ADVERTISEMENTREMOVE AD

शहरी क्षेत्रों में घटा बेरोजगारी दर, लॉकडाउन के बाद से हालात थोड़े सुधरे

सर्वे में पता चला है कि शहरी इलाको में महिलाओं में बेरोजगारी दर जनवरी-मार्च 2021 में 11.8 प्रतिशत थी

Published
भारत
2 min read
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा

नेशनल स्टैटिस्टिकल ऑफिस (NSO) के सर्वे के मुताबिक शहरी क्षेत्रों में सभी उम्र के लोगों के लिए बेरोजगारी दर साल 2021 में जनवरी-मार्च में गिरकर 9.4 प्रतिशत रह गया. यह पिछले साल मार्च में देशव्यापी लॉकडाउन (Lockdown) लागू होने के बाद से सबसे कम है. लेकिन कोरोना (Covid) महामारी से पहले के 9.1 प्रतिशत के स्तर से ज्यादा है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

बेरोजगारी दर को लेबर फोर्स में बेरोजगार व्यक्तियों के प्रतिशत के रूप में परिभाषित किया जाता है , जो काम करने वाले और काम की तलाश करनेवालों को जोड़कर बनता है. सर्वे में दिखाया गया है कि अक्टूबर-दिसंबर 2020 में सभी उम्र के व्यक्तियों के लिए शहरी क्षेत्रों में करंट वीकली स्टेटस (CWS) की दर 10.3 प्रतिशत थी.

सर्वे में पता चला है कि शहरी इलाकों में महिलाओं में बेरोजगारी दर जनवरी-मार्च 2021 में 11.8 प्रतिशत थी. और अक्टूबर-दिसंबर 2020 में यह 13.1 प्रतिशत थी.

पुरुषों में शहरी इलाकों में यह दर जनवरी-मार्च 2021 में 8.7 प्रतिशत थी. अक्टूबर-दिसंबर 2020 में यह 9.5 प्रतिशत थी. एनएसओ ने अप्रैल 2017 में पीएलएफएस (PLFS) लॉन्च किया था.

उसी के आधार पर तिमाही बुलेटिन लाया जाता है. यह बेरोजगारी दर, लेबर पापुलेशन रेश्यो (WPR), लेबर फोर्स पार्टिसिपेशन रेट (LFPR),और सीडब्ल्यूएस में रोजगार और इंडस्ट्रीज में ब्रॉड पोजीशन के आधार पर लेबर के वितरण जैसे लेबर फाॅर्स इंडीकेटर्स (LFI) का अनुमान देता है.

सीडब्ल्यूएस के मुताबिक किसी को बेरोजगार तब माना जाता है, जब कोई सात दिनों तक किसी भी दिन एक घंटे के लिए भी काम नहीं करता है. लेकिन काम मांगता है या इसके लिए तैयार है.

लेबर फोर्स-सीडब्ल्यूएस के मुताबिक सर्वे की तारीख से पहले के एक सप्ताह में या तो नियोजित या बेरोजगार व्यक्तियों की संख्या होती है.

(न्यूज इनपुट्स - बिज़नेस स्टैण्डर्ड)

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×