अनुष्का के रिसेप्शन की बनारसी साड़ी में इनकी कारीगरी का है कमाल
विराट-अनुष्का की शादी में बनारस के मुअज्जम भी बहुत पॉपुलर हुए
विराट-अनुष्का की शादी में बनारस के मुअज्जम भी बहुत पॉपुलर हुएफोटो:विक्रांत दुबे

अनुष्का के रिसेप्शन की बनारसी साड़ी में इनकी कारीगरी का है कमाल

विराट-अनुष्का की शादी में बनारस के मुअज्जम भी बहुत पॉपुलर हो गए हैं. इनके बारे में जान लीजिए अनुष्का शर्मा के लाखों दीवानों में से एक हैं मुअज्जम. आप कहेंगे इसमें नया क्या है? ठीक है चलिए एक और खासियत अनुष्का और विराट की शादी से जुड़ी हर खबर को देखने के लिए मुअज्जम टीवी पर टकटकी लगाए बैठे थे. आप फिर कहेंगे इसमें भी कुछ नया नहीं है दूसरे लाखों करोड़ों लोगों का भी यही हाल था. चलिए तो फिर समझ लीजिए कि अनुष्का की साड़ी से इनका करीबी रिश्ता है.

दिल्ली में हुए शादी के रिसेप्शन में अनुष्का की जिस लाल खूबसूरत साड़ी पर सबकी निगाहें टिकीं थीं, वही साड़ी मुअज्जम की कारीगरी की कहानी कह रही थी. उनका चेहरा खुशी और गुरूर से चमक उठा क्योंकि उनकी 2 महीने की रातदिन मेहनत को दुनिया की वाहवाही मिल रही थी.

ये भी जरूर पढ़ें- विराट-अनुष्का शादी: मुंबई में रिसेप्शन ये होंगे शामिल

 बनारसी साड़ी बनाने वाले मकबूल हसन
बनारसी साड़ी बनाने वाले मकबूल हसन
फोटो:विक्रांत दुबे

अनुष्का की लाल साड़ी वाली फोटो जैसे ही सामने आईं, मुअज्जम ने बिना देर किए वो तमाम फोटो फेसबुक पर डाल दी और बताया कि इस साड़ी को तैयार करने वाले कारीगर वही हैं. फिर क्या था बनारस के इस कारीगर को पूरा देश जानने लगा. कुछ ही मिनट में सामान्य मुअज्जम अब अनुष्का की साड़ी वाले मुअज्जम बन गए.

अनुष्का की साड़ी बनाने वाले  मुअज्जम
अनुष्का की साड़ी बनाने वाले मुअज्जम
फोटो:विक्रांत दुबे

बनारसी साड़ी का सीक्रेट प्लान

वैसे तो बनारस की कारीगरी और खासतौर पर साड़ियों की पूरी दुनिया में पहचान है. लेकिन अनुष्का ने रिसेप्शन में बनारसी साड़ी पहनकर एक बार फिर इसे सुर्खियों में ला दिया है. लेकिन ये जानना बहुत जरूरी है कि ये बनारसी साड़ी कैसे तैयार हुई?

दिल्ली में हुए रिसेप्शन में अनुष्का ने बनारसी साड़ी पहनी 
दिल्ली में हुए रिसेप्शन में अनुष्का ने बनारसी साड़ी पहनी 
फोटो:Twitter

अनुष्का की साड़ी भी रातोंरात तैयार नहीं हुई. इसके लिए लंबी प्लानिंग थी. सबसे पहले डिजाइनरों ने तय किया कि वो शादी में बनारसी साड़ी पहनेंगी. लेकिन अब सबसे मुश्किल काम था बनारस के ढेरों कारीगरों के बीच सबसे उम्दा कारीगरों को सेलेक्ट करना.

मकबूल हसन को मिला साड़ी का काम

बनारस में पीलीकोठी के मक़बूल हसन 1966 से इस बिजनेस में हैं. उनका परिवार दो सौ सालों से साड़ी का काम कर रहा है. मक़बूल हसन के यहां ही ऐश्वर्या राय की साड़ी और अभिषेक की शेरवानी बनी थी. मक़बूल खुद बहुत उम्दा कारीगर हैं. उनके साथ ही काम करते हैं मुअज्जम अंसारी.

मुअज्जम को साड़ी के धंधे में आए सिर्फ पांच साल हुए 
मुअज्जम को साड़ी के धंधे में आए सिर्फ पांच साल हुए 
फोटो:विक्रांत दुबे

मुअज्जम को साड़ी के धंधे में आए सिर्फ पांच साल हुए. लेकिन इतने कम वक्त में ही उनका हाथ इतना सध गया है कि वो पूरे बनारस में मशहूर हो गए हैं. उनका काम बीस साल के पुराने कारीगरों को भी टक्कर देता है. मकबूल हसन को जब अनुष्का की साड़ी का ऑर्डर मिला तो उन्होंने मुअज्जम समेत तीन सबसे उम्दा कारीगरों की टीम बनाई. ये सबकुछ इतने सीक्रेट तरीके से हुआ कि किसी को इसकी भनक तक नहीं लगी.मकबूल हसन को दिल्ली के कॉटेज इम्पोरियम के जरिए इस साड़ी का ऑर्डर मिला था.

साड़ी के लिए छह महीने की प्लानिंग

प्लानिंग से लेकर साड़ी बनने में पूरे 6 महीने का वक्त लगा 
प्लानिंग से लेकर साड़ी बनने में पूरे 6 महीने का वक्त लगा 
फोटो:विक्रांत दुबे

विराट से शादी की तारीख तय होते ही डिजाइनरों ने प्लानिंग शुरू कर दी थी. इसका सबसे अहम हिस्सा था अनुष्का की जिंदगी के सबसे अहम मौके पर उन्हें सजाने संवारने का. तय हुआ कि दिल्ली के रिसेप्शन में अनुष्का बनारसी साड़ी पहनेंगी. उसके बाद शुरू हुई साड़ी के डिजाइन की तलाश. कई रंग और बनारसी डिजाइन में पास हुई सुर्ख लाल गुलाब के रंग की साड़ी जिसमें बनारस के पारंपरिक सुनहले कलर के बूटे की कढ़ाई वाली डिजाइन थी. साड़ी के रंग रूप को पसंद करने से लेकर फिनिश करने में छह माह लग लग.

दो महीने तक चला बुनाई और फिनिशिंग का काम 

60 दिन की लगातार मेहनत से तैयार हुई अनुष्का की बनारसी साड़ी
60 दिन की लगातार मेहनत से तैयार हुई अनुष्का की बनारसी साड़ी
फोटो:विक्रांत दुबे

अनुष्का की साड़ी की डिजाइन, रंग, कपड़ा फाइनल होने के बाद जरूरी काम था उसकी बुनाई का. हैण्डलूम से बनाई जाने वाली बनारसी साड़ी के एक एक धागे रंग और उस बूटे को गढ़ने में बहुत वक्त लगता है. दिन-रात काम के बाद करीब 45 दिन में साड़ी बुनी गई. इसके बाद 15 दिन उसको फिनिश करने में लगे. इस तरह 60 दिन की लगातार मेहनत से तैयार हुई अनुष्का की बनारसी साड़ी.

तीन सधे कारीगरों ने तैयार की साड़ी 

मुख्य कारीगर मुअज्जम समेत तीन कारीगरों के हुनर मंद हाथों ने इसे तैयार किया. 45 दिन की मेहनत के बाद जब साड़ी करघे से उतरी तो देखने वालों के मुह से वाह निकल गया

इस साड़ी में असली सोने की जरी का इस्तेमाल किया गया है
इस साड़ी में असली सोने की जरी का इस्तेमाल किया गया है
फोटो:विक्रांत दुबे

सिल्क और शिफॉन की साड़ी

इस साड़ी में सिल्क और शिफॉन का इस्तेमाल किया गया. इस कपड़े की खास बात ये है कि ये बहुत हल्के और नरम होते हैं, इसलिए साढ़ी बुनाई कढ़ाई के बाद भी बहुत हल्की होती है. इसका लुक बहुत चमकदार नहीं होता.

असली गोल्ड जरी का इस्तेमाल

इस साड़ी में असली सोने की जरी का इस्तेमाल किया गया है. इसमें एक एक बूटी को अलग अलग बनाया गया है. इसकी खास बात ये है कि इसे तीन लोग मिलकर ही बना पाते हैं. इसलिए जिस दिन एक भी कारीगर नहीं आया तो उस दिन बुनाई नहीं होती. मतलब साड़ी की गोल्ड जरी और बूटी के लिये तीनों कारीगरों जरूरी हैं.

सालों साल से बनारसी साड़ी शादी ब्याह में लोगों की पहली पसंद यूं ही नहीं है.