त्रिपुरा में बीजेपी प्रभारी का बयान- बीफ पर बैन नहीं लगाएगी सरकार
त्रिपुरा में बीजेपी के प्रभारी सुनील देवधर ने कहा है कि बीजेपी सरकार त्रिपुरा में बीफ पर बैन नहीं लगाएगी.
त्रिपुरा में बीजेपी के प्रभारी सुनील देवधर ने कहा है कि बीजेपी सरकार त्रिपुरा में बीफ पर बैन नहीं लगाएगी.फोटो: ANI

त्रिपुरा में बीजेपी प्रभारी का बयान- बीफ पर बैन नहीं लगाएगी सरकार

देशभर में बीफ बैन पर जारी बहस के बीच त्रिपुरा में बीजेपी के प्रभारी सुनील देवधर ने एक बड़ा बयान दिया है. देवधर ने कहा है कि बीजेपी सरकार त्रिपुरा में बीफ पर बैन नहीं लगाएगी. उनसे राज्य में बीफ बैन को लेकर सवाल किया गया, तो उन्होंने कहा 'किसी राज्य में अगर बहुसंख्यक लोग नहीं चाहते हैं, तो वहां की सरकार बीफ पर बैन नहीं लगाएगी.'

मंगलवार को त्रिपुरा में बीजेपी प्रभारी सुनील देवधर ने कहा:

“किसी राज्य में अगर बहुसंख्यक लोग नहीं चाहते हैं, तो वहां की सरकार बीफ पर बैन लगाएगी. नॉर्थ-ईस्ट के राज्यों में बहुसंख्यक लोग उसे खाते हैं, तो वहां की सरकार उस पर प्रतिबंध नहीं लगाती. यहां पर ज्यादातर मुसलमान और ईसाई हैं, कुछ हिन्दू ऐसे भी हैं, जो ये मांस खाते हैं. तो मुझे ऐसा लगता है कि उस पर कोई बैन नहीं होना चाहिए, इसलिए वहां बैन नहीं है.”
सुनील देवधर, बीजेपी प्रभारी, त्रिपुरा

त्रिपुरा में जीत के बाद हाल ही में एक न्यूज चैनल से बातचीत में सुनील देवधर ने कहा था कि राज्य में बीजेपी की स्थिति को मजबूत करने और संगठन खड़ा करने के लिए उन्होंने खुद पर बहुत काम किया. यहां तक कि अपने खान-पान की आदतों तक में भी बदलाव करते हुए उन्हें यहां पोर्क यानी सूअर का मांस भी खाना पड़ा.

बीफ को लेकर होती रही है राजनीति

2014 में केंद्र में एनडीए की सरकार बनने के बाद से ही बीफ को लेकर देश में काफी शोर-शराबा मचा हुआ है. बीजेपी की तरफ से कई बार बीफ बैन के पक्ष में बातें कही जाती रही हैं. बीफ खाने को लेकर विरोधी दल बीजेपी पर ये कहते हुए हमला करते रहे हैं कि कई राज्यों में अभी भी लोग बीफ खाते हैं, ऐसे में बीजेपी कानून लाकर पूरे देश में बीफ को क्यों नहीं बैन कर देती?

बीजेपी के त्रिपुरा प्रभारी सुनील देवधर नवंबर 2014 में राज्य के प्रभारी बनाए गए थे. त्रिपुरा में बीजेपी की जीत में देवधर अहम भूमिका मानी जा रही है. हाल ही में हुए चुनाव में त्रिपुरा में BJP ने बड़ी जीत दर्ज करते हुए 25 साल से सत्ता पर काबिज CPI (M) को हराकर सरकार बनाई है.

ये भी पढ़ें - बीफ खाओ या ‘किस’ करो, पर इसका उत्सव क्यों मनाते हो: वेंकैया नायडू

(क्विंट हिंदी के वॉट्सऐप चैनल से जुड़ने के लिए यहां क्लिक कीजिए.)