ADVERTISEMENTREMOVE AD

प्रशांत भूषण के खिलाफ अवमानना का केस, SC ने नोटिस देकर जवाब मांगा

कोर्ट ने ये कार्यवाही ट्विटर इंडिया के खिलाफ भी शुरू की है.

Published
भारत
2 min read
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

सु्प्रीम कोर्ट में बुधवार को वकील प्रशांत भूषण के खिलाफ उनके एक ट्वीट से जुड़े कन्टेम्प्ट ऑफ कोर्ट के मामले में सुनवाई हुई. इसी दौरान सुप्रीम कोर्ट ने प्रशांत भूषण को नोटिस जारी कर पूछा है कि उनके खिलाफ क्यों नहीं अवमानना का मामला चलाया जाए. मामले में अगली सुनवाई पांच अगस्त को होगी.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

सु्प्रीम कोर्ट ने मंगलवार को वकील प्रशांत भूषण के खिलाफ स्वत: संज्ञान लेते हुए कार्यवाही शुरू की थी. कोर्ट ने ये कार्यवाही ट्विटर इंडिया के खिलाफ भी शुरू की है.

दो ट्वीटस और अवमानना का केस

दरअसल, प्रशांत भूषण के खिलाफ उनके दो ट्वीट्स को लेकर यह कार्यवाही शुरू की गई है. इनमें से एक ट्वीट अभी हाल ही का है. इस ट्वीट में प्रशांत भूषण ने एक चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया एस ए बोबडे की एक तस्वीर शेयर की थी, जिसमें वो एक हार्ले डेविडसन की बाइक पर बैठे नजर आते हैं. प्रशांत भूषण ने उस ट्वीट में चीफ जस्टिस बोबडे को बाइक पर बिना हेलमेट और मास्क के बैठने का आरोप लगाया था, साथ ही ये भी कहा था कि चीफ जस्टिस 50 लाख की बाइक पर बैठे हैं, जोकि बीजेपी के एक नेता की है. आगे उन्होंने कहा था कि कोर्ट को लॉकडाउन में बंद रखा जा रहा है और लोगों से उनका न्याय का अधिकार छीना जा रहा है.

वहीं एक और ट्वीट में प्रशांत भूषण ने कहा था कि पिछले छह सालों में देश के चार चीफ जस्टिस की लोकतंत्र बर्बाद करने में भूमिका रही है. इस मामले की सुनवाई जस्टिस अरुण मिश्रा, बीआर गवई और कृष्णा मुरारी की बेंच कर रही है.

ट्विटर से भी SC का सवाल

सुप्रीम कोर्ट ने प्रशांत भूषण के ट्वीट पर ट्विटर से भी पूछा है कि अवमानना की कार्यवाही शुरू होने के बाद भी उसने खुद से ट्वीट क्यों नहीं डिलीट किया. इसपर ट्विटर की ओर से पेश वकील साजन पोवैया ने जवाब में कहा कि अगर कोर्ट आदेश देता है तो ही ट्वीट डिलीट किए जा सकते हैं, ट्विटर खुद से किसी ट्विट को डिलीट नहीं कर सकता.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

0
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
×
×