैल 2018 में इलेक्टोरल बॉन्ड्स के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की थी. जगदीप छोकर बताते हैं कि कोर्ट ने सुनवाई के बाद कहा, " काफी महत्वपूर्ण मुद्दें उठाए गए हैं जिनका असर देश के इलेक्टोरल सिस्टम पर होता है." छोकर कहते है कि ये सुनवाई 12 अप्रैल 2018 को हुई थी लेकिन उसके बाद कुछ नहीं हुआ.

हमने कुछ दिन पहले ही एक नई एप्लीकेशन डाली है. RTI से कुछ जानकारियां मिली हैं जो इन बॉन्ड्स को लेकर हमारे शक को पुख्ता करती है. सबसे खतरनाक बात ये है कि एक अनुमान विपक्षी पार्टियों की फंडिंग बंद होने का है और सारा पैसा सत्ताधारी दल को मिल जाए. एक बार कोई सत्ता में आ गया तो उनको हटाना लगभग नामुमकिन हो जाएगा क्योंकि दूसरी पार्टियों के पास पैसा ही नहीं होगा.
जगदीप छोकर

ये भी पढ़ें : इलेक्टोरल बॉन्ड: हजारों करोड़ के चंदे पर क्यों खामोश है BJP?

क्या है इलेक्टोरल बॉन्ड्स?

इलेक्टोरल बॉन्ड स्कीम को मोदी सरकार में जनवरी 2018 में अधिसूचित किया गया था. कहा गया था कि इससे राजनीतिक फंडिंग में पारदर्शिता आएगी. लेकिन इसने चुनावी फंडिंग को अपारदर्शी बना गया है. राजनीतिक पार्टियों के लिए यह जरूरी नहीं है कि वह इलेक्टोरल बॉन्ड डोनर के बारे में चुनाव आयोग को बताए.

ये भी पढ़ें : इलेक्टोरल बॉन्ड: चंदा देने वालों को भी सरकार ने दिया चकमा,नया सबूत

बीजेपी को मिला इलेक्टोरल बॉन्ड से सबसे ज्यादा चंदा

इलेक्शन कमीशन में जमा की गई रिपोर्ट के मुताबिक बीजेपी को साल 2017-18 में सबसे ज्यादा चंदा मिला है. बीजेपी को 210 करोड़ रुपये 2000 रुपये के रूप में मिले. देश की सभी राजनीतिक पार्टियों को इलेक्टोरल बॉन्ड के जरिए जो चंदा मिला, उसमें से बीजेपी का 94.5% हिस्सा है. जमा की गई रिपोर्ट में बताया गया है कि बीजेपी को 210 करोड़ रुपये मिले है. चुनावी चंदे के लेनदेन को पारदर्शी बनाने के लिए बने इलेक्टोरल बॉन्ड के जरिए इस साल सबसे अधिक चंदा बीजेपी को ही मिला है.

ये भी पढ़ें : इलेक्टोरल बॉन्ड स्कैम भारतीय लोकतंत्र के लिए खतरा क्यों है?

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Follow our भारत section for more stories.

    Loading...