ADVERTISEMENT

पेट्रोल पर मोदी मिमिक्री के लिए केस की धमकी,क्या बोले श्याम रंगीला

श्याम रंगीला ने कहा- मैं पहले भी महंगाई पर बोलता था, आज भी बोलता हूं, लेकिन अंधभक्त कहते हैं सब देशहित में हो रहा है

Published
भारत
4 min read
पेट्रोल पर मोदी मिमिक्री के लिए केस की धमकी,क्या बोले श्याम रंगीला

रोज का डोज

निडर, सच्ची, और असरदार खबरों के लिए

By subscribing you agree to our Privacy Policy

"जब बड़े नेता लगातार एक दूसरे पर चुनाव के दौरान हमला करते हैं और आरोप लगाते हैं तो किसी की भावनाएं आहत नहीं होती हैं, लेकिन हम जैसे सामान्य कॉमेडियन, जो किसी को 5 मिनट हंसाने का काम करते हैं, उनसे बहुत ज्यादा आहत हो जाती हैं"... ये कहना है मिमिक्री आर्टिस्ट और कॉमेडियन श्याम रंगीला का, जिनके खिलाफ राजस्थान के श्रीगंगानगर में एफआईआर दर्ज करने की तैयारी चल रही है. क्योंकि उन्होंने पेट्रोल की बढ़ती कीमतों को लेकर पेट्रोल पंप से ही एक वीडियो शूट किया था. इस पूरे मामले को लेकर हमने श्याम रंगीला से बात की, जिन्होंने हमें बताया कि कैसे नेताओं पर बोलने को लेकर लोगों की भावनाएं ठेस हो रही हैं.

ADVERTISEMENT

दरअसल श्याम रंगीला ने चार दिन पहले अपने यू-ट्यूब चैनल पर एक वीडियो पोस्ट किया था, जिसमें वो अपने पुराने अंदाज में, यानी पीएम मोदी की मिमिक्री करते हुए पेट्रोल के बढ़े दामों पर तंज कसते हुए नजर आ रहे हैं. लेकिन वीडियो पोस्ट करने के करीब तीन दिन बाद अब उनके खिलाफ मामला दर्ज होने की तैयारी चल रही है. अब ये मामला कौन दर्ज करवाना चाहता है और क्यों? इन तमाम सवालों के जवाब खुद श्याम रंगीला ने हमें दिए.

क्या था पूरा मामला?

श्याम रंगीला ने हमसे बातचीत में बताया कि पेट्रोल और डीजल की कीमतें 100 रुपये तक पहुंचने को लेकर उन्होंने एक वीडियो बनाने का प्लान किया. इसके लिए वो श्रीगंगानगर के एक पेट्रोल पंप पर पहुंचे, जहां कर्मचारियों ने उनसे कहा कि पहले सेठ जी से बात कर लीजिए. इसके बाद सेठ जी से फोन पर बात हुई और उन्होंने पूछा कि आखिर किस चीज का वीडियो बना रहे हैं, रंगीला ने उन्हें बताया कि वो पेट्रोल के 100 रुपये तक पहुंचने को लेकर वीडियो बनाना चाहते हैं. बताया कि यू-ट्यूब चैनल के लिए बना रहे हैं. बातचीत के बाद उन्होंने कहा कि वीडियो बना लीजिए. रंगीला ने बताया,

“वीडियो वायरल होने के बाद सेठ जी का फोन आया. उन्होंने कहा कि इस वीडियो से मुझे बहुत परेशानी हो रही है, इससे हमारी छवि खराब हुई है. मैंने उन्हें कहा कि मैं आपके पंप का नाम वीडियो से हटा देता हूं. लेकिन उन्होंने कहा कि मुझे कोई दिक्कत नहीं है, लेकिन हमारी कंपनी को दिक्कत है. इसीलिए मुझे आपके खिलाफ कार्रवाई करनी होगी. मैंने उन्हें कहा कि वीडियो नहीं हट सकता है, लेकिन अगर आपकी भावनाओं को ठेस पहुंची तो मैं माफी मांगता हूं.”
ADVERTISEMENT

पेट्रोल पंप चालक को मिली लाइसेंस रद्द करने की धमकी

श्याम रंगीला ने आगे कहा कि, मुझे ऐसी जानकारी मिली है कि पेट्रोल पंप चालक को सप्लाई बंद करने की धमकी दी गई है. उन्हें कहा गया है कि मुझ पर कार्रवाई करनी होगी, नहीं तो लाइसेंस रद्द हो जाएगा. लेकिन मुझे समझ नहीं आ रहा है कि किसकी छवि को इससे ठेस पहुंची है. अब तो मुझे डर लगने लगा है कि, कल अगर वीडियो शूट करता हूं तो मेरी जैकेट की कंपनी, मेरी टी-शर्ट कंपनी या फिर मेरे फोन की कंपनी वाले ये नहीं कह दें कि हमारी छवि को ठेस पहुंची है. क्योंकि मैंने उनके कपड़े पहनकर या फिर उनके फोन से वीडियो शूट किया है.

जब हमने श्याम रंगीला से पूछा कि इस तरह कॉमेडियंस पर लगातार केस दर्ज हो रहे हैं, या फिर धमकी मिल रही है तो इस पर उनका क्या कहना है? इस सवाल के जवाब में रंगीला ने कहा,

"अगर मुन्नवर फारुकी की बात करें तो, उसमें उन्होंने धार्मिक बात की. जिसमें हो सकता है कि कुछ लोगों की भावनाएं आहत हुई हों. मैं नहीं कहता हूं कि उन्होंने गलत किया. लेकिन मैं धार्मिक कॉमेडी से बचता हूं. जहां तक बात है पॉलिटिकल कॉमेडी की तो अगर इस पर केस होने लग गए तो फिर चुनाव के समय रैलियां नहीं होनी चाहिए. सभी एक दूसरे पर केस करने लगेंगे. इनकी भावनाएं बड़े नेताओं से आहत नहीं होती हैं, हम जैसे नॉर्मल कॉमेडियंस से होती हैं. मैं मोदी जी से पहले भी यही सोचता था कि हां पेट्रोल के दाम बढ़ रहे हैं, इस पर बोलता था. लेकिन अब बाबा रामदेव जी का भी विचार बदल चुका है और अंधभक्तों का भी विचार बदल चुका है, वो कहते हैं कि सब देशहित में हो रहा है. हमें इस चीज से दिक्कत है कि आप एक चीज पर रहो."

ADVERTISEMENT

श्याम रंगीला ने हमें बताया कि उन्हें अजीब-अजीब तर्क दिए जा रहे हैं. एक कमेंट में लिखा गया कि, तुम पेट्रोल की बात क्यों कर रहे है, ये क्यों नहीं दिखाते कि आलू सस्ता हो गया है. कुछ लोग मुझे 2014 में 1जीबी डेटा का रेट पूछ रहे हैं. अंधभक्त कुछ भी तर्क दे रहे हैं.

क्या ऐसी धमकियों से लगता है डर?

इसके जवाब में श्याम रंगीला ने कहा कि,

“मेरे साथ तो 2014, जब मैं अपनी मिमिक्री की शुरुआत ही कर रहा था तभी ये सब हो चुका है. तब मैं गांव में 26 जनवरी के एक प्रोग्राम में मिमिक्री कर रहा था, जिसमें हमारे सांसद आने वाले थे. जब मैं स्टेज पर पहुंचा तो एमपी आ गए, उनके आते ही मुझे स्टेज से उतार दिया गया और कहा कि उनके सामने मोदी जी की मिमिक्री मत करना. सांसद के जाने के बाद मैंने मिमिक्री शुरू की. उस दिन मेरी भावनाएं काफी आहत हुई थीं. लेकिन उस दिन मैंने सोचा था कि देखते हैं कहां-कहां से उतारते हैं. उस दिन मंच वाले की चल रही थी, लेकिन आज यू-ट्यूब मेरा मंच है. इसके बाद 2017 में भी मेरा वीडियो रोक दिया गया. तब भी मैं नहीं रुका”
ADVERTISEMENT

नए कॉमेडियंस के लिए रंगीला की सलाह

जूनियर मिमिक्री आर्टिस्ट्स और कॉमेडियंस को श्याम की सलाह है कि उन्हें इन सब चीजों से बिल्कुल नहीं घबराना चाहिए. उन्हें आम जनता की आवाज को देखना चाहिए. मेरा वीडियो जो वायरल हुआ है, उसे आम जनता ने ही फैलाया है. नए कॉमेडियंस को ये सोचना चाहिए कि, अगर किसी के कहने पर या किसी के दबाव में आकर हम ये करना बंद कर देंगे तो अगले 20 सालों में तो देश में कोई कॉमेडियन ही नहीं होगा, कोई आलोचना करने वाला ही नहीं बचेगा.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
500
1800
5000

or more

प्रीमियम

3 माह
12 माह
12 माह
मेंबर बनने के फायदे
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×