ADVERTISEMENTREMOVE AD

हल्द्वानी: मदरसे पर बुलडोजर एक्शन से भड़की हिंसा, आगजनी के बाद प्रशासन ने लगाया कर्फ्यू

Uttarakhand Violence| हल्द्वानी के बनभूलपुरा इलाके में प्रशासन की एक टीम कोर्ट के आदेश के बाद अतिक्रमण विरोधी अभियान के लिए गई थी.

Updated
भारत
3 min read
छोटा
मध्यम
बड़ा

उत्तराखंड (Uttrakhand) में गुरुवार, 8 फरवरी को हल्द्वानी (Haldwani) में तनाव की स्थिति पैदा हो गयी. हल्द्वानी के बनभूलपुरा इलाके के मलिका बगीचा स्थित मदरसे और मस्जिद पर प्रशासन के बुलडोजर एक्शन के बाद हिंसा भड़क गयी. यह मदरसा व मस्जिद कथित तौर पर नजूल भूमि पर बनी थी.

भीड़ ने कई गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया जबकि पुलिसकर्मियों कर प्रशासन के अधिकारियों पर भी पथराव की खबर है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

नैनीताल के डीएम ने बनभूलपुरा में कर्फ्यू लगा दिया है. हल्द्वानी में 9 फरवरी को सभी स्कूलों को बंद रखने का आदेश भी दिया गया है.

Uttarakhand Violence| हल्द्वानी के बनभूलपुरा इलाके में प्रशासन की एक टीम कोर्ट के आदेश के बाद अतिक्रमण विरोधी अभियान के लिए गई थी.

इलाके में कर्फ्यू का आदेश जारी

इस मामले पर सूबे के सीएम पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि

"हल्द्वानी के बनभूलपुरा इलाके में प्रशासन की एक टीम कोर्ट के आदेश के बाद अतिक्रमण विरोधी अभियान के लिए गई थी. वहां असामाजिक तत्वों ने पुलिस के साथ मारपीट की. कुछ पुलिसकर्मी और प्रशासनिक अधिकारियों को चोटें आईं. पुलिस और केंद्रीय बलों की अतिरिक्त कंपनियां वहां भेजी जा रही हैं. हमने सभी से शांति बनाए रखने की अपील की है. कर्फ्यू लगा हुआ है. आगजनी करने वाले दंगाइयों और अतिक्रमणकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी."
Uttarakhand Violence| हल्द्वानी के बनभूलपुरा इलाके में प्रशासन की एक टीम कोर्ट के आदेश के बाद अतिक्रमण विरोधी अभियान के लिए गई थी.
Uttarakhand Violence| हल्द्वानी के बनभूलपुरा इलाके में प्रशासन की एक टीम कोर्ट के आदेश के बाद अतिक्रमण विरोधी अभियान के लिए गई थी.
Uttarakhand Violence| हल्द्वानी के बनभूलपुरा इलाके में प्रशासन की एक टीम कोर्ट के आदेश के बाद अतिक्रमण विरोधी अभियान के लिए गई थी.

क्यों और कैसे भड़की हिंसा?

न्यूज एजेंसी एएनआई को डीजीपी अभिनव कुमार ने बताया कि, "आज शाम करीब 4 बजे जिला प्रशासन और पुलिस की संयुक्त टीम कोर्ट के आदेश पर बनभूलपुरा, हल्द्वानी में अतिक्रमण विरोधी अभियान चला रही थी, जिसका विरोध करते हुए कुछ असामाजिक तत्वों ने पथराव और आगजनी की. यह भी कहा जा रहा है कि अवैध हथियारों से पुलिस पर फायरिंग की गई... डीआईजी कुमाऊं तुरंत मौके पर पहुंचे और वहां अतिरिक्त पुलिस बल भी बुलाया गया है. राज्य सरकार ने भी गृह मंत्रालय से अतिरिक्त पुलिस बल की मांग की है.

उन्होंने आगे बताया कि, सीएम ने कुछ देर पहले अपने आवास पर एक आपातकालीन बैठक बुलाई. फिलहाल, स्थिति नियंत्रण में है. मेरे पास उपलब्ध जानकारी के अनुसार, कई पुलिस कर्मियों और प्रशासन के अधिकारियों को चोटें आई हैं और उन्हें घायल कर दिया गया है. अस्पतालों में भर्ती कराया गया है. अभी तक किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है. स्थिति तनावपूर्ण लेकिन नियंत्रण में है... आने वाले दिनों में घटना के पीछे के लोगों की पहचान की जाएगी और उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी."

बाद में पुलिस मुख्यालय के प्रवक्ता IG नीलेश आनंद भरणे ने एएनआई को बताया कि अर्धसैनिक बल की 4 कंपनियां हल्द्वानी के हिंसा प्रभावित इलाके में भेजी गई हैं. IG ने बताया कि ऊधमसिंह नगर से PAC की 2 कंपनियां हल्द्वानी पहुंच चुकी हैं.

(इनपुट: धर्मेंद्र राजपूत)

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

0
Published: 
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
×
×