ADVERTISEMENTREMOVE AD

उत्तराखंड में सामान्य से 21 फीसदी ज्यादा बारिश, पहाड़ों में क्यों 'बरस रहे आंसू'?

Uttarakhand में अत्यधिक बारिश के कारण भूस्खलन, इमारत ढहने और सड़कें बहने की घटनायें सामने आयी हैं.

Published
भारत
3 min read
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा

उत्तराखंड (Uttrakhand) में हाल ही में जानमाल के भारी नुकसान के लिए जिम्‍मेदारी भारी बारिश का कारण मानसून गर्त का उत्तर की ओर बढ़ना और कमजोर पश्चिमी विक्षोभ के साथ उसका टकराना माना जा रहा है. राज्‍य में अति वृष्टि के कारण भूस्खलन, इमारत ढहने और सड़कें बहने की घटनायें सामने आयी हैं.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

भारत मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार, मानसून गर्त, एक कम दबाव वाला क्षेत्र है जो पाकिस्तान से बंगाल की खाड़ी तक फैला है. यह मानसून परिसंचरण की एक अर्ध-स्थायी विशेषता है.

यह आमतौर पर सिंधु-गंगा के मैदानों के ऊपर से गुजरता है, लेकिन इसके उत्तर की ओर बढ़ने से यह हिमालय की तलहटी की ओर स्थानांतरित हो गया, जिससे क्षेत्र में भारी वर्षा हुई.

विशेषज्ञों का कहना है कि हिमालय और पूर्वोत्तर राज्यों में 7 अगस्त से भारी बारिश हुई है, जिससे उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश में मिट्टी ढीली हो गई, कटाव हुआ और अचानक बाढ़ आ गई.

इस अवधि में उत्तराखंड में 232.5 मिमी बारिश दर्ज की गई, जो सामान्य औसत 191.40 मिमी से 21 प्रतिशत अधिक है.

भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) के महानिदेशक एम. महापात्र ने कहा कि कमजोर पश्चिमी विक्षोभ ने क्षेत्र में भारी बारिश के प्रभाव को और बढ़ा दिया है.

हालांकि, उन्होंने यह भी भविष्यवाणी की कि मानसून गर्त के दक्षिण की ओर बढ़ने से अस्थायी रूप से पहाड़ियों में वर्षा कम हो जाएगी और पूर्व-मध्य भारत में वर्षा बढ़ जाएगी. मौसम के मिजाज में यह बदलाव मंगलवार से प्रभावी होने की उम्मीद है.

“मानसून गर्त अपनी सामान्य स्थिति के उत्तर में है. यह हिमालय की तलहटी के ऊपर है. इस क्षेत्र में पिछले एक सप्ताह से भारी बारिश हो रही है, इसलिए यह भी जमा हो गई है. रविवार को, एक कमजोर पश्चिमी विक्षोभ ने भी मानसून ट्रफ के साथ संपर्क किया और सोमवार को भी इसका संपर्क जारी है.

महापात्र ने कहा, "मानसून ट्रफ धीरे-धीरे अब अस्थायी रूप से दक्षिण की ओर स्थानांतरित हो जाएगा, जिससे पहाड़ियों पर वर्षा में कमी आएगी और पूर्व-मध्य भारत में वर्षा में वृद्धि होगी." उन्होंने भविष्यवाणी की कि मंगलवार से दोनों राज्यों में बारिश कम हो जाएगी.

पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के पूर्व सचिव एम राजीवन ने कहा, “मानसून विराम के दौरान मानसून गर्त उत्तर की ओर तलहटी के करीब चला जाता है जिससे पहाड़ियों और पूर्वोत्तर भारत में भारी बारिश होती है. नेपाल में भी अच्छी बारिश होती है. यह सामान्य रूप से अपेक्षित था.”

ADVERTISEMENTREMOVE AD

ब्रिटेन के रीडिंग यूनिवर्सिटी में नेशनल सेंटर फॉर एटमॉस्फेरिक साइंस और मौसम विज्ञान विभाग के मौसम विज्ञानी और अनुसंधान वैज्ञानिक अक्षय देवरस ने कहा, “ब्रेक-मानसून स्थितियों के दौरान, अधिकांश मानसून वर्षा गतिविधियां हिमालय की तलहटी पर केंद्रित हो जाती हैं, और कुछ हद तक हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड के ऊपर.

“साथ ही मध्य भारत जैसे देश के अन्य हिस्सों में शुष्क मौसम की स्थिति देखी जा रही है. यह कोई नई बात नहीं है और मानसून के अस्तित्व में आने के बाद से ही ऐसा होता आ रहा है. ग्लोबल वार्मिंग का विज्ञान स्पष्ट है कि यदि हम वायुमंडल में अधिक से अधिक ग्रीनहाउस गैसों, विशेष रूप से कार्बन डाई-ऑक्‍साइड का उत्सर्जन करना जारी रखते हैं, तो इससे हवा की अधिक से अधिक पानी धारण करने की क्षमता बढ़ जाएगी.

“अब, जब भी अनुकूल मौसम की स्थिति दिखाई देगी, उदाहरण के लिए, ब्रेक मानसून की स्थिति के मामले में, हवा वर्षा के रूप में बहुत अधिक जलवाष्प छोड़ेगी. इसका मतलब यह है कि ग्लोबल वार्मिंग के कारण सामान्य वर्षा की घटना के भारी या अत्यधिक भारी होने की संभावना बढ़ जाएगी.”

स्काईमेट वेदर के उपाध्यक्ष (मौसम विज्ञान एवं जलवायु परिवर्तन) महेश पलावत ने कहा कि अधिक गर्मी का मतलब है पर्यावरण में अधिक ऊर्जा, जिससे अधिक बारिश होगी.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×