ADVERTISEMENT

Nitish Kumar ने शपथ लेते ही बताया 2024 का प्लान, BJP के खिलाफ विपक्ष से एक अपील

शपथ लेने के बाद नीतीश कुमार ने PM मोदी पर कटाक्ष करते हुए कहा कि 2014 में जीतने वाले 2024 में रहेंगे तब न.

Nitish Kumar ने शपथ लेते ही बताया 2024 का प्लान, BJP के खिलाफ विपक्ष से एक अपील

नीतीश कुमार ने बुधवार, 10 अगस्त को रिकॉर्ड आठवीं बार बिहार के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली और तेजस्वी यादव के आरजेडी और अन्य दलों के साथ मिलकर एक नए "महागठबंधन" के रूप में सरकार बनाई. राजभवन में सीएम के रूप में शपथ लेने के बाद, JD(U) नेता नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर कटाक्ष करते हुए कहा कि 2014 में जीतने वाले 2024 में रहेंगे तब न. बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा का नाम लिए बिना निशाने पर लेते हुए नीतीश कुमार ने कहा कि "कुछ लोग को लगता है कि विपक्ष खत्म हो जाएगा तो हम भी आ ही गए विपक्ष में. पूरे तौर पर मजबूत करेंगे विपक्ष को."

ADVERTISEMENT
"2024 है न अभी, सब एकजुट हो जाएं"
CM नीतीश कुमार

बता दें कि नड्डा ने हाल ही में क्षेत्रीय पार्टियों की ओर इशारा करते हुए कहा था कि सब मिट गए समाप्त हो गए, जो नहीं हुए हो जाएंगे. रहेगी तो बीजेपी ही.

नीतीश कुमार के बदले बोल बिहार में जनता दल (यूनाइटेड) -बीजेपी गठबंधन को खत्म करने और RJD के साथ-साथ सात दलों के 'महागठबंधन' की सरकार बनाने की घोषणा के एक दिन बाद आए हैं.

हालांकि नीतीश कुमार ने केंद्र में बीजेपी को सत्ता से बेदखल करने के लिए बार-बार "विपक्षी एकता की दिशा में काम करने" की बात कही, लेकिन नीतीश कुमार ने यहां संवाददाताओं से कहा कि वह प्रधानमंत्री पद की दौड़ में नहीं हैं.

2024 में प्रधानमंत्री पद की दावेदारी पर बिहार CM नीतीश कुमार ने कहा कि- नहीं, हमारी किसी भी पद के लिए कोई दावेदारी नहीं है. लेकिन जो 2014 में आए वो 2024 के बाद रह पाएंगे या नहीं?

हालांकि गौर करने की बात है कि NDA से नीतीश कुमार की इस बगावत को पॉलिटिकल एक्सपर्ट इस बात का सबूत मान रहे हैं कि अभी भी बीजेपी अजेय नहीं हुई है. उसका विपक्ष मुक्त भारत का सपना अभी साकार होता नहीं दिख रहा है. दूसरी तरफ भले ही अभी नीतीश कुमार 2024 के आम चुनावों के पीएम पद के लिए अपनी दावेदारी को नकार रहे हों, लेकिन उन्होंने उस दिशा में एक कदम बढ़ा दिया है. बीजेपी के साथ जाने से पहले भी नीतीश कुमार की राष्ट्रीय महत्वकांक्षाएं थीं.

"ये सरकार खूब चलेगी, कोई दिक्कत नहीं होगी"

बीजेपी के इस आरोप पर पलटवार करते हुए कि उन्होंने लोगों को धोखा दिया है और उनके जनादेश के साथ विश्वासघात किया है, नीतीश कुमार कहा, "मैं रहूं या न रहूं, लोगों को जो कहना है वह कहने दें"

नीतीश कुमार ने कहा कि "पिछले डेढ़ महीने से हम कोई बातचीत नहीं कर रहे थे. 2020 का जो चुनाव हुआ, उसमें जदयू के साथ क्या व्यवहार हुआ. सब लोग बोलते रहे, पार्टी की इच्छा थी तो एक हो गए"

बिना नाम लिए ही उन्होंने बीजेपी और आरसीपी सिंह पर कटाक्ष किया. नीतीश कुमार ने दावा किया कि "उनके चलते हमारी पार्टी में असंतोष था. ये सरकार (नई महागठबंधन की) खूब चलेगी. कोई दिक्कत नहीं होगी"

नीतीश कुमार ने बताया अटल जी और पीएम मोदी ने क्या है अंतर 

8वीं बार बिहार के मुख्यमंत्री बने नीतीश कुमार से जब अटल बिहारी वाजपेयी और पीएम मोदी के दौर के अंतर के बारे में पूछा गया तो वे पुराने दिनों को याद करने लगे. उन्होंने कहा कि "श्रद्धेय अटल बिहारी वाजपेयी जी के पास उस समय हम सब लोग जब गए थे जार्ज साहब के नेतृत्‍व में... वे कितना प्रेम करते थे... कितना मानते थे... वो हम कभी भूल सकते हैं... उस समय की बात ही दूसरी थी.'

उन्होंने आगे कहा कि "लेकिन उसके बाद जब हम दोबारा वहां (एनडीए में) गए तो क्‍या-क्‍या हुआ?...हमारे दल के सब लोगों से पूछ लीजिए"

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Published: 
Speaking truth to power requires allies like you.
Q-इनसाइडर बनें
450

500 10% off

1500

1800 16% off

4000

5000 20% off

प्रीमियम

3 माह
12 माह
12 माह
Check Insider Benefits
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×