ADVERTISEMENT

नीतीश कुमार ने की जाति आधारित जनगणना की मांग, कहा- एक बार होनी जरूरी

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने एक बार फिर केंद्र सरकार से जातीय जनगणना पर पुनर्विचार करने की मांग की है.

Published
नीतीश कुमार ने की जाति आधारित जनगणना की मांग, कहा- एक बार होनी जरूरी
i

रोज का डोज

निडर, सच्ची, और असरदार खबरों के लिए

By subscribing you agree to our Privacy Policy

जाति आधारित जनगणना (Caste Based Census) को लेकर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने एक बार फिर केंद्र सरकार से पुनर्विचार करने की मांग की है. सीएम नीतीश कुमार ने 24 जुलाई को कहा कि जाति आधारित जनगणना से लोगों के विकास और कल्याण में मदद मिलेगी.

ADVERTISEMENT

कम से कम एक बार हो जाति आधारित जनगणना

नीतीश कुमार ने कहा कि हमने बिहार विधान मंडल में 18 फरवरी 2019 को और बिहार विधानसभा में 27 फरवरी 2020 को सर्वसम्मित से जातीय जनगणना का प्रस्ताव पास किया था. उस प्रस्ताव को केंद्र सरकार को भेजा गया था, हमारी मांग है कि कम से कम एक बार जातीय अधार पर केंद्र सरकार को जनगणना कराने के पक्ष में पुनर्विचार करना चाहिए.

"जातीय आधार की जनगणना से हमें सही संख्या का पता चल पाएगा और सरकार सही दिशा में काम कर पाएगी. जिससे ज्यादा लोग योजनाओं का लाभ लेने में सफल हो पाएंगे."
नितीश कुमार

इसी साल 17 फरवरी को नीतीश कुमार ने जाति आधारित जनगणना को लेकर मांग उठाई थी. उनका कहना है कि, "मैं जाति आधारित जनगणना को लेकर लंबे वक्त से मांग कर रहा हूं, यहां तक कि हमने बिहार विधानसभा और राज्य विधान परिषद से इसे मंजूरी मिलने के बाद केई बार केंन्द्र को प्रस्ताव भेजा है."

ADVERTISEMENT

जाति पर आधारित जनगणना पर केन्द्रीय गृह मंत्रालय की ओर से जबाब में यह कहा गया है कि जाति के वर्गीकरण से जुड़ी तमाम सूचना समाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय को प्रदान की गई है. ग्रामीण विकास मंत्रालय और तत्कालीन आवास और शहरी उन्मूलन मंत्रालय द्वारा समाजिक आर्थिक और जातिगत जनगणना 2011 को ग्रामीण और शहरी क्षेत्र में आयोजित की गई थी. जिसमें जाति को छोड़कर रिपोर्ट को MoRD और HUPA द्वारा प्रकाशित किया गया था.

2011 में हुई समाजिक-आर्थिक आधार पर हुई जनगणना को पूर्ण रूप देने में महापंजीयक कार्यालय ने सहायता प्रदान की थी.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
450

500 10% off

1620

1800 10% off

4500

5000 10% off

or more

प्रीमियम

3 माह
12 माह
12 माह

गणतंत्र दिवस स्पेशल डिस्काउंट. सभी मेंबरशिप प्लान पर 10% की छूट

मेंबर बनने के फायदे
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×