ADVERTISEMENTREMOVE AD

TRS मंत्री श्रीनिवास गौड़ की ‘हत्या की कोशिश’ केस में BJP के दो सहयोगी गिरफ्तार

वी श्रीनिवास गौड़ तेलंगाना के आबकारी और पर्यटन मंत्री हैं.

Published
भारत
2 min read
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा

तेलंगाना पुलिस (Telangana Police) ने 2 मार्च को राज्य के आबकारी और पर्यटन मंत्री वी श्रीनिवास गौड़ की हत्या की साजिश रचने के आरोप में पांच लोगों को गिरफ्तार किया. आरोपियों को भारतीय जनता पार्टी (BJP) के नेता एपी जितेंद्र रेड्डी के नई दिल्ली स्थित आवास के सर्वेंट क्वार्टर से गिरफ्तार किया गया. गौड़ और रेड्डी दोनों महबूबनगर जिले के रहने वाले हैं और एक दूसरे राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी हैं.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

साइबराबाद के पुलिस कमिश्नर एम स्टीफन रवींद्र ने 2 मार्च को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि रेड्डी के सहयोगियों...मधुसूदन राजू और अमरेंद्र राजू ने अन्य आरोपियों को सुपारी के रूप में 15 करोड़ रुपये की पेशकश की थी. फिलहाल दोनों गिरफ्तार किए जा चुके हैं.

पुलिस ने आरोपियों के पास से एक 9 एमएम की पिस्टल, एक देसी रिवॉल्वर और दो जिंदा कारतूस बरामद किए हैं.

क्या था कथित साजिश का मामला?

पिछले महीने 25 फरवरी को पेट-बशीराबाद पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज करवाई गई थी, जिसके आधार पर ये गिरफ्तारियां की गई हैं. मामले के शिकायतकर्ता फारूक और हैदर अली थे.

पुलिस कमिश्नर रवींद्र के मुताबिक बीजेपी सांसद के निजी सहायक (PA) राजू ने कथित तौर पर मंत्री की हत्या में मदद लेने के लिए फारूक से संपर्क किया था. इसके बाद फारूक ने अपने दोस्त हैदर अली को प्लान की जानकारी दी.

पुलिस का कहना है कि

राजू, फारूक और अली को कथित तौर पर मारना चाहता था, क्योंकि वो हत्या की योजना को लीक कर सकते थे. राजू के सहयोगियों- यदैया, नागराजू और विश्वनाथ ने कथित तौर पर 25 फरवरी को फारूक और अली का पीछा किया. पुलिस ने आरोप लगाया कि तीनों अपने साथ चाकू ले जा रहे थे.
हालांकि, फारूक और अली भाग गए और उसी दिन शिकायत दर्ज कराई.

इस बीच कथित साजिश में शामिल अन्य लोग मनुरू रवि, मधुसूदन राजू, राघवेंद्र राजू और अमरेंद्र राजू को बीजेपी नेता के आवासीय क्वार्टर में आश्रय प्रदान किया गया. नेता के पीए राजू ने कथित तौर पर यहां पर उनके ठहरने की व्यवस्था की थी.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

पुलिस कमिश्नर एम स्टीफन रवींद्र ने कहा कि साजिश में बीजेपी नेता और पूर्व सांसद की भूमिका की अभी भी जांच की जा रही है लेकिन, उनके निजी सहायक राजू और ड्राइवर थापा ने मामले में शामिल अन्य आरोपियों को आश्रय प्रदान किया.

पुलिस ने 2 मार्च को पांच लोगों को गिरफ्तार किया, वहीं बीजेपी नेता के पीए राजू की गिरफ्तारी होनी बाकी है.

तेलंगाना पुलिस ने कहा कि योजना मंत्री की हत्या करने की थी. स्टीफन रवींद्र ने कहा कि हमारे पास इस बात के लिए सभी सबूत हैं.

इस मामले से तेलंगाना में राजनीतिक तूफान आने की उम्मीद है, क्योंकि सत्तारूढ़ टीआरएस और बीजेपी एक-दूसरे के साथ आमने-सामने हैं. टीआरएस लोकसभा चुनाव 2024 में बीजेपी के खिलाफ काम करने के लिए एक राष्ट्रीय मोर्चा बनाने का प्रयास कर रही है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×