ADVERTISEMENTREMOVE AD

गोरखपुर ग्राउंड रिपोर्ट: बाढ़ में बर्बाद घर और खेत, किन हालात में रह रहे लोग?

Gorakhpur Flood: योगी सरकार से क्या है बाढ़ पीड़ितों की मांग?

Published
भारत
2 min read
छोटा
मध्यम
बड़ा
ADVERTISEMENTREMOVE AD

गोरखपुर के शेरगढ़ गांव निवासी विजय बताते हैं कि बाढ़ से गांव के लोगों की पूरी फसल बर्बाद हो गई है.

जब बाढ़ आई, तो जिससे जो बन पाया, वो सामान लेकर घर से भागा. जिन लोगों के पक्के मकान थे, उन्होंने किसी तरह घर की छत पर रहने का इंतजाम किया. कई कच्चे मकान तो ढह गए, अब बाढ़ का पानी घटने के साथ लोग अपने घरों को लौट रहे हैं. ये लोग नाव के सहारे आते-जाते हैं.

0

प्रशासन से क्या मदद मिली?

गांव वालों के मुताबिक बाढ़ के दौरान नाव की व्यवस्था कर दी गई थी. राशन, मिट्टी का तेल और दवाई वगैरह बांटी गई है. स्थानीय महिलाओं ने बताया कि 10 दिन का राशन मिला है और बुखार की दवा बांटी गई है.

वहीं कई ग्रामीणों की शिकायत है कि एक बार राशन बांटने के बाद कोई भी उनकी खोज-खबर लेने नहीं आया कि वे लोग कैसे रह रहे हैं.

गोरखपुर के जिलाधिकारी विजय किरण आनंद ने क्विंट से बातचीत में जानकारी दी कि, 300 से ज्यादा गांव बाढ़ से प्रभावित हुए हैं. बाढ़ प्रभावित गांव के लिए 520 से ज्यादा नाव की व्यवस्था की गई. राशन किट बांटा गया है, जिसमें 10 से 15 दिन का राशन है. बाढ़ प्रभावितों के लिए राहत कार्य जारी हैं. बीमारियों से बचाव के उपाय किए जा रहे हैं.
ADVERTISEMENTREMOVE AD

बाढ़ का स्थाई समाधान चाहते हैं लोग

ग्रामीणों का कहना है कि हर साल बाढ़ आती है और कहर बरपाती है. बाढ़ में डूबने का खतरा बना रहता है, सांप-बिच्छू के काटने का खतरा रहता है. बाढ़ से मुक्ति के लिए या तो बांध का निर्माण कराया जाए या फिर उन्हें दूसरी ऊंची जगह बसा दिया जाए.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×