राहुल और चंद्रबाबू का रिश्ता पक्का-आंध्र, तेलंगाना में साथ उतरेंगे
राहुल गांधी और चंद्रबाबू नायडू साथ-साथ
राहुल गांधी और चंद्रबाबू नायडू साथ-साथ(फोटो: ANI)

राहुल और चंद्रबाबू का रिश्ता पक्का-आंध्र, तेलंगाना में साथ उतरेंगे

2019 के आम चुनावों से पहले बीजेपी विरोधी दलों को एक मंच पर लाकर महागठबंधन खड़ा करने की रस्साकशी जारी है. कांग्रेस की कोशिशें धीमी पड़ीं, तो आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने खुद मोर्चा संभाल लिया है. चंद्रबाबू ने कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात करने के बाद कहा कि देश को BJP से बचाना हमारा लक्ष्‍य है.

विपक्षी दलों को एकजुट करने की कोशिशों में वह हफ्तेभर में दूसरी बार दिल्ली दौरे पर हैं. गुरुवार को उन्होंने राजधानी दिल्ली में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की.

प्रेस कॉन्फ्रेंस में राहुल गांधी ने कहा-

  • पहले हम एकसाथ आएंगे, लीडरशिप की चर्चा बाद में होगी
  • पूरे विपक्ष को साथ मिलकर काम करना होगा अगर देश बचाना है
  • राफेल डील में भ्रष्टाचार हुआ है इसमें कोई शक नहीं है
  • राफेल की जांच हुई तो पता लग जाएगा कि पैसा कहां गया
  • नायडू जी और हमारी बात हुई, हम सब मिलकर बीजेपी को हराएंगे
  • बीजेपी देश के संस्थानों और लोकतंत्र संविधान पर हमला कर रही है
  • युवाओं के सामने सबसे बड़े मुद्दे पर निपटेंगे

प्रेस कॉन्फ्रेंस में चंद्रबाबू नायडू ने कहा-

  • कई लोगों को हमारी पुरानी बातों से संदेह होगा लेकिन यकीन करिए देश की खातिर हम एक साथ आ रहे हैं
  • बीजेपी के खिलाफ सभी पार्टियों को साथ लाएंगे
  • मैं राजनीति में 40 साल से हूं, मैंने अपने जीवन में ऐसी सरकार नहीं देखी जो तमाम संस्थानों को खत्म करने में जुटी है
  • भविष्य के लिए हम सब मिलकर बीजेपी के खिलाफ अभियान चलाएंगे
  • कांग्रेस पार्टी मुख्य विपक्षी पार्टी है. उसका साथ जरूरी है
  • जल्द ही सभी विपक्षी पार्टियों की दिल्ली में मीटिंग होगी

राहुल से पहले पवार और फारूक अब्दुल्ला से मिले नायडू

लोकसभा चुनाव से पहले महागठबंधन या यूं कहे कि बीजेपी को हराने के लिए विपक्षी पार्टियों की कवायद तेज हो गई है. टीडीपी अध्यक्ष और आंध्र प्रदेश के सीएम चंद्रबाबू नायडू ने दिल्ली में एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार और नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला से मुलाकात की. इस मौके पर कांग्रेस नेता गुलाम नबी अाजाद भी मौजूद थे.

इस मुलाकात के बाद नायडू ने कहा,

हमने दिल्ली में मुलाकात इसलिए की ताकि हम देश और लोकतंत्र को बचाने का एक प्लान बना सकें. देश को बचाना हमारा लक्ष्य है, इसलिए गैर-बीजेपी दलों के नेताओं को साथ आना होगा.
चंद्रबाबू नायडू, आंध्र प्रदेश के सीएम 
  • 02
    फारुक अबदुल्ला से मिले चंद्रबाबू नायडू
    फारुक अबदुल्ला से मिले चंद्रबाबू नायडू(फोटो: ANI)
  • 01
    शरद पवार से मिले चंद्रबाबू नायडू
    शरद पवार से मिले चंद्रबाबू नायडू(फोटो: ANI)

चंद्र बाबू नायडू ने कहा, “CBI से लकेर RBI तक सब कुछ बुरे दौर से गुजर रहा है. देश बुरे दौर से गुजर रहा है. हम सब एक दूसरे से मिलकर आगे की तैयारी के लिए मिल रहे हैं. हमे इपने देश के भविष्य को बचाना है. बीजेपी के खिलाफ हम सब साथ खड़े हैं.”

नायडू का हफ्तेभर में दूसरा दिल्ली दौरा

चंद्रबाबू नायडू का हफ्ते भर में यह दूसरा दिल्ली दौरा है. इससे पहले वह बीते 27 अक्तूबर को दिल्ली पहुंचे थे. तब उन्होंने बीएसपी चीफ मायावती, समाजवादी नेता शरद यादव, आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल और जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारुक अब्दुल्ला समेत विपक्षी दलों के अन्य नेताओं से मुलाकात कर महागठबंधन पर मंथन किया था.

महागठबंधन के लिए बीजेपी विरोधी दलों को मनाने की कोशिश

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने मीडिया से मुखातिब होते हुए कहा था कि विपक्षी दलों की राजनीतिक और वैचारिक मजबूरियां हो सकती हैं लेकिन उन्हें लोकसभा चुनावों में बीजेपी को हराने के लिए 'क्या सही है' इस आधार पर आगे बढ़ना होगा.

नायडू ने नरेंद्र मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा था कि लोग धोखा महसूस कर रहे हैं और विपक्षी दलों को देश के समग्र हित में साथ आने के रास्ते तलाशने चाहिए.

नायडू ने बीते 27 अक्तूबर को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और लोकतांत्रिक जनता दल के नेता शरद यादव से मुलाकात की थी. उन्होंने 2019 लोकसभा चुनाव के लिए बीजेपी सरकार के खिलाफ महागठबंधन खड़ा करने के अपने प्रयास में यह मुलाकात की थी.

नायडू से जब यह पूछा गया कि क्या वह तीसरे मोर्चे के संयोजक हो सकते हैं, इस पर नायडू ने स्पष्ट जवाब नहीं दिया, हालांकि उन्होंने कहा कि गठबंधन सरकारों ने अच्छा काम किया है और उनकी नीतियां बहुत स्पष्ट थीं.

हालांकि, राजनीतिक और वैचारिक मजबूरियां हैं... लेकिन फिर भी हमें कुल मिलाकर राष्ट्र हित के लिए साथ आना होगा.
चंद्र बाबू नायडू

राष्ट्रीय मोर्चा और संयुक्त मोर्चे की सरकारों समेत केंद्र में गठबंधन की सरकारों के बारे में उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक पूर्ण बहुमत वाली सरकार चला रहे हैं लेकिन यह राष्ट्र के लिए बहुत खराब है.

ये भी पढ़ें : महागठबंधन में सीटों के लिए हम 'भीख' नहीं मांगेंगे : मायावती

(यहां क्लिक कीजिए और बन जाइए क्विंट की WhatsApp फैमिली का हिस्सा. हमारा वादा है कि हम आपके WhatsApp पर सिर्फ काम की खबरें ही भेजेंगे.)

Follow our पॉलिटिक्स section for more stories.

    वीडियो