ADVERTISEMENTREMOVE AD

जालंधर उपचुनाव पर अमृतपाल सिंह का कितना असर होगा? ये 2 फैक्टर नतीजे बदल सकते हैं

Jalandhar Bypoll को कई लोग Amritpal Singh पर हुई कार्रवाई पर जनता के फैसले के रूप में देख रहे हैं.

Published
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

'वारिस पंजाब दे' के प्रमुख अमृतपाल सिंह की गिरफ्तारी (Amritpal Singh Arrest) के बाद, जालंधर लोकसभा क्षेत्र के लिए आगामी उपचुनाव (Jalandhar Bypoll 2023) को इस पूरी कार्रवाई पर एक तरह से जनमत संग्रह के रूप में देखा जा रहा है. जहां आम आदमी पार्टी की सरकार को उम्मीद है कि जनता इस मामले से निपटने में उसके समर्थन का समर्थन करेगी, वहीं उसके विरोधियों को लगता है कि सत्ता पक्ष के खिलाफ प्रतिक्रिया हो सकती है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

बेशक उपचुनाव में यह एक बड़ा मुद्दा होगा. हालांकि, अंतिम चुनावी नतीजे सीट के जनसांख्यिकीय (आबादी में अलग-अलग समुदाय का हिस्सा) समीकरण के साथ-साथ विभिन्न राजनीतिक दलों के मैनजमेंट पर भी निर्भर करेंगे.

इस साल की शुरुआत में कांग्रेस सांसद संतोख सिंह चौधरी के निधन के कारण इस सीट पर उपचुनाव जरूरी हो गया था.

जालंधर के चुनावी मैदान में पांच प्रमुख पार्टियां हैं- कांग्रेस, AAP, अकाली-BSP गठबंधन, बीजेपी और शिरोमणि अकाली दल-अमृतसर.

इस आर्टिकल में हम इन तीन पहलुओं पर गौर करेंगे:

  1. इस चुनाव में जनसांख्यिकी इतना महत्वपूर्ण फैक्टर क्यों है?

  2. उपचुनाव में अमृतपाल सिंह का मुद्दा क्या भूमिका निभा सकता है?

  3. सूक्ष्म स्तर पर हर पार्टी की स्थिति कैसी है?

1. इस चुनाव में जनसांख्यिकी इतना महत्वपूर्ण फैक्टर क्यों है?

जालंधर लोकसभा क्षेत्र में पूरा जालंधर जिला शामिल है. यह धार्मिक और जाति दोनों दृष्टिकोण से एक विषम निर्वाचन क्षेत्र है.

इस सीट पर करीब 39 फीसदी आबादी दलितों की है. ये स्वयं एक विविध/डाइवर्स समूह हैं, जिनमें रविदासिया, अद धर्मी, रामदसिया, मजहबी और बाल्मीकि शामिल हैं.

कई दलित मतदाता न तो खुद को हिंदू और न ही सिख मानते हैं.

इस सीट पर दलित और गैर-दलित दोनों तरह के सिख लगभग 33 प्रतिशत हैं.

उच्च जाति के हिंदू यहां की आबादी के 20 प्रतिशत हैं और वे जालंधर शहर में भारी रूप से केंद्रित हैं.

सीट पर ईसाई मतदाताओं की एक छोटी लेकिन बढ़ती संख्या भी है.

इसका मतलब है कि यहां की जनसांख्यिकी चुनाव में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है क्योंकि केवल वे दल जो सीट में तीन प्रमुख समूहों - दलित, जाट सिख और उच्च जाति हिंदू - से वोट प्राप्त करने में सक्षम हैं - सीट जीत सकते हैं.

यही कारण है कि यह सीट कांग्रेस का गढ़ रही है, जिसका पंजाब में मुख्य आधार दलित और उच्च जाति के हिंदू मतदाताओं के बीच है.

कांग्रेस ने अब तक 19 में से 15 बार यह सीट जीती है.

इसने जालंधर को केवल बहुत ही असाधारण परिस्थितियों में खोया है- 1977 और 1996 की कांग्रेस विरोधी लहरों के दौरान शिरोमणि अकाली दल जीती, जबकि 1989 और 1998 में जब अकालियों ने चतुराई से कांग्रेस के गठबंधन को तोड़ने के लिए जनता दल के नेता इंद्र कुमार गुजराल का समर्थन किया था.

सीट पर सभी समुदायों के समर्थन की पार्टी की आवश्यकता को देखते हुए, यह कांग्रेस और आप जैसी 'कैच-ऑल' पार्टियों को लाभ देता है.

0

इन दोनों के अलावा अन्य पार्टियां एक या दूसरे सामाजिक समूह के बीच कमजोर हैं - SAD-BSP गठबंधन उच्च जाति के हिंदू मतदाताओं में चौथे पर होगा, बीजेपी को जट्ट सिख मतदाताओं के बीच एक गंभीर समस्या है और SAD-अमृतसर हिंदुओं और दलित वोटरों- दोनों के बीच कमजोर हो सकता है.

2. चुनाव में अमृतपाल सिंह मामले की क्या भूमिका हो सकती है?

ग्राउंड रिपोर्ट्स बताती हैं कि पिछले एक महीने में हुई कार्रवाई के कारण पंथिक सिखों का एक बड़ा वर्ग AAP से अलग हो गया होगा. जो लोग अमृतपाल सिंह से सहमत नहीं हैं, उनमें से कई को यह भी लगता है कि अमृतपाल को उसके द्वारा किए गए कथित अपराधों की तुलना में कहीं अधिक दंडित किया गया है.

आप ने बार-बार इस बात पर जोर देकर इस तबके को शांत करने की कोशिश की है कि 'कार्रवाई में एक भी गोली नहीं चली' और अमृतपाल सिंह को गिरफ्तार करते समय रोडे में गुरुद्वारे की पवित्रता बनाए रखी गई थी.

हालांकि, यह दावे से पंथिक सिखों के बीच AAP को होने वाले संभावित नुकसान के रुकने की संभावना नहीं है. जबकि इस वर्ग ने 2022 के विधानसभा चुनावों में इसे वोट दिया था.

दूसरी तरफ कांग्रेस, जो पंथिक सिखों की पारंपरिक पसंद नहीं है, वह अमृतपाल सिंह की कार्रवाई पर अपनी स्थिति में कुछ बारीकियों को सामने रखकर इस वर्ग को लुभाने की कोशिश कर रही है.

ADVERTISEMENT

अमृतपाल सिंह की पत्नी को भारत से बाहर जाने से रोकने के लिए सुरक्षा एजेंसियों की आलोचना करने वाले पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री चरनजीत चन्नी के बयान को कई पंथ समर्थक मतदाताओं ने पसंद किया है. चन्नी ने कहा कि बेटियां सबकी होती हैं और उन्हें इस विवाद में नहीं घसीटना चाहिए.

चन्नी यहां की उच्च दलित आबादी के कारण भी इस सीट पर कांग्रेस के एक प्रमुख प्रचारक के रूप में उभरे हैं.

हालांकि, पंथ समर्थक सिखों की बात करें तो, यह पिछले साल संगरूर उपचुनाव की तरह स्पष्ट लड़ाई नहीं है. सिद्धू मूस वाला की हत्या के बाद, शिरोमणि अकाली दल-अमृतसर प्रमुख सिमरनजीत सिंह मान के पीछे पूरा पंथ समर्थक सिख वर्ग एकजुट हो गया था. यह सिमरनजीत सिंह मान और AAP के बीच दोतरफा लड़ाई बन गई, जिसमें सिमरनजीत सिंह मान की जीत हुई.

जालंधर में शिरोमणि अकाली दल-मान ने गुरजंत कट्टू को मैदान में उतारा है, लेकिन ऊपर चर्चा की गई जनसांख्यिकीय कारकों के कारण वो सीट पर एक गंभीर विकल्प नहीं हैं. कांग्रेस को परंपरागत रूप से एक विरोधी के रूप में देखा जाता रहा है, इसलिए यह देखना बाकी है कि क्या चन्नी और सुखपाल खैरा जैसे नेताओं के प्रयास इस वर्ग को चतुराई से पार्टी में स्थानांतरित कर देंगे.

दूसरा विकल्प शिरोमणि अकाली दल-BSP गठबंधन है, जिसकी लगभग पांच क्षेत्रों में मजबूत उपस्थिति थी, लेकिन चार में कमजोर है.
ADVERTISEMENTREMOVE AD

3: जमीनी स्तर पर हर पार्टी की स्थिति कैसी है?

चन्नी के नेतृत्व में, कांग्रेस ने 2022 में AAP लहर के बीच भी जालंधर में नौ विधानसभा क्षेत्रों में से पांच जीतने में कामयाबी हासिल की थी. कांग्रेस का वोट शेयर 33% था जो AAP से लगभग पांच प्रतिशत अधिक था.

यह महसूस करते हुए कि यह नुकसान में है, AAP ने घाटे को पूरा करने के लिए कुछ रणनीतियां अपनाई हैं.

AAP ने जालंधर पश्चिम से कांग्रेस के पूर्व विधायक सुशील कुमार रिंकू को उपचुनाव में अपना उम्मीदवार बनाया है. जालंधर पश्चिम AAP के लिए एक मजबूत क्षेत्र के रूप में उभर रहा है, बीजेपी उम्मीदवार मोहिंदर भगत भी AAP में शामिल हो रहे हैं. भगत ने सीट पर 28 प्रतिशत वोट हासिल किए और भगत समुदाय में उनकी मजबूत पकड़ है, जिसकी क्षेत्र में अच्छी खासी उपस्थिति है.

सीट पसमीकरण सही करने के लिए AAP ने जालंधर छावनी से अकाली दल के नेता जगबीर बराड़ को भी साथ लाया है और एक नवगठित ईसाई पार्टी का समर्थन हासिल किया है. कांग्रेस दिवंगत सांसद संतोख सिंह चौधरी के लिए सहानुभूति पर भरोसा कर रही है और उनकी पत्नी करमजीत कौर चौधरी को मैदान में उतारा है.
ADVERTISEMENT

पांच विधायक होना कांग्रेस के लिए एक बड़ा फायदा है. इसमें फिल्लौर से स्वर्गीय संतोख सिंह चौधरी के पुत्र विक्रमजीत सिंह चौधरी, शाहकोट से हरदेव लड्डी के अलावा जालंधर छावनी से वरिष्ठ नेता परगट सिंह और जालंधर उत्तर से अवतार सिंह जूनियर उर्फ ​​बावा हेनरी और आदमपुर से पूर्व BSP नेता सुखविंदर सिंह कोटली शामिल हैं.

नकोदर और जालंधर पश्चिम कांग्रेस के लिए सबसे कमजोर सीट हैं.

SAD-BSP गठबंधन ने बंगा से SAD विधायक डॉ. सुखविंदर सुखी को मैदान में उतारा है, जो अपने क्षेत्र के बेहद सम्मानित व्यक्ति हैं. लेकिन दुर्भाग्य से उनके लिए, बंगा जालंधर लोकसभा क्षेत्र के अंतर्गत नहीं आता है. SAD-BSP गठबंधन दलित और जाट सिख वोटों का एक बड़ा हिस्सा पाने की उम्मीद कर रहा है, ताकि उच्च जाति के हिंदू बहुल क्षेत्रों में उनकी कमजोरी की भरपाई की जा सके. SAD-BSP गठबंधन उन क्षेत्रों पर भी ध्यान केंद्रित कर रहे हैं जहां उन्होंने हारने के बावजूद 2022 के चुनावों में काफी अच्छा प्रदर्शन किया.

नकोदर में, SAD-BSP गठबंधन SAD के वडाला परिवार की उपस्थिति के कारण अच्छी स्थिति में है और यहां मुकाबला उनके और AAP के बीच हो सकता है.

SAD-BSP चार अन्य ग्रामीण क्षेत्रों फिल्लौर, शाहकोट, करतारपुर और आदमपुर में अच्छा खासा वोट हासिल करने की उम्मीद कर रहे हैं.

बीजेपी के दो भारी हिंदू बहुल शहरी विधानसभा क्षेत्रों - जालंधर सेंट्रल और जालंधर नॉर्थ में अपनी उपस्थिति दर्ज कराने की संभावना है. बीजेपी ने अकाली दल से पार्टी में शामिल हुए इंदर इकबाल अटवाल को मैदान में उतारा है. उनके पिता चरणजीत सिंह अटवाल लोकसभा के डिप्टी स्पीकर थे. इकबाल अटवाल ने 2019 में SAD उम्मीदवार के रूप में संतोख सिंह चौधरी के खिलाफ चुनाव लड़ा था और हार गए थे.

बीजेपी कांग्रेस, आप और अकाली-BSP के रविदासिया उम्मीदवारों के खिलाफ एक मजहबी सिख उम्मीदवार को मैदान में उतारकर एक दिलचस्प प्रयोग करने की कोशिश कर रही है.

अकाली-अमृतसर ने अपने दलित चेहरे गुरजंट कट्टू को मैदान में उतारा है, जो मजहबी सिख भी हैं. वह बरनाला जिले के मेहल कलां से पार्टी के उम्मीदवार थे और उन्होंने 20 प्रतिशत वोट हासिल कर संतोषजनक प्रदर्शन किया था. जालंधर में, हालांकि, वह एक बाहरी व्यक्ति हैं. अकाली-अमृतसर पूरी तरह से अमृतपाल सिंह की कार्रवाई के बाद भावनात्मक वोट पर निर्भर है. हालांकि, सीट की जनसांख्यिकी उनके पक्ष में नहीं है.

जालंधर उपचुनाव का नतीजा केवल अमृतपाल सिंह पर कार्रवाई के सार्वजनिक दृष्टिकोण को प्रतिबिंबित नहीं करेगा. बल्कि आप सरकार की लोकप्रियता या उसकी कमी और पारंपरिक पार्टियों कांग्रेस और SAD के पुनरुत्थान या गिरावट को भी दर्शाएगा.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENTREMOVE AD
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
×
×