ADVERTISEMENTREMOVE AD

लखीमपुरी खीरी हिंसा: प्रियंका गांधी ने पुलिस हिरासत में लगाई झाड़ू

कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी को सीतापुरी में पुलिस हिरासत में हैं

छोटा
मध्यम
बड़ा

लखीमपुरी खीरी हिंसा के बाद घटना स्थल पर जा रही कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी को पुलिस ने हिरासत में ले रखा है. प्रियंका को जिस कमरे में रखा गया है, उसमें वो झाड़ूं लगाती नजर आईं. एक वीडियो सामने आया है, जिसमें प्रियंता झाड़ू लगाती हुई नजर आ रही हैं. प्रियंका ने हिरासत में सत्याग्रह शुरू किया है और कह रही हैं कि उनक एक ही मांग है किसानों से मिले बिना नहीं जाऊंगी.

कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने अपने नेता को साफ-सुथरा कमरा तक नहीं देने पर पुलिस अधिकारियों की खिंचाई की. एक स्थानीय कांग्रेस नेता ने कहा, "क्या यह उनका स्वच्छ भारत है? यह हमारे नेता हैं जो बिना किसी शिकायत के झाड़ू से कमरे को साफ कर रही हैं."
ADVERTISEMENTREMOVE AD

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा को उत्तर प्रदेश के सीतापुर जिले के हरगांव से उस वक्त हिरासत में ले लिया गया है, जब वह लखीमपुर खीरी जा रही थीं. रविवार को हुई हिंसा में 9 लोगों की मौत हो गई है.

सोमवार की सुबह करीब छह बजे जैसे ही प्रियंका सीतापुर जिले के हरगांव पहुंची तो उन्हें रोक लिया गया. महिला कांस्टेबल से हाथापाई के बाद प्रियंका ने गिरफ्तारी वारंट देखने की मांग की.

पुलिस कर्मियों ने उन्हें हिरासत में ले लिया और उन्हें जिले के पीएसी कार्यालय ले जाया गया. प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा,

मैं घर से बाहर कदम रखकर कोई अपराध नहीं कर रही हूं. मैं सिर्फ पीड़ित परिवारों से मिलना चाहती हूं और उनका दुख बांटना चाहती हूं. मैं क्या गलत कर रही हूं? और अगर मैंने कुछ गलत किया है, तो आप (यूपी पुलिस) के पास आदेश और वारंट होना चाहिए. आप मुझे, मेरी कार को रोक रहे हैं, लेकिन किस कारण से?"

कृषि कानूनों के खिलाफ हो रहे विरोध-प्रदर्शन के दौरान उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी (Lakhimpur Kheri) में रविवार को हिंसा भड़क उठी. किसानों का आरोप है कि विरोध प्रदर्शन के दौरान केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी (Ajay Mishra Teni) के बेटे आशीष उर्फ मोनू और उसके समर्थकों ने किसानों पर गाड़ियां चढ़ा दीं. जिसमें चार किसानों की मौत हो गई, जबकि कई घायल हैं.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×